जावा क्या है और Java कैसे सिखे – What is Java in Hindi

दोस्तों क्या आप भी जानना चाहते हैं कि जावा क्या है? सबसे पहले हम आपको बताना चाहेंगे कि जावा एक programming language है| जिसकी डिमांड आज के समय में बहुत ज्यादा हो रही है| जावा से संबंधित हम आपको एक रोचक बात बताने वाले हैं जिसको सुनकर आपको भी यकीन हो जाएगा कि जावा की इतनी ज्यादा demand क्यों हो रही है। 

आज के समय में लगभग 3000000 से भी अधिक electronics devices में java code का इस्तेमाल किया जा रहा है| जिससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज इतनी ज्यादा लोकप्रिय क्यों हो रही है| इसके अलावा आप जितने भी स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर रहे हैं या फिर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे कि ऐसी स्मार्ट टीवी ओवन डिजिटल फ्रिज इन सभी में जावा का इस्तेमाल हो रहा है| कुछ automatic industry के equipment में भी जावा प्रोग्रामिंग का इस्तेमाल किया जा रहा है| 

अगर आप भी सोच रहे हैं कि Java क्या है? जावा प्रोग्रामिंग कैसे सीखते है? इसके लिए हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें क्योंकि हम आज के इस पोस्ट में आपको जावा से संबंधित जानकारी शेयर करने जा रहे हैं तो चलिए शुरू करते हैं।

Java क्या है (What is java in Hindi)

जावा एक General purpose programming language है| जिसकी शुरुआत 1995 में Sun-micro system ने की थी| जावा का इस्तेमाल सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन Development के लिए भी किया जाता है| James Gosling जावा के प्रमुख Developer में से एक है| 

जावा Platform Independent Language है और इसमें लिखे गए codes को आप किसी भी प्लेटफार्म या ऑपरेटिंग सिस्टम में run कर सकते हैं। जावा में कोड English language लैंग्वेज में लिखे जाते हैं इसमें कोई भी numeric codes का इस्तेमाल नहीं किए जाते हैं| इसलिए इस लैंग्वेज को हाई लेवल लैंग्वेज में शामिल किया गया है| जावा लैंग्वेज C++ के concept को फॉलो करती है| इसलिए जावा में C++ के फंडामेंटल का इस्तेमाल किया जाता है| 

हम आपको बताना चाहेंगे कि किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को लिखने के लिए कुछ rules को फॉलो करना होता है| जिसको syntax कहते हैं| syntax के बिना प्रोग्राम लिखने से errors निकलता है| जिससे वह प्रोग्राम गलत हो जाता है| उदाहरण के तौर पर अगर आप इंग्लिश या हिंदी लैंग्वेज का इस्तेमाल कर रहे हैं अगर उसमें आप grammar के rules को फॉलो नहीं करते हैं तो वह गलत हो जाता है| वैसे ही इसमें syntax को फॉलो नहीं करने से आपकी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज गलत हो जाती है।

जावा का पूरा नाम क्या है?

जावा के पूरे नाम की बात करें तो अभी तक JAVA का कोई भी Full Form नहीं है परंतु फिर भी कुछ लोग समझते हैं कि जावा का फुल फॉर्म JUST ANOTHER VIRTUAL ACCELERATOR है| जावा एक हाई लेवल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसे कंप्यूटर द्वारा ही समझा जा सकता है।

Java का Use क्या है?

Java Programming language में जो भी कोड लिखे जाते हैं वह कंप्यूटर में run होने चाहिए| चाहे वह दोनों मशीनें एक जैसी हो या फिर अलग-अलग हो| वह किसी भी मशीन में आप run कर सकते हैं चाहे वह Windows या Mac ऑपरेटिंग सिस्टम ही क्यों ना हो| जावा में लिखा गया कोड सभी मशीन में एक जैसे ही एक्जिक्यूट होता है| परंतु अगर वही code C++ में लिखा जाता है तो वह हर मशीन में अलग अलग तरीके से एक्जिक्यूट होता है| मतलब की Windows में लिखा गया कोड कभी भी Mac ऑपरेटिंग सिस्टम में run नहीं होता है। 

जावा का इस्तेमाल Web based Programming और Mobile application, Software बनाने के लिए किया जाता है| एंड्राइड में जितने भी ऑपरेटिंग सिस्टम बनाए गए है जैसे कि Kitkat, Lolipop, Oreo इन सब में जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल किया गया है| आज के समय में जितने Web Pages हैं वो Java Script पर चलते है| अब आप सोच रहे होंगे कि Code Execute कैसे होता है।

Java Program Code कैसे Run या Execute होता है?

जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कोड को रन करने के लिए Abstract Computing Machine का इस्तेमाल करता है जिसको Java Virtual Machine कहा जाता है।

Java Virtual Machine

Java Virtual Machine को JVM भी कहते हैं| यह Virtual Computer है जो सारे जावा प्रोग्राम को रन करता है| जब कोई प्रोग्राम लिखा जाता है तो उसे Source Code कहते हैं| इसी Source Code को Java Compiler की मदद से कंपाइल करके Byte Code Generate किया जाता है| इस Byte Code को एकजुट करने के लिए Java Virtual Machine का इस्तेमाल किया जाता है| JAVA Interpreter Java Virtual Machine के अंदर ही होता है| इसीलिए वह प्रोग्राम को run करता है| 

हम आपको बताना चाहेंगे कि जितने भी कंप्यूटर जहां प्रोग्राम को run करते हैं| उनमें पहले से ही Java Virtual Machine इंस्टॉल रहता है| यही वजह है कि यह code सारे कंप्यूटर में आसानी से चल जाता है| जिसकी वजह से एक Platform Independent Language है| दूसरे जितने भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है उनके Compiler जो code produce करते हैं वह सिर्फ एक ही system के लिए Generate किए जाते हैं और एक ही सिस्टम पर run होते हैं| 

लेकिन java compiler जो byte Code generate करता है वह Java Virtual Machine के लिए होता है क्योंकि Java Virtual Machine सभी सिस्टम में पहले से मौजूद होती है| जिस वजह से यह प्रोग्राम हर कंप्यूटर में चलता है| Java Virtual Machine code को ऑपरेटिंग सिस्टम में चलने लायक बनाता है।

Platform Independent

इसके नाम से ही आप समझ गए होंगे कि यह एक ऐसा प्लेटफार्म है जो Depend नहीं है| उससे पहले हम आपको बताना चाहेंगे कि इन प्लेटफार्म का मतलब ऑपरेटिंग सिस्टम है जैसे कि Windows, Linux, Mac, Android. जब भी हम कोई प्रोग्राम लिखते हैं या कोई सॉफ्टवेयर बनाते हैं तो वह सभी ऑपरेटिंग सिस्टम में चलने लायक होता है| परंतु कुछ ऐसे प्रोग्राम भी होते हैं जो सिर्फ एक ही ऑपरेटिंग सिस्टम और कंप्यूटर पर चलते हैं| ऐसे प्रोग्राम को dependent प्रोग्राम कहते हैं| अगर कोई प्रोग्राम ऐसा है जो कोड दूसरे सारे प्लेटफार्म में चलता है तो उसे Platform Independent Code कहते हैं| 

इसका मतलब है कि जावा एक एसी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसके कोड सारे Cross-Platform पर चलते हैं तो चलिए हम आपको बताते हैं कि कहां-कहां इसका इस्तेमाल होता है और इसका यूज क्या है।

JAVA को बनाने का मकसद क्या था?

हम आपको बताना चाहेंगे कि जितने भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हैं या पहले थे| वह सारे Procedural Structure को Follow करते है| इसके बाद Object Oriented concept आया| आज के समय में Object Oriented ने पूरे Programming Industry को बदल कर रख दिया और यह प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को भी इसी कंसेप्ट को फॉलो करता है| अब आप सोच रहे होंगे कि कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज थी तो इस नई लैंग्वेज को बनाने की क्या जरूरत पड़ गई।

