मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है और कितने प्रकार का होता है इसकी क्या विशेषताएं है?

मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है

क्या आप जानना चाहते है कि मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? और यह कितने प्रकार का होता है| जब भी हम कोई नया मोबाइल फोन खरीदने की सोचते है या फिर मोबाइल फोन खरीदने जाते है तो सबसे पहले हमारे दिमाग में यह ख्याल आता है कि यह किस ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है| अगर मोबाइल फोन में अच्छा ऑपरेटिंग सिस्टम लगा दिया जाये तो वह स्मर्टफ़ोने अच्छा और बेस्ट सेलिंग बन जाता है| 

अगर मोबाइल फोन में ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल ना किया जाये तोह मोबाइल फोन एक कचरे के समान ही होगा| इसलिए मोबाइल फोन में ऑपरेटिंग सिस्टम बहुत है जरूरी है| हम आपको बताना चाहेंगे की दुनिया में सबसे ज्यादा चलने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम है| अब आप सोच रहे होंगे कि ऑपरेटिंग सिस्टम होता क्या है? चलो आज हम आपको इस पोस्ट के जरिये ऑपरेटिंग सिस्टम और उसकी विशेषताएं और कमियां इत्यादि के बारे में बतायेगे| 

मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम एक सॉफ्टवेयर है जो हर उस इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस में होता है जिसे हम खुद कंट्रोल करते है और ऑपरेट कर सकते है| जैसे की हम मोबाइल की ही बात करते है मोबाइल में भी ऑपरेटिंग सिस्टम को इनस्टॉल किया जाता है जिससे कि हम फोन के सारे फीचर्स का इस्तेमाल कर सकते है जैसे की कॉल करना, मैसेज करना और भी दूसरे सारे फीचर्स ऑपरेटिंग सिस्टम की वजह से ही चलने में हम सक्षम होते है|

जैसे कि एप्पल में आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम होता है, विंडोज फोन में माइक्रोसॉफ्ट का विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम होता है और एंड्रॉयड फोन में एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम होता है| अगर मोबाइल फोन में ऑपरेटिंग सिस्टम इनस्टॉल ना हो तो फोन हमारे किसी भी काम का नहीं रहता इसके अलावा मोबाइल के ऑपरेटिंग सिस्टम के ऊपर और कोई ऑपरेटिंग सिस्टम लोड या फिर इंस्टॉल नहीं कर सकते| 

Mobile Operating System की क्या विशेषताएं है?

हम यहाँ आपको Mobile Operating System के कुछ ख़ास फीचर्स के बारे में बतायेगे जो मोबाइल को और भी बेहतरीन बनाते है| जो फीचर्स आपको किसी भी पीसी या फिर डेक्सटॉप के ऑपरेटिंग सिस्टम में देखने को नहीं मिलेंगे| और इसके यही फीचर्स इसे किसी भी पीसी या फिर डेक्सटॉप से बिलकुल अलग करते है| मोबाइल में जो विशेष फीचर्स है उनकी जानकारी नीचे लिस्ट में दी गयी है| 

  • Touchscreen
  • Wi-Fi
  • Cellular
  • SIM Management
  • NFC – Near Field Communication
  • GPS – Global Positioning System
  • Bluetooth
  • Inbuilt Modem
  • Voice Recorder
  • Fingerprint Sensor
  • Infrared Blaster
  • Face Recognition
  • Speech Recognition
  • Camera

मोबाइल एवं डेस्कटॉप ऑपरेटिंग सिस्टम में क्या अंतर है?

सबसे पहले हम आपको बताना चाहेंगे कि मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम और पीसी या डेक्सटॉप का ऑपरेटिंग सिस्टम सब एक जैसा काम ही करते है और उनके काम करने की शमता भी लगभग एक जैसी ही होती है परन्तु फिर भी हम मोबाइल के ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किसी पीसी या डेक्सटॉप में नहीं कर सकते और वैसे ही किसी पीसी या डेक्सटॉप का ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल हम किसी मोबाइल में नहीं कर सकते| क्यंकि जो मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम होता है उसको मोबाइल के लिए ही ख़ास डिज़ाइन किया गया होता है और जो पीसी या डेक्सटॉप का ऑपरेटिंग सिस्टम होता है उसे ख़ास पीसी या डेक्सटॉप के हिसाब से ही डिज़ाइन किया गया होता है इसके पीसी या डेक्सटॉप का ऑपरेटिंग सिस्टम को किसी मोबाइल फोन या गैजेट में इनस्टॉल नहीं किया जा सकता| 

