CID और CBI क्या है | CID और CBI की Full Form क्या है?

CID और CBI क्या है और इन दोनों में क्या अंतर है, क्या आप इसके बारे में जानना चाहते है| आप लोग अक्सर न्यूज़, और अख़बार के जरिये इनके बारे में सुनते रहते होंगे| तो आप सोच रहे होंगे की दोनों काम तो लगभग एक जैसा ही करती है तो क्या इनके बीच कोई अंतर है या नहीं| यह दोनों एजेन्सिया काम एक जैसा ही करती है लेकिन कई मायनो में यह एक दूसरे से काफी अलग है|

हम सभी जानते है की भारत की जनसँख्या लगातार बढ़ती जा रही है और इस बढ़ती हुयी जनसँख्या के साथ साथ क्राइम भी बढ़ते जा रहे है हम यह नहीं कहते की सिर्फ भारत में ही क्राइम हो रहे है बल्कि दुनिया के हर देश में क्राइम रेट में बड़ी\बढ़ोतरी हो रही है| और पिछले कुछ सालो में तो महिलाओं के खिलाफ अपराध काफी तेज़ी से बढ़ रहे है| और हर देश चाहता है की उसके देश में ऐसी घटना पर दोकथम लगाई जाये और ऐसा करने के लिए कुछ ख़ास एजेन्सिया बनाई जाती है| इसी लिए भारत में भी 2 ख़ास एजेन्सिया बनाई गई है CBI और CDI. CBI और CDI क्या होती है और उनमें क्या अंतर है इसके बारे में हम आपको बताएँगे|

CBI क्या है? CBI की Full Form क्या है?

CBI की फुल फॉर्म Central Bureau of Investigation होती है और इसे हिंदी भाषा में केंद्रीय जांच ब्यूरो भी कहते है| CBI एजेंसी की स्थापना करने की सिफारिश भ्रष्टाचार की रोकथाम के लिए गठित “संथानम समिति” की सिफारिश पर गृह मंत्रालय के अंतर्गत 1963 में गई थी इसका मुख्यालय नई दिल्ली में है| CBI ने वर्तमान में अपने 3 और क्षेत्रीय प्रशिक्षण केंद्र बनाये है जो कि मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में है और वर्तमान में CBI के Director Rishi Kumar Shukla है| CBI में शामिल होने के लिए SSC की परीक्षा को पास करना होता है उसके बाद ही CBI में शामिल हुआ जा सकता है| 

Central Bureau of Investigation के नाम से पता चलता है कि यह केंद्रीय जांच एजेंसी है और यह पुरे भारत देश की एजेंसी है जो क़ी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होने वाले अपराधों जैसे  कि घोटालों, हत्या, भ्रष्टाचार और राष्ट्रीय हितो से संबंधित मामलों की भारत सरकार के लिए जांच करती है| अपराधों जैसे कि घोटाले, हत्या, भ्रष्टाचार जैसे मामलो की भारत के लिए जाँच करती है| ऐसे ही हर देश में  उसे देश के लिए ऐसे मामलो की जांच करती है| 

CBI को जांच करने भारत सरकार, राज्य सरकार से सहमति लेती है फिर उसके बाद CBI को जांच करने के लिए कहा जाता है| इसके अलावा उच्च न्यायालय  और सर्वोच्च न्यायालय के पास इतनी अथॉरिटी होती है कि वह बिना राज्य सरकार के अनुमति के CBI को मामले की जांच करने के लिए कह सकती है|

CID क्या है? CID की Full Form क्या है?