हम आपको बताना चाहेंगे कि आज के समय में इंटरनेट एप्लीकेशन बहुत ज्यादा डिमांड में है वह चाहे Online Video/image editing, चाहे कुछ Online convert करना हो जैसे Word to PDF, ZIP, RAR FILE यह सब इसी प्लेटफार्म पर बनाए जाते हैं| इसके अलावा अगर आपने ऑनलाइन फॉर्म भरना है या ऑनलाइन कैलकुलेटर का इस्तेमाल करना है तो वह भी सारे जावा की वजह से ही मुमकिन हो पाया है| इंटरनेट में जावा दूसरे web based Language के साथ मिलकर काम करता है| मतलब कि इंInternet Application और Tools Develop करने के लिए जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को बनाया गया है| अगर हम दूसरी लैंग्वेज के साथ इसकी तुलना करें तो यह बड़ी आसानी से इंटरनेट में एग्जीक्यूट होता है और प्रोग्राम लिखना भी इसमें बहुत ज्यादा आसान है।

इसके अलावा हम आपको बताना चाहेंगे कि Java Script, JSP (Java Server Pages) और java इन सभी की मदद से Powerful Web Application को बनाया जा सकता है| java applets को web में आसानी से इंप्लीमेंट कर सकते हैं और इसकी मदद से आप ऑफलाइन प्रोग्राम भी लिख सकते हैं| जो आप बिना इंटरनेट के भी चला सकते हैं| अब हम आपको जावा के इतिहास के बारे में बताना चाहेंगे|

Core Java क्या है?

Core असल में Java की ही term है| जिसे Sun Microsystems ने Java Standard Edition को बेहतर डिस्क्राइब करने के लिए इस्तेमाल किया है था| जावा Core जावा का ही Basic Version है और इसने ही जावा के बाकी वर्जन के foundation को सेट किया है| इसमें कई प्रकार की general purpose APIs और special purpose APIs शामिल है| यह एक standard version है तो इस वजह से इसमें लैंग्वेज के basic fundamentals देखने को मिलेंगे| अगर कोई आपसे Java Core के बारे में पूछता है तो आप बिलकुल भी कंफ्यूज ना होए क्यूंकि java का Basic Version है| उसके बाद काफी सारे Java versions को release किया गया हैं जिनमें शामिल है:-

  • Java Enterprise Edition
  • Java Micro Edition
  • Java Card
  • JavaFX
  • PersonalJava

Java का इतिहास क्या है? (Brief History Of Java in Hindi)

हम आपको जावा के इतिहास के बारे में इसलिए बताना चाह रहे हैं क्योंकि इसका इतिहास बहुत ही मजेदार है| इसलिए आपको भी इसके बारे में जरूर मालूम होना चाहिए| जावा की शुरुआत Green Team से हुई थी| जावा टीम के मेंबर को Green Team बोला जाता था क्योंकि इस टीम का इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को बनाने का यही मकसद था कि एक ऐसी लैंग्वेज को बनाया जाये जो इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे कि Set-top Boxes, Television को प्रोग्राम करने के लिए इस्तेमाल किया जा सके और उस समय यह बहुत ही ज्यादा एडवांस कंसेप्ट था| लेकिन यह आगे चलकर इंटरनेट के लिए बहुत ही ज्यादा मददगार साबित हुआ| कुछ समय बाद NetScape के साथ यह टेक्नोलॉजी मिल गई।

James Gosling

James Gosling जावा के प्रमुख developers पर में से एक थे| अभी के समय में जावा का इस्तेमाल Internet Programming, Mobile Devices, Games, E-Business solution के लिए किया जाता है| परंतु साल 1991 में James Gosling, Patrick Naughton और Mike Sheridan ने जावा लैंग्वेज का प्रोजेक्ट शुरू किया था| उन्होंने ऐसी इंजीनियर की टीम बनाई थी जिसे ग्रीन टीम के नाम से भी जाना जाता था| जावा की कोडिंग को पहले C लैंग्वेज में लिखा गया था और जेम्स गोस्लिंग ने जावा लैंग्वेज का पहला नाम GreenTalk रखा था और इस लैंग्वेज की File Extension (.gt) थी| बाद में इस लैंग्वेज का नाम बदलकर oak रखा गया।

इसका नाम Oak ही क्यूँ रखा गया?

