Consumer Forum क्या है और कैसे काम करता है? Consumer Forum Me Complaint Kaise Kare?

दोस्तों आज हम आपको बताएंगे कि कंजूमर फोरम क्या है? जब भी हमें अपने घर के लिए या अपने किसी और काम के लिए किसी भी चीज की जरूरत होती है तो हम उस चीज को मार्केट से खरीद लेते हैं या फिर हम उस चीज को खरीदने के लिए ऑनलाइन शॉपिंग का इस्तेमाल करते हैं| हम उस चीज को खरीदने के लिए या तो किसी लोकल मार्केट में जाकर या किसी स्टोर से खरीद सकते हैं| नहीं तो हम उस चीज को ऑनलाइन स्टोर से भी खरीद लेते हैं| ऑनलाइन स्टोर के बारे में हम आपको इसलिए बोल रहे हैं क्योंकि आजकल ऑनलाइन शॉपिंग का ट्रेंड चला हुआ है| 

जब भी किसी इंसान को किसी चीज की जरूरत होती है तो वह अपने मोबाइल में अन्य डिवाइस की मदद से उसी समय ऑनलाइन शॉपिंग कर लेते है और अपनी जरूरत को पूरा कर लेते हैं| परंतु आप ने यह भी सुना होगा कि ऑनलाइन शॉपिंग में कभी कभी धोखाधड़ी भी होती है| परंतु ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि सिर्फ ऑनलाइन शॉपिंग में ही धोखाधड़ी होती है| यह हमारे साथ लोकल मार्केट में भी हो सकता है| हम लोकल मार्केट में भी धोखे का शिकार हो सकते हैं परंतु अगर हम ऑनलाइन शॉपिंग और लोकल शॉपिंग की तुलना करें तो ऑनलाइन शॉपिंग में हमें ज्यादा धोखा होने का खतरा बना रहता है।

Table of Contents

Application For Consumer Forum In Hindi

अगर किसी व्यक्ति के साथ किसी प्रकार की ठगी हो जाती है तो उसके साथ उस समय पैसे के साथ साथ समय का भी काफी नुकसान होता है| जैसे कि हम देख रहे हैं कि आजकल उपभोक्ताओं के साथ ठगी के मामले आम देखने को मिल रहे हैं| इसी वजह से भारत सरकार ने कंजूमर फॉर्म – उपभोक्ता फॉर्म का निर्माण किया है| जहां पर अगर किसी व्यक्ति के साथ कोई भी किसी भी प्रकार की ठगी या धोखाधड़ी होती है तो उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कर सकता है और उस धोखाधड़ी के संबंधित किसी भी दुकानदार या ऑनलाइन स्टोर को उसके लिए सबक भी सिखा सकता है| अगर आप कंजूमर फॉर्म के जरिए शिकायत दर्ज करवाते हैं तो आपको जो भी नुकसान हुआ होता है उसके साथ-साथ उस राशि के ऊपर ब्याज के साथ वह राशि आपको वापस करवाई जाती है।

आज के इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कंज्यूमर फॉर्म क्या होता है? कंज्यूमर फॉर्म से शिकायत कैसे कर सकते हैं और कंजूमर फोर्म से शिकायत करने के लिए क्या-क्या करना होता है? साथ ही हम आपको कंस्यूमर फॉर्म शिकायत टोल फ्री नंबर, कंजूमर फॉर्म ऑनलाइन कंप्लेंट कैसे करते हैं? कंजूमर फॉर्म के फैसले, जिला फॉर्म इन सभी के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं तो अगर आप इन सब के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े|

उपभोक्ता फोरम क्या है? What is the Consumer Forum?

Consumer forum सरकार द्वारा बनाया गया एक तरह का न्यायालय ही है जैसे अन्य न्यायालय काम करते हैं ठीक उसी तरह Consumer forum भी काम करता है| Consumer forum की सबसे खास बात यह है कि यह सिर्फ उपभोक्ताओं के विवादों पर ही काम करता है और उन्हें न्याय दिलाने में मदद करता है। Consumer form उपभोक्ता की शिकायतों विवादों और मामलों को देखते हैं और उन उपभोक्ताओं को न्याय दिलाने के लिए काम करते हैं| कंजूमर फॉर्म बनाने का उद्देश्य उपभोक्ताओं के अधिकारों की रक्षा करना है| अगर किसी उपभोक्ता के साथ ठगी या किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी होती है तो उसे न्याय दिलाया जा सके।

उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 क्या है? What is the Consumer Protection Act 1986?

