DNA(डीएनए) का फुल फॉर्म क्या है और अन्य जानकारियां

दोस्तों क्या आप जानते हैं कि DNA का फुल फॉर्म क्या है? यह शब्द आपने अक्सर ही कहीं ना कहीं सुना ही होगा| ज्यादातर आप ने DNA को फिल्म, टीवी सीरिय, समाचार में सुना ही होगा कि किसी व्यक्ति का DNA टेस्ट कराया जाएगा और उस से फिर उस व्यक्ति के DNA के रिजल्ट सामने आते हैं| अगर आपको यह नहीं मालूम है कि DNA क्या होता है DNA का कार्य क्या होता है DNA की फुल फॉर्म क्या है DNA कैसे होता है और DNA का महत्व क्या है? इन सभी जानकारी के बारे में अगर आपको बिल्कुल भी जानकारी नहीं है तो आज हम अपने इस पोस्ट में आपको इसके बारे में डिटेल में जानकारी शेयर करने जा रहे हैं| 

अगर आप ने अपने 10वीं या 12वीं की study science stream से करी है तो उसमें DNA के बारे में बहुत ही detail में जानकारी शेयर करी जाती है| परंतु हम आपको बताना चाहेंगे कि DNA एक ऐसी संरचना है जो जीवित कोशिकाओं यानी कि सभी जीवो में पाई जाती है और यह पीढ़ी दर पीढ़ी ट्रांसफर होती है| तो इसलिए मैंने सोचा क्यों ना इतनी महत्वपूर्ण जानकारी आप लोगों के साथ शेयर करी जाए और उसके बारे में आपको बताया जाए तो चलिए अब हम शुरू करते हैं| 

DNA का फुल फॉर्म?

DNA का फुल फॉर्म Deoxyribonucleic Acid होता है|

D – Deoxyribo

N – Nucleic

A – Acid

DNA क्या होता है?

जीवित कोशिकाओं के गुणसूत्रों में पाए जाने वाले तंतुनुमा अणु को DNA कहा जाता है| DNA का आकार सीडी की तरह होता है| यह घुमावदार आकार में होता है और DNA हर जीव में पाया जाता है| क्योंकि DNA में अनुवांशिक गुण मौजूद होते हैं| इसलिए DNA हर जीवित कोशिका के लिए बहुत ही ज्यादा जरूरी होता है। असल में DNA सभी जीवो में पाया जाता है और DNA में जेनेटिक कोड मौजूद होते हैं और यह एक मॉलिक्यूल होता है| DNA सभी मनुष्य, जीव-जंतु, पेड़-पौधे में पाया जाता है| 

हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं को छोड़कर बाकी सभी कोशिकाओं में DNA पाया जाता है और हर इंसान को अपने माता पिता से 23 जोड़ी DNA मिलता है और हर एक जोड़े में एक DNA माता का होता है तो दूसरा DNA ने पिता का होता है| यही वजह है कि हर बच्चे में उसके माता पिता के बहुत से लक्षण पाए जाते हैं जैसे कि उनकी आंखों का रंग, बालों का रंग, चमड़ी का रंग आदि| हम यह भी कह सकते हैं कि अपने माता पिता से मिलने वाले DNA के मिश्रण से ही उस इंसान का DNA बनता है| 

वैसे तो मनुष्य के DNA में लगभग 3 बिलियन बेस होते हैं| जिसमें से 99.9% सभी मनुष्य को समान बनाते हैं और जो बाकी का बचा हुआ 0.01% सभी मनुष्य को एक दूसरे से अलग करता है| इसके साथ ही आपको यकीन नहीं होगा कि मनुष्य और चिंपैंजी के डीएनए में लगभग 98% समानता होती है|