Oak को Strength का सिंबल माना जाता है| वह वेस्टर्न कंट्री जैसे कि USA, France, Germany, Romania का नेशनल tree है| परंतु फिर साल 1995 में इसका नाम बदलकर Java रख दिया गया क्योंकि उस समय वह पहले से ही Oak Technologies Company का ट्रेडमार्क था| अब आप सोच रहे होंगे कि इसका नाम बदल कर जावा ही क्यों रखा गया आइए जानते हैं।

इसका नाम JAVA ही क्यूँ रखा गया?

जब ग्रीन टीम मिलकर लैंग्वेज के नाम का चुनाव कर रही थी तो सभी सदस्यों ने कुछ नाम सजेस्ट करें थे जैसे कि Dynamic, Revolutionary, Silk, Jiot, DNA. पर वह चाहते थे कि नाम कुछ ऐसा हो जो सबसे अलग हो और यूनिक हो और उनकी टेक्नोलॉजी को भी रिप्रेजेंट करता हो| वह नाम ऐसा हो जो Revolutionary हो, Dynamic, Lively, Cool, Unique हो| फिर जेम्स गोस्लिंग के अनुसार आखिर के 2 नाम के suggestion में से एक नाम को चुना था और वह नाम Silk और JAVA थे| ग्रीन टीम को जावा नाम काफी हटकरऔर यूनिक लगा तो उन्होंने इस लैंग्वेज का नाम बदलकर JAVA रख दिया| 

हम आपको बताना चाहेंगे कि Java Indonesia का एक Island  का नाम था| जहां पर सबसे पहले Coffee Produce हुआ था| सन Sun MicroSystem में इसको Develop किया गया था| अभी यह Oracle Corporation का एक पार्ट है|  JDK 1.0 को January 1996 में Release किया गया था| 

जावा के कितने वर्जन होते हैं?

समय के साथ साथ JAVA के अलग अलग Version को Release किया गया उनकी जानकारी निचे दी गई है.

Java VersionRelease Date
Jdk Beta1995
Jdk 1.023 January 1996
Jdk 1.119 February 1997
Jdk 1.28 December 1998
Jdk 1.38 May 2000
Jdk 1.46 February 2002
Jdk 5.030 September 2004
Java SE 611 December 2006
Java SE 77 July 2011
Java SE 818 March 2014
Java SE 99 August 2017
Java SE 1020 March 2018
Java SE 1125 September 2018
Java SE 1219 March 2019
Java SE 1317 September 2019

Java का इस्तेमाल कहाँ कहाँ है?

जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज IT Industry में बहुत ही ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाली लैंग्वेज है| आज के समय में 3 Billion से भी अधिक डिवाइस जावा की मदद से चलते हैं।

1. JSP

JSP का इस्तेमाल Web Technology यानी कि Web application को बनाने के लिए किया जाता है| JSP की मदद से HTML Document में Java Code को Insert किया जाता है और इस Java Code को HTML Document में Insert करने के लिए JSP Tag का इस्तेमाल किया जाता है| जिसकी मदद से Dynamic Web Pages बनाए जाते हैं| इसके अलावा JSPका इस्तेमाल PHP लैंग्वेज के में भी किया जाता है।

2. Applets

यह एक फुल जावा प्रोग्राम है| जिसको वेबपेज के अंदर add किया जाता है| जिसका इस्तेमाल करने से  web Browser में नए-नए Features भी ऐड हो जाते हैं| हम आपको बताना चाहेंगे कि Applets HTML के अंदर ही रहते हैं और इसका इस्तेमाल काफी games बनाने के लिए भी किया गया है| Applets को वेब ब्राउजर में run करने के लिए plugins का इस्तेमाल किया जाता है।

3. J2EE

Java 2 Enterprise Edition एक Platform Independent Environment है| जिसका इस्तेमाल Web based Enterprise Application को बनाने के लिए किया जाता है| J2EE के द्वारा बनाए गए web-application का उपयोग कंपनियां XML Based Structured data को आपस में शेयर करने के लिए करती है।