जब भी कोई व्यक्ति मार्किट या ऑनलाइन शॉपिंग के जरिए कुछ सामान खरीदना है तो उस सामान का मूल्य उस के तत्व, प्रकार, वजन, गुणधर्म इन सब चीजों पर निर्धारित करता है या फिर कुछ सामान के बारे में जानकारी उसके cover के ऊपर भी दी जाती है| कभी कभी क्या होता है कि कोई व्यक्ति दुकानदार के पास लेने कुछ सामान जाता है लेकिन दुकानदारों उसे कुछ और सामान दे देता है| जिसकी वजह से उपभोक्ता का काफी ज्यादा नुकसान होता है ऐसी स्थिति में उपभोक्ताओं के अधिकारों की रक्षा करने के लिए भारतीय संविधान में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 लाया गया| जिस से उपभोक्ताओं के अधिकारों की रक्षा की जा सके। अगर उनके साथ धोखा थोड़ी हो जाए तो उन्हें न्याय दिलाया जा सके।

उपभोक्ता कौन है? Who is the consumer?

हर एक वह व्यक्ति जो लोकल मार्केट या ऑनलाइन शॉपिंग करके कोई भी समान या सेवा खरीदता है और उसका उपयोग करता है वह उपभोक्ता है| सरकार द्वारा लगाए गए उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत कंज्यूमर फॉर्म में सिर्फ उपभोक्ता ही शिकायत कर सकता है।

Consumer Forum में किसके खिलाफ शिकायत कर सकते हैं?

Consumer forum मैं अलग-अलग तरह की शिकायत दर्ज कर सकते हैं और वह कुछ इस प्रकार हैं

  • दुकानदार – Shopkeeper
  • मैन्युफैक्चरर्स – Manufacturers
  • डीलर – Dealer
  • सर्विस प्रोवाइडर – Service provider

Consumer Forum में कौन शिकायत कर सकता है? Who can complain at the Consumer Forum?

जिस व्यक्ति के साथ सामान खरीदते समय किसी भी प्रकार की ठगी या धोखाधड़ी हुई है| वह व्यक्ति Consumer Forum में शिकायत कर सकता है| Consumer Forum में शिकायत करने वाला आम व्यक्ति या फिर सरकार भी हो सकती है। Consumer Forum निम्न व्यक्ति शिकायत कर सकते है|

  • पीड़ित उपभोक्ता कोई भी फ़र्म भले ही वह रजिस्टर्ड ना या न हो| 
  • कोई भी व्यक्ति भले भी वह खुद पीड़ित ना भी हो| 
  • संयुक्त हिंदू परिवार शिकायत दर्ज करवा सकते है|
  • Co-operative Society या लोगों का समूह| 
  • राज्य सरकार, केंद्र सरकार|
  • उपभोक्ता की मृत्यु होने के बाद उसका कानूनी वारिस| 

Consumer Forum के प्रकार | Types of consumer forums

किसी भी दुकानदार द्वारा किए गए धोखाधड़ी या ठगी से कोई भी उपभोक्ता कितना प्रभावित हुआ है| उसके आधार पर तीन प्रकार के Consumer Forum बनाए गए हैं जो कि इस प्रकार:-

  • राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग
  • राज्य उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग
  • जिला उपभोक्ता forum

उपभोक्ता District Consumer Forum में 2 लाख रुपए के मुआवजे का दावा पेश कर सकता है और District Consumer Forum में केस दर्ज करने के लिए फीस वह डिमांड ड्राफ्ट के द्वारा कर सकता है।

शिकायत कैसे करें और कहाँ करें?

अगर कोई उपभोक्ता किसी दुकानदार के द्वारा परेशान किया जा रहा है या फिर उसका शोषण हो रहा है तो उपभोक्ता उस दुकानदार के खिलाफ कंजूमर forum में अपना केस दर्ज करवा सकता है और उस उपभोक्ता को अपना केस दर्ज करवाने के लिए किसी भी वकील की जरूरत नहीं होती और ना ही इसके लिए उस उपभोक्ता को किसी को भी पैसा देने की जरूरत होती है।