CID की फुल फॉर्म Crime Investigation Department है और CID की स्थापना 1902 में ब्रिटिश सरकार द्वारा की गई थी| CID केवल राज्य सरकार की जांच एजेंसी है या फिर हम यह भी कह सकते है को किसी भी राज्य में हों रहे अपराधों जैसे की हत्या, चोरी, घोटाले, भ्रष्टाचार या किसी भी प्रकार के अपराधों की जांच करने के लिए जांच की जिम्मेदारी CID को दी जाती है| 

CID एक प्रदेश की पुलिस का एक ख़ास या ख़ुफ़िया विभाग होता है जिसमे पुलिस के कुछ ख़ास लोग ही शामिल होते है और इसमें शामिल होने से पहले पुलिस कर्मचारियों को ख़ास विशेष प्रशिक्षण दिया जाता है और उसके बाद विज्ञानं की परीक्षा पास करनी होती है उसके बाद ही CID में शामिल किया जाता है| CID में काम कर रहे कर्मचारी पुलिस के ख़ास ख़ुफ़िया कर्मचारी होते है जो काम करते समय पुलिस के तरह वर्दी नहीं पहले यह लोग सादे (Civil) कपड़ो में ही अपनी ड्यूटी करते है| 

CID एक ऐसी एजेंसी है जिनको आदेश देने का अधिकार सिर्फ राज्य सरकार या राज्य के हाई कोर्ट के पास होता है| तो राज्य में हो रहे अपराधों की जांच करने की अनुमति राज्य सरकार या राज्य हाई कोर्ट के द्वारा ही दी जाती है जिसके CID अपनी जांच करना शुरू करती है| और हर प्रदेश का अपना CID विभाग होता है|

CBI और CID में क्या अंतर है?

अब आपको समाज आ गया होगा की CBI और CID क्या है अब आपको समज आ गया होगा की CBI और CID क्या है| दोनों अलग अलग एजेन्सिया है और इनके काम करने के लिए अलग अलग क्षेत्रों की जिमेवारी दी गयी होती है और इसके अलावा इनमे कुछ ख़ास अंतर है जो हम आपको अब बताने जा रहे है|

  • CID सिर्फ राज्य के अपराधों की जांच करी है इसका क्षेत्र सिर्फ राज्य ही होता है और CBI पुरे देश के अपराधों की जांच करती है और इसका क्षेत्र पूरा भारत देश होता है| 
  • CID में भर्ती होने के लिए पहले पुलिस में शामिल होना पड़ता है फिर उसके बाद CID में शामिल हो जाता है| 
  • सीबीआई में भर्ती होने के लिए पुलिस में भर्ती होना जरूरी नहीं होता इसके लिए SSC की ख़ास परक्षा को पास करना होता है| 
  • CID के पास आने वाले आपराधिक मामलों की जान करने की जिम्मेदारी राज्य सरकार या राज्य के हाई कोर्ट द्वारा दी जाती है|
  • CBI को आपराधिक मालो की जांच करने की जिम्मेदारी केंद्र सरकार, उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दी जाती है|

CBI और CID में क्या समानताये है? 

  • CBI और CID दोनों भारत सरकार की ख़ुफ़िया एजेन्सिया है| 
  • इन दोनों का काम भारत में बढ़ते हुए अपराधों की जांच करना और पता लगाना है| 
  • इनमे भर्ती होने के ख़ास पर्शिक्षण मिलता है| 
  • इन दोनों ख़ास विभागों में भर्ती होने के लिए उम्मीदवार की स्थानक पढ़ाई पूरी होनी चाहिए तभी वह इसके लिए अपनी दावेदारी दे सकता है| 

CID कैसे काम करती है?

CID को कोई भी आपराधिक मामला सौंपने से पहले उन्हें ख़ास ट्रेनिंग दी जाती है और फिर CID के अधिकारी ख़ुफ़िया तरीके से मामले की जांच करते है और ये अधिकारी सिविल कपड़ो में उस क्षेत्र में जा कर अपनी जांच शुरू करते है| यह मुख्या रूप से जासूसी अधिकारियो के रूप में काम करते है| इनको जांच करने के लिए कोर्ट और प्रदेश की सरकार मामले सौंपती है और यह मामले हाइकोर्ट के Permission Letter Issue होने के बाद CID अपना काम शुरू करती है|

CID में नौकरी पाने के लिए क्या करना पड़ता है?