Mobile Operating System कितने प्रकार का होता है? (Popular Mobile OS)

क्या आप जानते है कि मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम भी कई प्रकार के होते है जिसमे से ज्यादा इस्तेमाल होने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम में एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम, आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम, और विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम है| लेकिन इनके अलावा भी काफी ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल मोबाइल फोन में होता है जिसके बारे में बहुत कम लोगों को मालूम होता है और वह कोन कोनसा ऑपरेटिंग सिस्टम है उसकी जानकारी नीचे लिस्ट में दी गयी है| 

  • Android OS
  • iOS
  • Windows OS
  • Chrome OS
  • Web OS
  • Watch OS
  • BlackBerry
  • Ali OS
  • Fuchsia
  • Kai OS
  • Symbian
  • Bada
  • Palm OS(Garnet OS)
  • Maemo
  • Meego
  • Tizen

Android OS

जैसे की हम जानते है कि आज कल सबसे ज्यादा बिकने वाल ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम है| एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है इसका मतलब यह हुआ कि इसका कोड मुफ्त में ही उपलब्ध करवाया जाता है| वर्तमान समय में ज्यादातर लोग जो मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते है उनमे एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम ही होता है| एंड्राइड के मोबाइल खुद गूगल ने साल 2008 में मार्केट में लांच किया था और तब से लेकर अब तक सबसे ज्यादा बिकने वाला और लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम ही है| और यह सबसे ज्यादा मोबाइल फोन में इस्तेमाल किये जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम बन चुका है| 

खुबिया (Pro’s)

  • एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम एक साथ कई App चलने में सक्षम है इसलिए यह दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम से अच्छा काम करता है| 
  • एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम के कोड में बदलाव करके हम इसे अपने अनुकूल बना सकते है| 
  • एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम एप्लीकेशन अपडेट, ईमेल नोटिफिकेशन और सोशल नेटवर्किंग जैसी अप्प में भी अच्छा काम करता है| 
  • एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए गूगल प्ले स्टोर पर भी बहुत सारी एप्लीकेशन फ्री में ही उपलब्ध है| 

कमियां (Con’s)

  • एंड्रॉयड और कंप्यूटर में डाटा को सिंक करने की कोई भी सुविधा नहीं है| 
  • एंड्रॉयड एप्लीकेशन को चलाने के लिए गूगल अकाउंट से sign in करना पडता है जो की सुविधाजनक नहीं है| 
  • एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम बैटरी भी ज्यादा consume करता है| 
  • एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम में बहुत सारे संस्करण कुछ ही समय में बाजार में आ गए है जिसकी वजह से कोनसा मोबाइल ले इसको decide करना बहुत मुश्किल हो जाता है| 

iOS

iOS ऑपरेटिंग सिस्टम एंड्रॉयड के बाद सबसे ज्यादा बिकने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है और iOS ऑपरेटिंग सिस्टम एप्पल के मोबाइल फोन में इस्तेमाल होता है और इसे लांच करने वाली कंपनी एप्पल खुद ही है| जिसे साल 2007 में लांच किया गया था  iOS ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल एप्पल के दूसरे डिवाइस जैसे कि आईपैड, आईफोन, टीवी और पीसी इत्यादि में किया जाता है

खुबिया (Pro’s)

  • IOS ऑपरेटिंग सिस्टम में आईफोन और आईपैड का डाटा डेस्कटॉप कंप्यूटर में सिंक किया जा सकता है| 
  • IOS में डाउनलोड की गयी App दूसरी App के मुकाबले अच्छी होती है| 
  • IOS दूसरे ऑपरेटिंग सिस्टम की मुकाबले तेजी से अपडेट होता है और इसे इस्तेमाल करना भी आसान है| 

कमियां (Con’s)

  • IOS का इस्तेमाल करने वाले स्मार्टफोन दूसरे स्मार्टफोन के मुकाबले महंगे होते है| 
  • एप्पल और आइट्यून सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करें बिना आईफोन और आईपैड के डाटा को कंप्यूटर के साथ सिंक नहीं किया जा सकता| 
  • इसमें केवल बेहतर काम करने वाली App को ही App Store में डालने की अनुमति देता है| 