4. JavaBeans

यह एक विजुअल बेसिक के जैसा ही है| जो पहले से मौजूद कंपोनेंट से मिलकर नए और एडवांस एप्लीकेशन बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है| इसमें बहुत सारे Objects को एक Object के अंदर रखा जाता है जिसे Beans कहते हैं।

5. Mobile

जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का मोबाइल डिवाइस में बहुत ज्यादा योगदान रहा है| जावा लैंग्वेज ने गेम इंडस्ट्री को पूरी तरह से बदल कर रख दिया है| जितने भी मोबाइल इंडस्ट्रीज है वह सब जावा टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते हैं।

इसके अलावा भी javascript का इस्तेमाल कुछ इस प्रकार भी किया जाता है:-

  • JavaScript का इस्तेमाल वेब एप्लीकेशन बनाने के लिए किया जाता है। 
  • JavaScript का इस्तेमाल डायनेमिक और एनिमेशन जैसे आकर्षक फीचर से भरपूर webpage को बनाने के लिए किया जाता है। 
  • JavaScript की मदद से वेब पेज में popups को बनाया जा सकता है। 
  • JavaScript का इस्तेमाल करके हम वेब पेज में Dynamic Drop Down Menu या Dynamic Menu बना सकते हैं। 
  • किसी भी वेबसाइट में Animation Effect लगाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। 
  • वेबसाइट में Suggestion या Cookies create करने के लिए JavaScript का इस्तेमाल किया जाता है| 
  • webpage में text या images के लोड टाइम की स्पीड बढ़ाने के लिए JavaScript  का इस्तेमाल किया जाता है।

Java Applications कितने प्रकार की होती है? (Types of Java Applications)

1. Web Application

आज के समय में Web Application बनाने के लिएServlet, Jsp, Struts, jsf इन सभी का इस्तेमाल किया जाता है।

2. Standalone Application

Standalone application का मतलब desktop application over mobile application है। जिनका इस्तमाल हम अपनी रोजाना जिंदगी में करते हैं| जैसे कि Antivirus, MS-office, Media Player, Browsers. इन Standalone application को बनाने के लिए AWT और SWING का इस्तेमाल किया जाता है।

3. Enterprise Application

Enterprise Application बनाने के लिए जावा प्रोग्रामिंग का इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि यह High Level Security Provide करता है| जिसकी वजह से Industry application, banking software, accounting application इन सभी तरह के Enterprise Application को बनाने के लिए EJB ( Enterprise Java Bean) का इस्तेमाल किया जाता है।

4. Mobile Application

मोबाइल फोन में जितने भी एप्लीकेशंस या गेम बनाए जाते हैं| वह सारे जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की मदद से ही बनाए जाते हैं| इसके अलावा एप स्टोर में जितने भी एप्स आपको देखने को मिलते हैं वह सारे जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से ही develop किए जाते हैं।

Java Characteristics

1. Object Oriented

जावा में हम लंबे कोड वाले सॉफ्टवेयर और ऐप को बड़े आसानी से बना सकते हैं क्योंकि जवा Object Oriented है और यह Object Model पर ही काम करती है।

2. Platform Independent

जवा लैंग्वेज की खास बात यह है कि यह है Platform Independent लैंग्वेज है क्योंकि इसमें बनाए गए सारे सॉफ्टवेयर सारे ऑपरेटिंग सिस्टम पर आसानी से चल जाते हैं जिसको cross-platform भी कहा जाता है| अगर हम दूसरी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जैसे कि C और C++ की बात करें वह दोनों प्लेटफार्म डिपेंडल लैंग्वेज है क्योंकि दोनों अलग-अलग ऑपरेटिंग सिस्टम पर ही चलती है।

3. Simple

जावा को समझना और लिखना बहुत ही आसान है क्योंकि java में code इंग्लिश लैंग्वेज में लिखे जाते हैं| इसमें कोई भी numeric code नहीं लिखा जाता है| जिसकी वजह से इसको आसानी से समझा जा सकता है| अगर आप Oops  के बेसिक कंसेप्ट को समझ गए हैं तो आपको जावा में मास्टर बनने में कोई भी नहीं रोक सकता है।