CID में नौकरी पाने के लिए राज्य सरकार द्वारा आयोजित पुलिस की परीक्षा को पास करने के बाद Criminology की परीक्षा को पास करना होता है| उसके बाद CID में काम करने के लिए अलग अलग ब्रांच बने हुए है जैसे कि Anti Narcotics Cell, Fingerprint Bureau, Missing Person Cell और Anti Human Trafficking वही दूसरी तफ CBI में Economic Crime Division, Anti-Corruption Division, Administration Division, Special Crime Division Central Forensic Science Laboratory की ब्रांचे होती है 

अक्सर लोग CID से ज्यादा CBI में नौकरी करना पसंद करते है क्यंकि CBI अंतराष्ट्रीय मामलो में काम करती है इसके लिए वह विदेशो में भी जाँच करने के लिए जाती है| ये तन होता है जब कोई अपराधी अपराध करने के बाद विदेश में चला जाता है तब CBI वहा जा कर उस अपराधी को पकड़ने का काम करती है|

तो अब हमारे द्वारा दी जानकारी से आप जान चुके होंगे की CID और CBI क्या है| CID और CBI की फुल फॉर्म क्या है और CID और CBI में क्या अंतर है| हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपके जो भी सवाल होंगे उम्मीद करते है की उन सबके जवाब आपको मिल गए होंगे और उम्मीद करते है कि हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपके लिए काफी लाभदायक साबित हुई होगी| आपको हमारी जानकारी कैसी लगी या फिर हमे इस से जुड़े सुझाव देने के लिए आप हमे कमेंट भी कर सकते है|

FAQ (Frequently Asked Questions)

सीबीआई (CBI) की फुल फॉर्म क्या है?

सीबीआई की फुल फॉर्म Central Bureau of Investigation है| और जिसे हिंदी भाषा में केंद्रीय जाँच ब्यूरो भी कहा जाता है|

सीबीआई की स्थापना कब हुई थी?

सीबीआई की स्थापना 1 April 1963 को भारत की रक्षा से सबंधित पदों पर हो रहे भ्रष्टाचारों, ठग्गी,गबन, धोखधड़ी इत्यादि पर रोकथाम लगाने के लिए की गयी थी|

वर्तमान सीबीआई के अध्यक्ष कौन है?

वर्तमान सीबीआई के अध्यक्ष ऋषि कुमार शुक्ला है| उनको 4 फरवरी, 2019 को CBI के डायरेक्टर के तोर पर नियुक्त किया गया है|

सीबीआई की नियुक्ति कौन करता है?

गृह मंत्रालय से सीबीआई चीफ चुने जाने की प्रक्रिया की शुरुआत होती है। सीबीआई चीफ का चयन सेलेक्शन कमेटी की ओर से किया जाता है। जिसमें प्रधानमंत्री, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस और नेता विपक्ष शामिल होते हैं।

सीबीआई का मुख्यालय कहाँ है?

सीबीआई का मुख्यालय दिल्ली में है|

सीबीआई का आदर्श वाक्य क्या है?

सीबीआई का आदर्श वाक्य उद्यम, निष्पक्षता एवं ईमानदारी है|

सीबीआई ऑफिसर की सैलरी कितनी होती है?

सीबीआई अधिकारी की सैलरी पे स्केल के मुताबिक तय की जाती है| इनकी सैलरी 9300 – 34800 रुपये और 4200 रुपये ग्रेड के तथा कुछ भत्ते भी जोड़े जाते है और इन सबकी मिलाकर 44000/- रुपये के आस पास सैलरी होती है|

Default image
Rohit Kumar
Hey, This is Rohit Kumar the founder of We Love Write. I am a Digital Marketing Expert and a Content Creator. I love to write on facts with deep research in Hindi. Do comment and share my content if you find this useful.
Articles: 44

Leave a Reply