Windows OS

विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को ऐसा कोई इंसान नहीं है जो नहीं जानता होगा जिसने कंप्यूटर या लैपटॉप का इस्तेमाल किया है| विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर में इस्तेमाल होने वाल एकमात्र ऑपरेटिंग सिस्टम है जो अभी तक चल रहा है और दुनिया के सबसे अमीर आदमी की लिस्ट में आने वाले बिल गेट्स की कंपनी माइक्रोसॉफ्ट द्वारा इसे बनाया गया है| यह ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर, लैपटॉप में तो सफल रहा है परन्तु मोबाइल फोन में इतना ख़ास नहीं चला और अपनी पहचान बनाने में उतना सफल नहीं रहा है| 

खुबिया (Pro’s)

  • विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम का इंटरफ़ेस काफी आसान है और इसमें सारी App टाइल के जैसे दिखाई देती है| 
  • विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में कुछ एप्लीकेशन जैसे की मैप, सर्च, माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस, सोशल नेटवर्किंग बड़ी आसानी से चलती है| 

कमियां (Con’s)

  • गूगल प्ले स्टोर और एप्पल प्ले स्टोर के मुकाबले विंडोज स्टोर में काफी कम App है| 
  • एक साथ कई काम करने के लिए इनमे अलग अलग स्क्रीन ओपन करनी पड़ती है जो कि उपभोक्ता को काफी परेशानी पैदा करती है| 
  • इसके अलावा नोकिआ और डैल जैसे काम हार्डवेयर वाली कम्पनिया विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ अपने फोन को जोड़ती है क्यंकि यह इतना ख़ास चला नहीं है| 

BlackBerry OS

BlackBerry OS RIM (रिसर्च इन मोशन) कंपनी द्वारा बनाया गया ऑपरेटिंग सिस्टम है और यह ऑपरेटिंग सिस्टम आपको सिर्फ BlackBerry के मोबाइल फोन में ही देखने को मिलेगा| 

खुबिया (Pro’s)

  • BlackBerry OS डाटा को लगभग 50% तक कॉम्प्रेस कर देता है जिस से डाटा शेयरिंग और ईमेल करते समय बैंडविड्थ का भी कम इस्तेमाल होता है| 
  • BlackBerry OS डाटा को एन्क्रिप्टेड फॉर्म ईमेल करने की सुविधा देता है| 
  • यह ऑपरेटिंग सिस्टम कम से कम बैटरी खर्च करता है| 
  • BlackBerry OS पुश ईमेल की सुविधा भी देता है जिससे हम ईमेल को उसी समय पढ़ सकते है| 

कमियां (Con’s)

  • BlackBerry OS में इंटरनेट इस्तेमाल करने में स्पीड काफी कम आती है| 
  • BlackBerry स्टोर में दूसरे स्टोर के मुकाबले एप्लीकेशन काफी कम है| 

Chrome OS

Chrome OS भी गूगल द्वारा बनाया गया एक ऑपरेटिंग सिस्टम है और यह एक वेब एप्लीकेशन के रूप में काम करता है| इस ऑपरेटिंग सिस्टम को देखने के लिए आप गूगल के क्रोमबुक का इस्तेमाल कर सकते है| इसका मुख्य काम क्रोम ब्राउज़र का यूजर इंटरफ़ेस प्रदान करना है|

Watch OS

Watch OS  आपको कुछ idea मिल गया होगा! जी हाँ यह एप्पल की Watch में ही काम करता है यह ऑपरेटिंग सिस्टम केवल Watch के लिए बनाया गया है और इसे खुद एप्पल ने ही बनाया है और आप इस ऑपरेटिंग सिस्टम को एप्पल की सभी Watch में देख सकते है| 

Ali OS

Ali ऑपरेटिंग सिस्टम को चीन देश की सबसे मशहूर कंपनी अलीबाबा के द्वारा बनाया गया है|

Web OS

Web ऑपरेटिंग सिस्टम को पाल्मकंपनी के द्वारा बनाया गया था लेकिन बाद में इसे एचपी कंपनी ने खरीद लिया उस फिर उसके बाद एलजी ने अपनी टीवी और इंटरनेट तक के लिए इसे खरीद लिया| 

Kai OS

Kai ऑपरेटिंग सिस्टम को स्मर्टफ़ोने बनाने वाली कंपनी या फिर कह सकते है स्मर्टफ़ोने के जन्मदाता सेलकॉन ने विकसित किया था| और यह मोबाइल में इस्तेमाल होने वाल मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे Kai कंपनी द्वारा विकसित किया गया था| 

Fuchsia OS

Fuchsia भी गूगल द्वारा विकसित किया गया ऑपरेटिंग सिस्टम है और इस ऑपरेटिंग सिस्टम को सरप्राइज ऑपरेटिंग सिस्टम भी कहा जाता है क्योंकि यह ऑपरेटिंग सिस्टम आधिकारिक लांच के बिना ही लांच कर दिया गया था और इसके बारे में लोगों को भी एक पोस्ट के जरिये मालूम हुआ था| और अभी यह ऑपरेटिंग सिस्टम अपने शुरुआती दौर में है|