DNA अपना प्रतिरूप खुद बनाता है| जिससे कोशिका विभाजन के समय हर नई कोशिका को DNA आसानी से मिल जाता है| हम आपको बताना चाहेंगे कि हमारे शरीर में प्रतिदिन 1000 से लेकर 10 लाख तक DNA बनते है और नष्ट होते है| अगर हम दुनिया में मौजूद प्रजातियो की सुरक्षा की बात करें तो एक चम्मच DNA से पूरी दुनिया की प्रजातियों को सुरक्षित किया जा सकता है। 

इसके अलावा हमारे शरीर में मौजूद हर एक कोशिका में 0.09 माइक्रोमीटर की जगह घेरता है और हर 1 ग्राम में 700 टेराबाइट जितनी जानकारी को संरक्षित  किया जा सकता है और सिर्फ मात्र 2 ग्राम DNA में पूरी दुनिया के इंटरनेट डाटा को सुरक्षित किया जा सकता है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि मनुष्य के शरीर में मौजूद DNA को अगर सुलझाया जाए तो यह DNA इतना ज्यादा लंबा हो जाता है कि यह धरती से लेकर सूरज तक 300 बार पहुंचकर वापस आ सकता है| 

DNA Test क्या होता है और कैंसे होता है?

आप अक्सर ही फिल्म और समाचार में DNA Test के बारे में सुना होगा परंतु आप यह नहीं जानते होंगे कि DNA Test कैसे होता है? वर्तमान समय में science में DNA के लगभग 1200 तरह के टेस्ट उपलब्ध है| जिन से हम DNA Test के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं| जिससे आने वाली पीढ़ी के DNA Test के बारे में भी जान सकते हैं| वैसे तो कहा जाता है कि DNA Test अमर होता है| अगर DNA Test में किसी भी प्रकार का परिवर्तन आता है तो उसे म्यूटेशन कहा जाता है और यह परिवर्तन किसी रासायनिक दोष की वजह से हुआ होगा या फिर सूर्य की पराबैंगनी किरणों की वजह से हुआ होगा| 

DNA Test की मदद से हम बीमारियों के बारे में भी पता लगा सकते हैं कि आने वाले समय में किसी इंसान को कौन सी बीमारी होगी| इसके अलावा DNA Test से आप बालों का रंग, आंखों का रंग के बारे में भी जान सकते हैं| 

अगर कोई इंसान DNA टेस्ट करवाना चाहता है तो वह उसके बालों, मूत्र के सैंपल, त्वचा, खून और गाल के अंदर की कोशिकाओं की मदद से किया जा सकता है| अगर कोई इंसान DNA Test करवाता है तो उसे DNA Test की रिपोर्ट 10 से 20 दिन के भीतर मिल जाती है| लेकिन यह भी निर्भर करता है कि आप किस प्रकार का DNA Test करवा रहे हैं तो उसके अनुसार ही आपकी रिपोर्ट में कम या ज्यादा समय भी लग सकता है| 

डीएनए (DNA) के कार्य

  • DNA का कार्य इसकी संरचना से जुड़ा हुआ है। 
  • DNA के बुनियादी बिल्डिंग ब्लॉक न्यूक्लियोटाइड हैं और यह न्यूक्लियोटाइड्स एक फॉस्फेट समूह, एक पांच-कार्बन चीनी, और एक Nitrogen बेस से बने होते हैं। 
  • DNA शक्कर और फॉस्फेटके हर एक स्ट्रैंड को बनाने के लिए न्यूक्लियोटाइड को एक साथ जोड़ते हैं। जैसे ही DNA के दो स्ट्रैंड एक साथ आते हैं, तो हर एक स्ट्रैंड के न्यूक्लियोटाइड के बीच बेस जोड़े बनते हैं। 
  • गैसें कमजोर बांडों के माध्यम से संपर्क करती हैं, जिन्हें hydrogen बांड कहा जाता है, जिन्हें आसानी से तोड़ा और सुधारा जा सकता है।

DNA की खोज किसने और कब किया था?