4. Secure

जावा बहुत ही Secure प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसकी वजह से इसका इस्तेमाल बहुत ज्यादा होता है| जावा में आप Virus Free, Tamper Free सिस्टम सॉफ्टवेयर Develop कर सकते हैं| जावा में Authentication Technique  में Public Key Encryption का इस्तेमाल किया जाता है।

5. Architectural Neutral

जावा को Architectural Neutral कहा जाता है क्योंकि कंपाइलर के द्वारा जो कोड जनरेट किया जाता है वह byte codeकोड होता है और इसको code को हम कहीं भी किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम और Processor में Run कर सकते हैं| इसलिए हर सिस्टम में Java Virtual Machine का होना जरूरी है जो कि सभी सिस्टम में पहले से ही इंस्टॉल होते हैं।

6. Portable

जावा प्लेटफॉर्म इंडिपेंडेंट होने की वजह से Portable भी है क्योंकि जावा और कंपाइलर दोनों को ANSI कोड में लिखा गया है।

7. Robust

जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में लिखे गए कोड मजबूत होते हैं क्योंकि जब इन प्रोग्राम को run किया जाता है तो इनमें कोई भी errors  नहीं रहता है क्योंकि इसमें  क्यूंकि Compile Time और Run time Error checking mechanism का इस्तेमाल होता है।

8. Multi Threaded

जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का यह एक ऐसा feature है जिसकी वजह से आप ऐसे प्रोग्राम को लिख सकते हैं जो multiple task को perform कर सकते हैं| मतलब कि जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में एक ही एप्लीकेशन होगा और उसमें आप अलग-अलग Task कर सकते हैं।

9. Distributed

जावा के इस feature की वजह से ही आज Internet के Distributed Environment में जावा ने अपना खास मुकाम बना लिया है।

10. Dynamic

Java programming एक dynamic programming है जिसकी वजह से यह किसी भी Environment को आसानी से  adapt कर सकती है।

Different Editions of Java Technology हिंदी में

1. Java SE

Java SE या Java Standard Edition आपको वह सारे टूल और एAPI Provide करता है जो आपको server Applications, Desktop Application और applets program बनाने में मदद करता है क्योंकि यह सारे प्रोग्राम Java SE की मदद से ही लिखे जाते हैं| जिसकी वजह से यह सभी ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलते हैं| जैसे कि Linux, Windows, Mac.

2. JEE

java Enterprise Edition – web application Services, Component model, Enterprise Class Service Oriented Architecture (SOA) के लिए मददगार है।

3. JME

Java Micro Edition का interface काफी ज्यादा user friendly है| जिसकी वजह से यह मॉडल बहुत ही ज्यादा भरोसेमंद है और इसमें सिक्योरिटी के लिए अलग-अलग in built नेटवर्क की सुविधा भी है जिसे आप आसानी से java Based Application को चला सकते हैं| JME APIs का Collection है और इसका इस्तेमाल PDAs, Mobile Phones application, Gaming Program, TV Set-Top Box software को develop करने के लिए किया जाता है।

Computer में Java चलाने के लिए क्या चाहिए?

सबसे पहले आपको Java software development kit को डाउनलोड करना है और आप इस किट को डाउनलोड करने के लिए आप इस लिंक (http://java.sun.com/) पर क्लिक करके इसे डाउनलोड कर सकते हैं। उसके बाद आपको वेबसाइट में जो भी Instruction बताई गई है उनको फॉलो करना है।

Java Program लिखने के लिए Java Editors

अगर आप Java Program को लिखना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एडिटर की जरूरत पड़ती है| जिसमें आप Code को लिख सकते हैं और आप नीचे बताए एडिटर में से किसी का भी इस्तेमाल करके Java Code को लिख सकते हैं।

Notepad++ यह एक ऐसा ऑडिटर है जो चलाने में बहुत ज्यादा आसान है| इस एडिटर में आप Code को आसानी से लिख सकते हैं और अगर उसमें errors  होती हैं तो आप उन्हें आसानी से ढूंढ सकते हैं और साथ ही Missing Bracket को भी इस एडिटर की मदद से आसानी से ढूंढ सकते हैं।

