One Time Password (OTP) क्या है?

क्या आप जानते हैं कि One Time Password (OTP) क्या है? अगर नही तो हम इस लेख में इसके बारे में पूरी जानकारी देंगे। आज कल ज्यादातर काम हम ऑनलाइन ही कर लेते हैं। कोई भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन हो, मोबाइल रिचार्ज या खरीददारी के बाद पेमेंट करनी हो या फिर हम किसी प्रकार का ऑनलाइन अकाउंट खोलते हैं उससे भी OTP का इस्तेमाल अवश्य किया जाता है। OTP ज्यादातर मैसेज के जरिए ही भेजा जाता है क्योंकि सभी हैंडसेट में मैसेज की सुविध होती है। तो चलिए अब हम जान लेते हैं कि यह क्या है और इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है। साथ ही इसके फायदे क्या हैं और यह कहां कहां इस्तेमाल होता है।

One Time Password (OTP) क्या है?

One Time Password एक सिक्योरिटी कोड हैजो ज्यादातर 6 अक्षर का होता है। यह एक ऐसा पासवर्ड है जो सिर्फ एक बार ही प्रयोग होता हो सकता है। ऑनलाइन वेरिफिकेशन करने, किसी वेबसाइट पर लॉगिन करने या ऑनलाइन शॉपिंग करने के बाद डेबिट या क्रेडिट कार्ड से भुगतान करते समय कई वेबसाइट्स आपसे OTP नंबर मांगती हैं। यह एक मिसेज के रूप में आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आता है, OTP कोड 4 से लेकर 8 अंकों का भी हो सकता है। OTP वेरिफिकेशन किए बिना आप किसी भी अकाउंट से भुगतान नहीं कर सकते हैं। इसे सिर्फ एक बार ही इस्तेमाल किया जा सकता है, दूसरी बार इस्तेमाल करना संभव नहीं है। यह आपकी अतिरिक्त सुरक्षा को देखते हुए बनाया गया है।

अलग अलग सेवा देने वालों के OTP की समय सीमा भी अलग अलग होती है, सबसे कम समय सीमा बैंकिंग क्षेत्र में होती है, मेल, सोशल मीडिया में OTP की वैद्यता की समय सीमा 30 मिनट तक होता है।

OTP का इस्तेमाल क्यों किया जाता है?

OTP के उपयोग से ऑनलाइन लेनदेन को सुरक्षित बनाने में मदद मिलती है। साथ ही, जब हम कई वेबसाइटों पर साइन अप या लॉगिन करते हैं, तो कुछ कोड हमें उस साइट द्वारा भेजे जाते हैं और जब हम अपने मोबाइल नंबर का उपयोग करते समय इसे पुन: प्राप्त करने के लिए अपनी किसी भी वेबसाइट का पासवर्ड भूल जाते हैं और उस वेबसाइट द्वारा हमारे नंबर पर OTP कोड भेजा जाता है और हम उस वेबसाइट से उस OTP कोड के साथ अपना पासवर्ड फिर से प्राप्त कर सकते हैं।

ऑनलाइन हैकिंग का खतरा आज काफी बढ़ गया है, OTP का काम ऐसी गतिविधियों के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करना है। अगर किसी को आपका पासवर्ड पता हो तो वह आपके खाते के साथ कुछ भी कर सकता है लेकिन OTP होने से ऐसे खतरों से बचा जा सकता है। यही वजह है कि आपको बैंकों द्वारा हमेशा चेतावनी दी जाती है कि किसी अन्य व्यक्ति को अपने फोन पर प्राप्त OTP शेयर न करें।

ज्यादातर लोग जो किसी ऑनलाइन अकाउंट के लिए अपना मनचाहा पासवर्ड बनाते हैं तो उसमें अपना नाम या जन्म तिथि डाल देते हैं या फिर कोई आसान सा पासवर्ड बनाते हैं जो उन्हें आसानी से याद आ जाए। लेकिन यह आसान पासवर्ड आपके ऑनलाइन अकाउंट के लिए खतरा बन सकता है तथा आपका अकाउंट पूरी तरह से सुरक्षित नही रहता इसलिए OTP की सहायता से इसे और भी सिक्योर बनाया जाता है। क्योंकि OTP आपके बनाए गए पासवर्ड से बिल्कुल अलग होता है और हर बार यह अलग अलग अनुक्रम में जनरेट हो कर आता है।

OTP का इस्तेमाल कहां कहां किया जाता है?

