एली कोहेन कौन था | कैसे दुश्मन देश का रक्षा मंत्री बनता बनता रह गया?

दोस्तों क्या आप जानते है कि एली कोहेन कौन था और वह एक महान जासूस कैसे बना| अगर नहीं तो आज हम आपको बतायेगे वैसे तो इस दुनिया में बहुत जासूस है लेकिन एली कोहेन में ऐसा क्या ख़ास था जिसकी वजह से उसकी गिनती महान जासूसों में होती है| हम आपको बताना चाहेंगे कि वह इजराइल देश का एक जासूस था और इजराइल ने 60 के दशक में अपना दबदबा बनाया हुआ था और उसके दबदबे का मुख्य कारण उसकी इंटेलिजेंस एजेंसी ‘मोसाद” और उसके दुनिया भर में फैले हुए जासूस थे| और उन जासूसों में से एक जासूस था एली कोहेन, जिसके बारे में हम आपको अपने इस पोस्ट के जरिये बतायेगे| 

एली कोहेन कौन था?

एली कोहेन इजराइल का एक जासूस था जो 60 के दशक में इजराइल की और से जासूसी करता था| एली कोहेन को 60 के दशक में इजराइल की से और अपने दुश्मन देश सीरिया में जासूसी करने के लिए भेजा गया था लेकिन उसके सिर पर देशभक्ति इतनी ज्यादा सवार थी वहाँ जाकर घुसपैठ करनी शुरू कर दी और वहाँ जाकर सीरिया की सारी साजिशों का पर्दाफाश कर दिया| जिसके बदौलत इजराइल को एक बड़ी कामयाबी मिली| इसके अलावा भी एली कोहेन ने जासूसी की दुनिया में एक के बाद एक मिसाल कायम कर दी| 

एली कोहेन इजराइल देश में पैदा नहीं हुए थे| उनका जन्म 1924 में एक पडोसी देश मिस्र में एलेग्जेंड्रिया में एक यहूदी परिवार में हुआ था| एली के पिता 1914 में मिस्र देश को छोड़ कर अपने परिवार के साथ इजराइल जा कर रहने लगे परन्तु एली उस समय अपनी इलेक्ट्रॉनिक्स की पढ़ाई कर रहे थे जिस वजह से वह वही मिस्र में ही रुक गए| और यहाँ रुक कर उन्होंने कई यहूदी गतिविधियों में हिस्सा लेना शुरू कर दिया| फिर साल 1951 में यहूदी के विरोध में अभियान शुरू हुआ जिसमे एली कोहेन को गिरफ्तार कर लिया गया परन्तु उनके खिलाफ कोई सबूत ना होने की वजह से मिस्र को उन्हें छोड़ना पड़ा| और साल 1950 में इजराइल के लिए गुप्त अभियानों का हिस्सा लिया और फिर 1957 में इजराइल में ही आ कर बस गए| और 1960 में इनकी शादी नदिया नमक लड़की से हो गई| 

एली कोहेन का सीरिया जाने का चुनाव कैसे हुआ?

मोसाद में भर्ती होने से पहले एली कोहेन अकाउंटेंट और ट्रांसलेटर के रूप में भी काम किया था| फिर उन्ही दिनों में मोसाद के डायरेक्टर जनरल मीर अमीत को एक ख़ास एजेंट की तलाश थी जो सीरिया में जा कर घुसपैठ कर सके| फिर इसी तलाश में उन्होंने टेबल पर पड़े रिजेक्टेड कैंडिडेट की लिस्ट मिली जिसमे उनकी नज़र एली कोहेन पर पड़ी| एली कोहेन के इतिहास के बारे में काफी रिसर्च करने के बाद उन्होंने एली कोहेन को बुला लिया और उनकी 6 महीने की सख्त ट्रेनिगं शुरू करवा दी जैसे ही एली कोहेन की ट्रेनिंग पूरी हुई उन्हें फील्ड एजेंट बनने के लिए रेकमेंड कर दिया गया|

एली कोहेन को सीरिया कैसे भेजा गया?