हम आपको बताना चाहेंगे कि DNA की खोज scientist james और Francis Crick ने 1953 में की थी और डीएनए की खोज की वजह से उन्हें 1962 में नोबेल पुरस्कार के साथ सम्मानित भी किया गया था| 

पहली बार 1866 में ग्रेगर मेंडल द्वारा आनुवंशिकी का मूल सिद्धांत, अर्थात् वंशानुक्रम खोजा गया था| जिसे बाद में आनुवंशिकी का जनक करार कर दिया गया था। फिर उसके तीन साल बाद यानि कि 1869 में स्विस और फ्रेडरिक मिशर ने पहले DNA की खोज की थी| उस समय DNA सबसे पहली बार खोजा गया था जो कि पूरी तरह से नया पदार्थ था और परन्तु तब इसके बारे में यह नहीं मालूम था कि यह जीवन के लिए कितना महत्वपूर्ण हो सकता है| 

डीएनए (DNA) जांचने की विधि

DNA Test मूत्र के सैंपल, बालों, त्वचा, खून, गालों के अंदरूनी कोशिकाओं से किया जा सकता है| यह DNA टेस्ट करवाने के लिए जगह-जगह मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला बनी हुई है| जहां पर आप 5000 से 50000 के भीतर DNA Test करवा सकते हैं और उस DNA Test की रिपोर्ट 10 से 20 दिन के अंदर अंदर प्राप्त कर सकते हैं| 

DNA का महत्व

DNA का मेडिकल क्षेत्र में काफी ज्यादा महत्व है| डीएनए की खोज की मदद से DNA के अलग-अलग तरह के practicals किए जाते हैं| जिस से बहुत सी नई चीजें सामने आती हैं| इसके अलावा DNA का इस्तेमाल कृषि क्षेत्र, कानूनी जांच, फॉरेंसिक रिपोर्ट में भी किया जाता है और बहुत से अपराधों को सुलझाने के लिए भी DNA का इस्तेमाल किया जाता है| DNA की मदद से यह भी सुनिश्चित किया जाता है कि बच्चे का पिता कौन है या फिर संबंधित व्यक्ति के साथ भाई, बहन, बुआ का कोई रिश्ता तो नहीं है। 

अगर हम कृषि क्षेत्र की बात करें कृषि क्षेत्र में अधिक प्रजनन वाले जीवो और अधिक रोगप्रतिरोधक क्षमता वाले जीवो की पहचान के लिए DNA टेस्ट किया जाता है और मेडिकल क्षेत्र में DNA की मदद से अनुवांशिक बीमारी की पहचान कर के उनकी आने वाली पीढ़ी में इस बीमारी की रोकथाम के लिए प्रयास भी किए जाते हैं| 

दोस्तों अब आप जान चुके हैं कि DNA क्या है DNA का फुल फॉर्म क्या है DNA कैसे कार्य करता है DNA की खोज किसने की थी DNA क्यों आवश्यक है| अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं|

ये भी पढ़े:

Google क्या है | Google का फुल फॉर्म क्या है?

AM और PM की Full Form क्या है?

CID और CBI की Full Form क्या है?

I Love You का फुल फॉर्म क्या होता है?

 

FAQ (Frequently Asked Questions)

1 ग्राम DNA में कितनी जानकारी स्टोर की जा सकती है?

1 ग्राम DNA में 700 टेराबाइट तक की जानकारी को स्टोर किया जा सकता है| 

क्या सच में दुनिया की पूरी डेटा को DNA में स्टोर किया जा सकता है?

जी हाँ यह बिलकुल सच है कि दुनिया की पूरी डेटा को DNA में स्टोर किया जा सकता है| दुनिया की पूरी डेटा को मात्र 2 ग्राम DNA में ही स्टोर किया जा सकता है| 

DNA का परीक्षण क्यूँ किया जाता है?

DNA का परीक्षण बालों, मूत्र के सैंपल, त्वचा, खून और गाल के अंदर की कोशिकाओं की मदद से किया जा सकता है जाता है।

Your Answer

Your email address will not be published.

Scroll to Top