उपभोक्ता के पास सिर्फ उस धोखाधड़ी या ठगी के खिलाफ कोई सबूत होना चाहिए जैसे कि समान का बिल या कोई अन्य दस्तावेज| अगर उपभोक्ता के पास वह सबूत होगा तो वह उन सभी दस्तावेजों की फोटो कॉपी करके सरकार के सामने पेश कर सकता है और सरकार इन सबूतों के आधार पर ही उपभोक्ता को न्याय दिला सकती है। लेकिन अगर उपभोक्ता के पास कोई भी सबूत नहीं होगा तो उस उपभोक्ता को दुकानदार के खिलाफ केस दर्ज करने में भी बहुत मुश्किल होगी और साथ ही सरकार उसे न्याय नहीं दिला पाएगी।

अगर उपभोक्ता दुकानदार के खिलाफ कंज्यूमर फोरम में केस दर्ज करवाना चाहता है तो वह दो तरह से केस दर्ज करवा सकता है या तो वह कोर्ट में शिकायत दर्ज करवा सकता है या फिर ऑनलाइन वेबसाइट के जरिए इंटरनेट पर केस दर्ज करवा सकता है| उसके लिए उपभोक्ता को ऐसी बहुत सारी वेबसाइट मिल जाएंगी जहां वह अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है जैसे कि Indian Consumer Complaint forum, India Consumer forum, Consumer complaints forum इत्यादि| इसके अलावा भी इंटरनेट पर वह भी बहुत सारे वेबसाइट मिल जाएंगी जहां पर उपभोक्ता अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है।

क्या होना चाहिए शिकायत में?

  • जब भी कोई उपभोक्ता किसी दुकानदार के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाता है तो उस में विपक्ष का नाम, ब्यौरा, उसका पता और शिकायत संबंधित सारी जानकारी होनी चाहिए। 
  • शिकायत में लगाए गए आरोपों के संबंधी सारे सबूत, अन्य दस्तावेज जैसे कि मेमो, एग्रीमेंट, रसीद वगैरह होनी चाहिए। 
  • उपभोक्ता को शिकायत करते समय अपनी शिकायत के बारे में पूरा ब्यान करना होगा| अगर उस शिकायत से संबंधित उपभोक्ता के पास कोई डॉक्यूमेंट है तो उसे भी अटैच करना होगा। 
  • फोरम में शिकायत दर्ज करवाने के लिए नामात्र ही फीस लगती है| इसके लिए उसे किसी भी वकील की जरूरत नहीं है सिर्फ शिकायत पत्र पर शिकायतकर्ता के हस्ताक्षर होने चाहिए। 
  • उपभोक्ता के पास शिकायत की 3 कॉपियां होनी चाहिए| एक कॉपी ऑफिस, दूसरी विरोधी पार्टी और तीसरी अपने पास रखने के लिए।

उपभोक्ता कोर्ट में शिकायत कैसे करें? Consumer Forum Me Complaint Kaise Kare

जब भी कोई उपभोक्ता किसी दुकानदार द्वारा धोखाधड़ी का शिकार हो जाता है तो वह कंजूमर फोरम में अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है कंज्यूमर फोरम में शिकायत दर्ज करवाने के कुछ स्टेप्स होते हैं जो कि इस प्रकार है

  • सबसे पहले ऑनलाइन कंज्यूमर फोरम में शिकायत दर्ज करवाने के लिए आपको नेशनल कंज्यूमर हेल्पलाइन की ऑफिशियल वेबसाइट https://consumerhelpline.gov.in पर जाना होगा। 
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपको वहां पर सबसे नीचे कंज्यूमर कंप्लेंट का ऑप्शन दिखाई देगा जिस पर आपको क्लिक करना होगा। 
  • जब आप इस ऑप्शन पर क्लिक कर देते हैं आपके सामने दो ऑप्शन दिखाई देंगे Register Your Complaint
  • View Your Complaint Status 
  • फिर आपको Register Your Complaint ऑप्शन पर क्लिक करना होगा| 
  • जैसे ही आप Register Your Complaint पर क्लिक कर देते है| तब एक न्य पेज ओपन होगा| 
  • वह पर आपको Login और Register की ऑप्शन दिखाई देंगे| 
  • अगर आपका वहां पर अकाउंट नहीं बना होगा तो आपको Register करना होगा| अगर आपका पहले से अकाउंट बना हुआ है तो आपको Login करना होगा।
  • जैसे ही आप Login कर लेते हैं आपके सामने एक नया फॉर्म ओपन होगा जिस पर आपको पूछी गई सारी जानकारी को भरकर सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा| 
  • सबमिट बटन पर क्लिक करते ही आपका कर रजिस्ट्रेशन वेबसाइट पर हो जाएगा।

इस प्रकार आप ऑनलाइन शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

उपभोक्ता फोरम में शिकायत शुल्क क्या है? What is the complaint fee in the Consumer Forum?