एली कोहेन को सीरिया भेजने के मिशन की खबर किसी को भी नहीं दी गयी यह एक ख़ुफ़िया मिशन था जिसके लिए उन्हें एक नई पहचान के साथ सीरिया भेजा गया और उनका नया नाम कामेल अमीन ताबेत रखा गया| फिर सीरिया में जाकर उन्होंने सीरियाई व्यापारियों और सीरियन एजेंसी के मिलिट्री जनरल अमीन अल हफीज के साथ जान पहचान बना ली और उन्होंने उन्हें बताया कैसे उनके माँ बाप का देहांत हो गया और वह उनके बिज़नेस जो की अर्जेंटीना में काफी फैला हुआ है और माँ बाप के देहांत के बाद वह अब अपने देश सीरिया लौटना चाहते है और सारा पैसा देश के विकास में लगाना चाहते है| और इस तरह वह मुश्किलों का सामना करते करते सीरिया पहुँच गए| 

सीरिया पहुँचने के बाद एली कोहेन ने धीरे धीरे अपनी पहचान मंत्रियो और सीरियाई आर्मी के बड़े बड़े अफसरों तक बना ली और फिर वहाँ से छोटी से छोटी खबर वह रेडियो ट्रांसमीटर के जरिये इजराइल को देने लगे| और फिर 1960 में जनरल अमीन अल हफीज की बाथ पार्टी ने सत्ता पर कब्जा कर लिया तब इस तख्तापलट से ध्यान हटाने के लिए उन्होंने अपने घर पर पार्टी दी जिसमे शराब और वेश्याओं की भरमार थी और इस पार्टी में बड़े बड़े मंत्री और अफसरों को बुलाया गया| जब सभी अय्याशी में डूब हुए थे तभी एली के ‘दोस्त’ अमीन अल हफीज रातोंरात राष्ट्रपति बन गए।

सीरिया की साजिशों का राजफाश कैसे किया?

इस समय सीरिया में एली कोहेन की पसंदीदा सरकार थी जिसकी वजह से उसने कई बड़ी बड़ी साजिशो का पता लगा लिया और इजराइल को बताया कि कैसे सीरिया इजराइल में जाने वाली पानी की एकमात्र स्रोत ‘सी ऑफ गैलिली’ में जाने वाली नदियों को मोड़ना चाहता है और पानी को इजराइल जाने से बंद करना चाहता है और इजराइल ने एयर स्ट्राइक कर इस ख़ुफ़िया तैयारी को बर्बाद कर दिया| 

एली कोहेन की 17 गर्ल फ्रेंड के पीछे का राज क्या था?

बताया जाता है कि एली कोहेन की 17 गर्ल फ्रेंड थी जो उसके लिए जासूसी कर के ख़ुफ़िया सूचनाएं हासिल किया करती थी| एली कोहेन शराब और शबाब की खर्चीली पार्टिया करने के लिए काफी मशहूर था जब को सीरिया के सैन्य अधिकारियों में से कोई उसके काबू नहीं आता था तो वह उन्हें अपनी पार्टी में बुला कर उन्हें हनी ट्रैप किया करता था और कोहेन को वह 17 गर्ल फ्रेंड उसके लिए सैन्य अधिकारियों से सूचना निकल कर एली को दिया करती थी| 

कहा जाता है कि कोहेन की छवि जेम्स बांड के जैसी थी जो की इयान फ्लेमिंग के उपन्यास का काल्पनिक पात्र है लेकिन एली कोहेन असल ज़िंदगी में डैशिंग डिटेक्टिव थे जो हमेश सुंदरियों के साथ घिरा रहता था| 

सीरिया के राष्ट्रपति ने क्यों दिया रक्षा मंत्री बनने का ऑफर?

जब लगातार सीरिया के राष्ट्रपति अमीन अल हफीज को नाकामियों का सामना करना पड़ रहा था तो अमीन अल हफीज ने एली उर्फ कामेल अमीन ताबेत को सीरिया का रक्षा मंत्री बनने का ऑफर दिया| परन्तु अमीन अल हफीज को नहीं मालूम था कि जिसे वह रक्षा मंत्री बनने का ऑफर दे रहा है असल में वही उसकी सारी नाकामियों की वजह है| और इस प्रकार एली कोहेन को दुश्मन देश का रक्षा मंत्री बनने का ऑफर मिला था|

सीरिया के जवान कहां छिपे हैं, बताने के लिए लगवा दिए यूकेलिप्टस के पेड़

गोलन हाइट्स स्ट्रैटिजिकली इजरायल-सीरिया बॉर्डर पर स्थित एक बेहद खास जगह है| यहाँ पर सीरियाई  सैनिको ने पोस्ट बना रखी थी जो कि इजराइल को दिखाई नहीं देती थी| तो एली ने सीरियाई सैनिको को सबसे पहले अपने भरोसे में ले लिया और उन्हें यह यकीन दिलाया कि यह पेड़ उन्हें गर्मी से बचाएंगे फिर उनका भरोसा जीतने के बाद एली कोहेन ने अपने पैसे खर्च कर के पेड़ लगवा दिए जिससे इजराइल को पता चल जाता था कि उन्हें अब हमला कहा करना है| ऐसे करते करते गोलन हाइट्स के लगभग दो तिहाई से भी ज्यादा हिस्से पर इजराइल ने कब्ज़ा कर रखा है|

ऐसे खुला एली कोहेन उर्फ कामेल अमीन ताबेत का राज?