Symbian OS

Symbian ऑपरेटिंग सिस्टम नोकिया के द्वारा डेवेलोप किया गया था और इसका इस्तेमाल नोकिया के फोन में ही किया जाता था| इसे 5 जून 1997 को पहली बार EPOC32 तौर पर लांच किया गया था और यह एक क्लोज्ड सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है क्योंकि इसे कंपनी की अनुमति के बिना इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है| 

ये भी पढ़े:

जिओ फोन में वीगो वीडियो App कैसे चलाये

Bada

Bada ऑपरेटिंग सिस्टम को Samsung कंपनी ने डेवेलोप किया था और Bada ऑपरेटिंग सिस्टम पहली बार WaveS 8500 मोबाइल फोन में लांच किया गया और Bada ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल सैमसंग ने सिर्फ Wave Series में ही किया है|

Palm OS

Palm OS को Garnet OS के नाम से भी जाना जाता है| Palm OS को Palm Inc. के द्वारा डेवेलोप किया गया था| सबसे पहले इस ऑपरेटिंग सिस्टम को touchscreen के लिए बनाया गया था लेकिन बाद में इसे स्मार्टफोन में भी इस्तेमाल किया जाने लगा| लेकिन मार्किट में बढ़ते हुए कम्पटीशन को यह ऑपरेटिंग सिस्टम कपट नहीं कर पाया और जिसकी वजह से यह मार्किट से जल्द ही बाहर हो गया| 

Maemo

Maemo ऑपरेटिंग सिस्टम नोकिया के द्वारा डेवेलोप किया गया था और इसे स्मार्टफोन और इंटरनेट टेबलेट के लिए डेवेलोप किया गया था यह भी एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम था| यह ऑपरेटिंग सिस्टम काफी user फ्रैंडलित था| इसमें सिर्फ एक ही होम स्क्रीन थी जिसे आप अपने मोबाइल की सेटिंग और एप्लीकेशन को एक्सेस कर सकते थे| इस ऑपरेटिंग सिस्टम में होमस्क्रीन अलग अलग भाग में बाँट जाता था जहा से आप सर्च बार, मेनू बार, रेडियो एप्लीकेशन को आसानी से लांच किया जा सकते था| 

MeeGo

MeeGo ऑपरेटिंग सिस्टम नोकिआ और Moblin द्वारा डेवेलोप किया गया था| इस ऑपरेटिंग सिस्टम को इन-कार डिवाइस, hand-helds, टेलीविज़न, नेटबुक इत्यादि के लिए डेवेलोप किया था परन्तु बाद में कुछ करने से नोकिआ ने अपने इस ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करना बंद कर दिया|  

Tizen

Tizen ऑपरेटिंग सिस्टम Linux पर आधारित ऑपरेटिंग सिस्टम है इसे Linux foundation के द्वार सपोर्ट मिला| लेकिन इसका सबसे पहले इस्तेमाल सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के द्वारा किया गया था| समसुंग ने खुद के ऑपरेटिंग सिस्टम Bada को Tizen के साथ मिल दिया| यह एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में उपलब्ध है और इसका इस्तेमाल मुख तौर पर wearable devices और स्मार्ट TV को डेवेलोप करने के लिए किया गया था| 

MeeGo ऑपरेटिंग सिस्टम नोकिआ और Moblin द्वारा डेवेलोप किया गया था| इस ऑपरेटिंग सिस्टम को इन-कार डिवाइस, hand  helds, टेलीविज़न, नेटबुक इत्यादि के लिए डेवेलोप किया था परन्तु बाद में कुछ करने से नोकिआ ने अपने इस ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करना बंद कर दिया|  

हमारा यह पोस्ट पढ़ने के बाद आप जान चुके होंगे की मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है और मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार का है और इसका क्या विशेषताएं है| हम उम्मीद करते है कि यह इस पोस्ट के जरिये आपको काफी जानकारी प्रपात हुयी होगी और अपनी राय देने के लिए आप हमे कमेंट भी कर सकते है| 

FAQ (Frequently Asked Questions)

एप्पल का ऑपरेटिंग सिस्टम कौन सा है?

एप्पल का ऑपरेटिंग सिस्टम iOS है जो Apple द्वारा जारी और उपयोग किया जाता है।

Your Answer

Your email address will not be published.

Scroll to Top