  • एक लाख रुपये तक के मामले के लिए – 100 रुपये
  • एक लाख से 5 लाख रुपये तक के मामले के लिए – 200 रुपये
  • 10 लाख रुपये तक के मामले के लिए – 400 रुपये
  • 20 लाख रुपये तक के मामले के लिए – 500 रुपये
  • 50 लाख रुपये तक के मामले के लिए – 2000 रुपये
  • एक करोड़ रुपये तक के मामले के लिए – 4000 रुपये

उपभोक्ता Forum में कॉल के माध्यम से शिकायत कैसे दर्ज करें?

अगर आप कॉल के जरिए कंजूमर फॉर्म में अपनी शिकायत दर्ज करवाना चाहते हैं तो आप कंजूमर हेल्पलाइन नंबर 1800-11-4000 और 14404 पर कॉल करके अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं| अगर आपको कॉल के जरिए शिकायत दर्ज करवाना चाहते हैं तो कॉल करने का समय सुबह 9:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक का ही होता है| अगर उस दिन छुट्टी होती है तो आप उस दिन अपनी शिकायत दर्ज नहीं करवा सकते क्योंकि उस दिन यह सुविधा उपलब्ध नहीं होती है।

उपभोक्ता Forum में SMS के माध्यम से शिकायत कैसे दर्ज करें?

अगर आप SMS के माध्यम से कंज्यूमर फोरम में अपनी शिकायत दर्ज करवाना चाहते हैं तो आपको कंजूमर हेल्पलाइन नंबर 81300 09809 SMS करना होगा| इस नंबर पर आपको शिकायत लिख कर send कर देनी होगी| जैसे ही आपकी शिकायत send हो जाती है उसके बाद कंजूमर हेल्पलाइन के द्वारा आपसे संपर्क किया जाएगा।

उपभोक्ता फोरम में अपनी शिकायत की स्थिति कैसे देखें? How to check status of your complaint in Upbhokta Forum?

जब उपभोक्ता कंज्यूमर फोरम में किसी भी माध्यम से चाहे वह है ऑनलाइन, कॉल करके या SMS के जरिये अपनी शिकायत दर्ज करवा देता है तो उसका एक नंबर दिया जाता है| वह उपभोक्ता उस नंबर का इस्तेमाल करके कभी भी अपनी शिकायत का स्टेटस ट्रैक कर सकता है और उसके लिए उपभोक्ता को कुछ स्टेप्स फॉलो करने होंगे जो इस प्रकार हैं:-

  • अपनी शिकायत का स्टेटस ट्रैक करने के लिए सबसे पहले आपको विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा। 
  • जैसे ही आप वेबसाइट पर चले जाते हैं वहां पर आपको View Your Complaint Status का ऑप्शन दिखाई देगा जिस पर आपको क्लिक कर रहा होगा। 
  •  जब आप इस ऑप्शन पर क्लिक कर देते हैं तो आप एक नए पेज पर चले जाते हैं वहां पर आपको अपना कंप्लेंट नंबर और रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर डालना होगा और सबमिट बटन पर क्लिक कर देना होगा| 
  • बटन पर क्लिक करते है आपकी शिकायत की स्थिति आपको बता दी जाएगी। 
  • अगर आपको किसी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है तो आप टोल फ्री नंबर 1800-11-4000 और 14404 पर कॉल करके सहायता ले सकते हैं।