OTP का इस्तेमाल ज्यादातर तो नेट बैंकिंग में ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने के लिए किया जाता है। इसके इलावा गूगल अकाउंट जैसे Gmail, Youtube, Gpay में इस्तेमाल होता है। ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते वक्त, ईमेल आईडी किसी दूसरे डिवाइस में लॉगिन करने पर , गूगल पर अकाउंट वेरिफिकेशन के लिए, इकॉमर्स वेबसाइट जैसे Amazon, Flipkart, Snapdeal, Myntra, Tata cliq, Jabong इत्यादि, डिजिटल वॉलेट सेवा प्रदान करने वाले एप्लीकेशन जैसे   Paytm, Goggle Pay, Phone Pay, Mobikwik, Amazon Pay इत्यादि ये सभी भी अपने कस्टमर्स के अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए  OTP का इस्तेमाल कर रहे हैं।

OTP के फायदे ( Advantages of OTP)

तो आइए जानते हैं के OTP के फायदे क्या क्या हैं:-

सुरक्षा

इसे सुरक्षा कोड इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह यूजर का सुरक्षा कवच है। जब हम OTP का इस्तेमाल करते हैं तो यह हमारी सुरक्षा की परत को बढ़ा देता है क्योंकि यह सिर्फ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर में ही आता है अत: सिर्फ हमें पता चलता है। अगर आपका यूजरनेम और पासवर्ड किसी के पास है, तब भी वह आपके अकाउंट को ओपन नही कर सकता। इसकी मदद से आपका ऑनलाइन अकाउंट और भी सिक्योर हो जाता है।

यूजर का प्रमाणिकरण

OTP से इस बात का सबूत मिल जाता है कि जिस किसी साइट में या अकाउंट में आप लॉगिन करना चाह रहे हैं या फिर कोई ऑनलाइन ट्रांजैक्शन, पासवर्ड बदलना, मोबाइल नंबर अपडेट करना आदि कर रहे हैं, वह एक्टिविटी आप ही कर रहे हैं क्योंकि जिस नंबर से हम कहीं पर भी अपना अकाउंट बनाते हैं, तो OTP उसी रजिस्टर्ड  मोबाइल नंबर पर आता है। इसे एंटर करने पर ही एक्शन को वैद्य माना जाता है।

धोखाधड़ी से बचाव

आजकल आए दिन बैंकिंग fraud और ऑनलाइन ठगी की खबरें सुनने को मिलती हैं ऐसे में OTP का महत्व और भी बढ़ जाता है क्योंकि OTP हमें ऑनलाइन ठगी से बचाता है। जब भी आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं तो बैंक खाताधारक से अनुमति लेने के लिए OTP भेजता है, और असली खाताधारक की पहचान होने के बाद ही पेमेंट प्रोसेस को पूरा करता है। इस तरह कोई भी हैकर आपके अकाउंट से अनाधिकृत लेन देन नहीं कर सकता।

Double Security Enable कर सकते हैं

हम OTP के द्वारा अपने अकाउंट या सोशल मीडिया अकाउंट जैसे फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर, इंस्टाग्राम, जीमेल इत्यादि पर OTP डबल सिक्योरिटी इनेबल कर सकते हैं और इसे उन्हें ज्यादा सुरक्षित बना सकते हैं ताकि कोई दूसरा यूजर उसे एक्सेस न कर सके।

मुफ्त

इसकेे लिए यूजर को कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं देना पड़ता है। इसकी जिम्मेदारी संबंधित वेबसाइट एप अथवा संस्थान की होती है।

तेज

OTP से यूजर की पहचान सैकण्डों में साबित हो जाती है। यूजर को अपने पहचान दस्तावेज लेकर मजिस्ट्रेट के पास हाजिर नहीं होना होता है।

अनिवार्य नहीं

यह सुरक्षा कवच है मगर हर जगह इसे अनिवार्य नहीं किया गया है। यह पूरी तरह ग्राहक की मर्जी पर निर्भर करता है। वह OTP की सुरक्षा पाना चाहता है या नहीं।