Netbeans यह Java IDE एक oppo source और free है| जिसको आप नीचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।

(http://www.netbeans.org/index.html)

Eclipse इसे eclipse open source community develop किया है| यह भी java IDE है और आप इसे नीचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।

(http://www.eclipse.org)

JavaScript की विशेषता (Features of JavaScript in Hindi)

आज के समय में JavaScript एक बहुत ही पॉपुलर और सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाली प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है| जिस वजह से यह बहुत ही ज्यादा पॉपुलर हो रही है उसके पॉपुलर होने का एक महत्वपूर्ण इसकी विशेषता है| यह विशेषताएं कुछ इस प्रकार है:-

  • JavaScript एक high level programming language है। इसे सीखना और समझना बहुत ही ज्यादा आसान है। 
  • JavaScript एक Scripting Language है। यह Programming Language Object पर आधारित है| 
  • JavaScript एक interpreted और lightweight पावरफुल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। 
  • JavaScript  का वास्तविक नाम ECMAScript है। 
  • JavaScript  में इस्तेमाल किए जाने वाला syntax C language के syntax पर आधारित है। 
  • JavaScript वेब डिजाइनर और डेवलपर को वेबपेज में प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल करने की सुविधा देता है। 
  • JavaScript की एक खास बात यह भी है यह पेज में मौजूद किसी भी Element, Widget, Text या Image को स्पीड प्रदान करता है| जिसे Dynamic कहते हैं।

जावास्क्रिप्ट के क्या लाभ है?

  • JavaScript एक interpreted और lightweight प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है| इसलिए यह क्लाइंट साइड ब्राउज़र में जल्दी ही run हो जाती है। 
  • JavaScript का इस्तेमाल web development, gaming, applications पर हर जगह किया जाता है| 
  • JavaScript एक बहुत ही आसान लैंग्वेज है| इसमें सारे code english language में लिखे जाते हैं इसमें कोई भी numeric codes का इस्तेमाल नहीं किया जाता है।

JavaScript के नुकसान (Disadvantage of JavaScript in Hindi)

  • जावास्क्रिप्ट में Client Side Programming Language की वजह से Vulnerability ढूंढ़ना आसान होता है| जिसकी वजह से सिक्योरिटी में भी रिस्क होता है। 
  • यह अलग-अलग वेब ब्राउजर में अलग-अलग तरीके से काम करती है।

जावा प्रोग्रामिंग कैसे सीखे?

जैसे कि हमने आपको बताया है कि आज के समय में प्रोग्रामिंग की डिमांड बहुत ज्यादा हो रही है और जावा का इस्तेमाल तो लगभग हर क्षेत्र में किया जा रहा है| इसलिए अगर आपको Programming के Fundamentals पता है और आप Java सीखना चाहते हैं तो आपके साथ हम कुछ Tutorial और यूट्यूब वीडियो के लिंक शेयर करने जा रहे है| जिसको विजिट करके आप आसानी से जावा सीख सकते हैं और आप Software Develop करके उन्हें play Store में app बनाकर भी लाखों रुपए महीना कमा सकते हैं।

Conclusion

दोस्तों अब आप जान चुके होंगे कि Java क्या है,Java कितने प्रकार की होती है, Core Java क्या है, Java का इस्तेमाल कैसे होता है, Java के फीचर्स क्या है, Java के फायदे क्या है, Java के नुकसान क्या है, Java कैसे सीखे। उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी को पढ़ने के बाद Java से संबंधित आपके सभी सवालों के आपको जवाब मिल गए होंगे| अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

ये भी पढ़े:

Captcha Code क्या है?

RTGS क्या होता है?

फाइनेंस क्या है?

IMPS क्या है?

FAQ (Frequently Asked Questions)

Java की खोज किसने की??

Java की खोज JAMES GOSLING ने की थी| वह अपनी टीम के एक फेमस developer थे| उनकी टीम को Green Team के नाम से भी जाना जाता था| 

जावा का आविष्कार किसने किया?

जावा का आविष्कार JAMES GOSLING ने किया था|

1 thought on “जावा क्या है और Java कैसे सिखे – What is Java in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top