Consumer Court Rules In Hindi। उपभोक्ता फोरम नियम

  • उपभोक्ता संरक्षण समिति के अंतर्गत जिला स्तर पर 20 लाख रुपए, राज्य स्तर पर 20 लाख रुपए से लेकर 1 करोड रुपए और राष्ट्रीय स्तर पर 1 करोड रुपए से अधिक राशि के मामलों की सुनवाई की जाती है। 
  • अगर उपभोक्ता द्वारा खरीदे गए सामान में अगर कोई कमी पाई जाती है तो उसे वह कंपनी को वापस लौटाना और संबंधित उपभोक्ता को पैसे वापस करने का प्रावधान किया गया है| 
  • इसके अलावा उस सामान से संबंधित कंपनियां या दुकानदार पर 10 लाख रुपए तक का जुर्माना भी किया जा सकता है। अगर वह अपराध दुकानदार या कंपनी के द्वारा दोबारा भी किया जाता है तो उसे 50 लाख रुपये तक का जुर्माना देना पड़ सकता है। 
  • कंज्यूमर फोरम ने गलत विज्ञापनों पर भी रोक लगाई हुई है| अगर कोई व्यक्ति गलत विज्ञापन के मामले में दोषी पाया जाता है तो उसे 2 साल की सजा हो सकती है| अगर वह व्यक्ति दोबारा फिर से इसमें दोषी पाया जाता है तो उसे 5 साल तक की सजा हो सकती है। 
  • अगर कोई सेलिब्रिटी गलत जानकारी देता हुआ पाया जाता है तो उसे 1 साल के लिए प्रतिबंधित किया जा सकता है| अगर वही सेलिब्रिटी इस अपराध को दोहराता है तो उसे 3 साल के लिए प्रतिबंधित किया जा सकता है।

उपभोक्ता फोरम शिकायत टोल फ्री नंबर। Upbhokta Forum Toll Free Number

  • TOLL FREE – 1800-11-4000 or 14404
  • SMS – 8130009809
  • OFFICIAL SITE – consumerhelpline.gov.in

कंज्‍यूमर कमिशन में शिकायत करते समय ध्यान रखनी वाली बातें

  • उपभोक्‍ता अपनी शिकायत में चीटिंग या धोखा शब्‍द का इस्‍तेमाल न करें| 
  • अगर उपभोक्ता के पास रसीद नहीं है या कोई अन्य सबूत भी नहीं है तो उसके बिना भी वह केस दर्ज करवा सकता है| उदाहरण के तौर पर अगर दुकानदार ने किसी विजिटिंग कार्ड, स्लिप या किसी अन्य कागज पर लिखा है कितने पैसे आ गए हैं ओर इतने बाकी है तो आप उस कागज की मदद से भी कोर्ट में केस कर सकते हैं और यह बिल्कुल मान्य होता है। 
  • उपभोक्ता को अपनी शिकायत 2 साल के अंदर करनी होती है।

Conclusion

दोस्तों अब आप जान चुके हैं कि उपभोक्ता फोरम क्या है? कंजूमर फोरम क्या है? कंजूमर फॉर्म में complaint कैसे करी जाती है| कंजूमर फॉर्म में किसके खिलाफ शिकायत कर सकते हैं और कंजूमर फॉर्म में कौन शिकायत कर सकता है। उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेर करी गई जानकारी आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगी। अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट है तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:

IMPS क्या है और कैसे काम करता है?

Meesho App से पैसे कैसे कमाए?

फाइनेंस क्या है?

बिटकॉइन में कैसे निवेश करें?

FAQ (Frequently Asked Question)

उपभोक्ता फोरम की सुविधा कितने जिलों में है?

उपभोक्ता फोरम की सुविधा देश के बड़े-बड़े 79 जिलों में उपलब्ध है| जहां पर उपभोक्ता की समस्याओं का समाधान देने का काम किया जाता है।

उपभोक्ता फोरम पहेली बार कब शुरू किया गया था?

उपभोक्ता के हितों सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पहली बार उपभोक्ता फोरम 26 दिसंबर 1986 में देश के प्रधानमंत्री राजीव गांधी जी के द्वारा शुरू किया गया था।

Consumer Forum को हिंदी में क्या कहते हैं?

Consumer Forum को हिंदी में उपभोक्त फोरम कहते हैं।

उपभोक्ता फोरम के तहत कौन से उपभोगता या कस्टमर नहीं आते?

जो उपभोक्ता फ्री में सामान प्राप्त करते है| उन उपोक्ताओं को उपभोक्ता फोरम में शामिल नहीं किया जाता है| 

Consumer Court  के आदेश का पालन न करने पर क्या होगा?

अगर कोई दुकानदार Consumer Court के आदेशों का पालन नहीं करता है तो उसे 10000 रुपये की पेनल्टी और साथ में 3 साल तक की सजा दी जा सकती है। सजा भुगतने के बाद भी आदेश का पालन करना जरूरी होता है| अगर वह आदेश का पालन नहीं करता तो Consumer Court उस व्यक्ति की प्रॉपर्टी भी जब्त कर सकती है।

Your Answer

Your email address will not be published.

Scroll to Top