OTP के नुकसान

  • बहुत से ऑनलाइन जगहों पर आप कोई भी काम बिना मोबाइल OTP के नही कर सकते है, अर्थात अगर आपका मोबाइल नंबर बंद या खो गया होगा, तो आप इस काम को नहीं कर पाएंगे।
  • बहुत से ऑनलाइन साइट के यूजर ID या पासवर्ड को बदलने के लिए केवल OTP की ही जरूरत पड़ती है, अर्थात अगर आपका मोबाइल नंबर किसी के हाथ में चला गया तो आपको भारी खामियाजा भुगतना पढ़ सकता है।
  • अपने पंजीकृत मोबाइल को हमेशा सुरक्षित रखना पड़ता है, अगर ऐसा करने में आप विफल हुए तो आपको भारी नुकसान झेलना पढ़ सकता है।

OTP के बारे में जानकारी

ज्यादातर लोग सिर्फ एक ही OTP के बारे में जानते हैं। लेकिन आज हम आपको OTP के और भी प्रकार के बारे में बताते हैं।

SMS

ज्यादातर वेबसाइट SMS OTP का प्रयोग करते है क्योंकि SMS के माध्यम से आने वाला ओटीपी सबसे लोकप्रिय और आसान है।

Voice Calling

Voice Calling का अर्थ है आपके मोबाइल पर कॉल करके ओटीपी बताया जाएगा. आप इस विकल्प का प्रयोग Facebook या WhatsApp अकाउंट बनाते समय कर सकते हैं।

Email

OTP जानने का एक ज़रिया Email भी है. इसमें OTP आपके ईमेल पर भेजी जाती है तथा आप अपने Email ID को खोलकर OTP प्राप्त कर सकते है।

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूं कि मैं आपको One Time Password (OTP) क्या है? के बारे में जानकारी देने में सफल रहा हूं। अगर आपके मन में इस लेख को लेकर कोई भी आशंका है तो हमें जरूर बताएं। अगर आपको हमारा लेख पसंद आया है तो इसे अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और परिवार वालों के साथ जरूर सांझा करें और अपने विचार सांझा करने के लिए हमारे कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट अवश्य करें धन्यवाद।

 

 

FAQ (Frequently Asked Questions)

6 अंकों OTP नंबर क्या है?

जब भी हम ऑनलाइन अपने बैंक खाते से पैसे किसी ओर बैंक खाते में या UPI के जरिए किसी को भी ट्रांसफर करते हैं तो पेमेंट करने से पहले आपके बैंक अकाउंट के साथ रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर 6 अंको का कोड आता है| जब तक आप इस 6 अंकों के कोड को नहीं भरते हैं तब तक आपका पेमेंट ट्रांसफर नहीं होता है| यह कोड आपके रजिस्टर मोबाइल नंबर पर एसएमएस के जरिए आता है और यह 6 अंकों का कोड ही आपका ओटीपी होता है। ओटीपी भरने के बाद ही आप अपनी डिजिटल पेमेंट कर सकते हैं| 

ओटीपी कितने अंक का होता है?

जब भी किसी वेबसाइट मे लॉगइन करने के बाद जब हम अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं| तो उस समय शॉपिंग करने से पहले हमसे एक ओटीपी मांगा जाता है| OTP एक verification कोड होता है| जो कि आपके बैंक खाते के साथ रजिस्टर मोबाइल नंबर पर आता है| यह कोड 6 अंक का होता है| 

ओटीपी ना आए तो क्या करें?

आपके मोबाइल नंबर पर OTP ना आने की एक वजह आपका मोबाइल का नेटवर्क भी हो सकता है| अगर आपके मोबाइल में नेटवर्क सही नहीं है तो आपको उसके लिए या तो अपने मोबाइल के Airplane Mode को ऑन कर सकते हैं या फिर अपने मोबाइल को 5 सेकेंड के लिए Switch OFF/Switch ON करके स्विच ऑन कर सकते हैं| जैसे ही आप अपने मोबाइल को स्विच ऑन करते हैं तो आपके मोबाइल पर नेटवर्क दोबारा वापस आ जाएगा और नेटवर्क के आते ही आपके नंबर पर OTP आ जाएगा और आपकी समस्या ठीक हो जाएगी|

Your Answer

Your email address will not be published.

Scroll to Top