इससे पहले कि एली कोहेन इजरायल के रक्षा मंत्री बन पाते उस से पहले अमीन अल हफीज के रक्षा सलाहकार अहमद सुइदानी को शक हो गया कि कोई तो अंदर का आदमी है जो जासूसी कर रहा है उसने अपने शक को यकीन में बदलने के लिए एक ट्रैकिंग यंत्र मंगवाया और इस ट्रैकिंग के चलते 2-3 दिनों में ही सुइदानी को कामयाबी मिल गई| तब उन्हें इस बात का अहसास हुआ कि जिस पर सारा सीरिया भरोसा कर रहा है वही एक इसरायली जासूस है| फिर अप्रैल 1965 को उन्होंने एली कोहेन को रेडियो ट्रांसमिशन करते हुए रंगे हाथो पकड़ लिया और लगभग 1 महीना टॉर्चर करने के बाद एली कोहेन को 18 मई 1965 को दमिश्क शहर में बीच चौराहे पर सरेआम फांसी दे दी गई| 

इजरायल के लिए हीरो से कम नहीं एली कोहेन

एली कोहेन सीरिया के दमिश्क में रहते हुए इजराइल को सीरिया की हर छोटी से छोटी जानकारी दे दी थी जैसे कि सीरिया के पास कौन कौन से हथियार है, और सीरिया घुसपैठ के लिए कौन से रास्तों का इस्तेमाल कर रहा है, और कितनी संख्या में जवानों को कहा तैनात  किया हुआ है, ऐसी और भी बहुत सी जानकारी मोसाद के पास थी और यह सब एली कोहेन की बदौलत थी| इसलिए आज भी एली कोहेन को इजराइल में एक हीरो के तौर पर याद किया जाता है| एली कोहेन पर Netflix पर बनी वेब सीरीज The Spy इस दिनों में काफी पसंद करी जा रही है| जिसमे दिखाया गया है कि कैसे एली कोहेन ने महज 6 दिनों में 5 देशों पर जीत हासिल कर ली थी| 

53 साल बाद मिली एली की घड़ी

एली कोहेन की मौत के 53 गुजर जाने के बाद साल 2018 में इजराइल को एली की घड़ी मिली और इसरायली प्रधानमंत्री ने अपने कार्यकाल के दौरान यह घोषणा की थी इजराइल के पास यह घड़ी कब और कैसे आई इस बात की कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिली है परन्तु मोसाद के डायरेक्टर योसी कोहेन ने तब कहा था कि जिस दिन एली कोहेन पकड़े गए थे उस समय तक यह घड़ी उन्होंने पहन रखी थी| 

इस घड़ी के मिलने पर इसराइली प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू ने अपने एक बयान में कहा था कि इस साहसपूर्ण अभियान के लिए मै मोसाद के जवानो के लिए गर्व महसूस करता हू| उस योद्धा से जुड़ा हुआ कोई प्रतीक देश में वापस लाना ही इसका मुख्य उदेश्य था जिसने अपने देश की सुरक्षा लिए अपनी जान दे दी और देश की सुरक्षा में एक अहम भूमिका निभाई|

दोस्तों अब आप जान चुके होंगे कि एली कोहेन कौन था और उसे एक महान जासूस क्यों कहा जाता था और कैसे वह दुश्मन देश का रक्षा मंत्री बनते बनते रह गया था| हम उम्मीद करते है कि यह जानकारी आपको काफी महत्वपूर्ण लगी होगी और आप अपनी राय देने के लिए हमे कमेंट भी कर सकते है|

ये भी पढ़े:

दुनिया के नये सात अजूबे कौन से है?

CID और CBI क्या है

10 दुनिया के सबसे अमीर आदमी कौन है 2021

Default image
Rohit Kumar
Hey, This is Rohit Kumar the founder of We Love Write. I am a Digital Marketing Expert and a Content Creator. I love to write on facts with deep research in Hindi. Do comment and share my content if you find this useful.
Articles: 44

Leave a Reply