टैली क्या है और कैसे सीखें पूरी जानकारी हिंदी में

दोस्तों क्या आप भी एकाउंटिंग में इंटरेस्ट रखते हैं? क्या आप भी जानना चाहते हैं कि Tally क्या है? टैली का फुल फॉर्म क्या है? Tally का इस्तेमाल कैसे और किन किन कार्यों के लिए किया जाता है?

आज के इस पोस्ट में हम आपको Tally से संबंधित पूरी जानकारी देने जा रहे हैं| अगर आपको Tally के बारे में बिल्कुल भी जानकारी नहीं है तो आप घबराइए मत| हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें और आपको अपने सारे सवालों के जवाब मिल जाएंगे। 

हम लोगों ने बहुत सारी रिसर्च करने के बाद इस पोस्ट में आप के साथ Tally के बारे में जानकारी शेयर की है| जिससे आप टैली से संबंधित कार्य और उनके फायदे और नुकसान के बारे में भी समझ पाएंगे।

हम आपको बताना चाहेंगे कि Tally पॉपुलर अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है| जिसका इस्तेमाल किसी भी कंपनी, बिजनेस या बैंक के द्वारा लेन देन के रिकॉर्ड रखना, उसे मेंटेन करना और उससे संबंधित डाटा को सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है| तो चलिए दोस्तों अब हम आपको बताते हैं कि टैली क्या है, What is Tally in Hindi. इसके लिए आप हमारे साथ बने रहिए और हमारे इस पोस्ट को अंत तक पूरे ध्यान से पढ़िए।

Tally क्या है (What is Tally in Hindi)?

Tally एक ऐसा सॉफ्टवेयर पैकेज है जिसका इस्तेमाल लेनदेन के हिसाब रखने के लिए किया जाता है| इसलिए लेनदेन के हिसाब के process को अकाउंटिंग कहते हैं| इस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल उपयोगकर्ता द्वारा खातों का रिकॉर्ड रखना, खाते को मेंटेन रखना, जमा की गई राशि का रिकॉर्ड रखना, निकाली गई राशि का रिकॉर्ड रखना, डाटा को सुरक्षित रखना और GST Return भरना जैसे इन सभी कार्यों के लिए Tally सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है| Tally सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करने का फायदा यह है कि इसमें किसी भी प्रकार की गलत डाटा को रिकॉर्ड होने से बचाया जाता है।

पहले समय में Tally का इस्तेमाल इतना ज्यादा नहीं किया जाता था| परंतु जब से भारत में GST आया है तब से Tally की डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ गई है तो दोस्तों अब आप Tally क्या होता है, इसके बारे में तो समझ गए हैं| अब हम आपको बताएंगे कि Tally का कोर्स कितने दिन का होता है और Tally कैसे किया जाता है| परंतु उससे पहले हम आपको बताना चाहते हैं कि Tally का फुल फॉर्म क्या होता है।

Tally Full Form in Hindi

टैली का फुल फॉर्म Transactions Allowed in a Linear Line Yards होता है| यह एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जिसका इस्तेमाल किसी भी बिजनेस, बैंक या अन्य व्यवसाय के द्वारा एकाउंटिंग के लिए किया जाता है| इस सॉफ्टवेयर के जरिये जीएसटी रिटर्न भी भेज सकते हैं।

टैली का इतिहास (History of Tally in Hindi)

एकाउंटिंग का काम तो आज से पहले भी किया जाता था| परंतु उस समय यह काम कागजों के ऊपर किया जाता था| जिसकी वजह से इस काम को करने में बहुत ज्यादा मुश्किल भी होती थी| फिर उसके बाद सन् 1986 में श्याम सुंदर गोयनका ने Tally का आविष्कार किया| हम आपको बताना चाहेंगे कि श्यामसुंदर गोयनका पहले टेक्सटाइल मिल में कच्चा माल सप्लाई करने का काम करते थे और उन्हें हिसाब किताब करने में भी बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता था| 

इसलिए उन्होंने अपने बेटे भारत गोयनका के साथ मिलकर MS-Dos सॉफ्टवेयर को बनाया था| जिसको बाद में Tally के नाम से जाना जाने लगा। Tally Solution नाम की कंपनी के द्वारा विकसित किया गया है तो चलिए दोस्तों अब हम आपको बताते हैं कि Tally के Versions कौन-कौन से हैं।

Tally के Versions (विवरण)

1. Tally 4.5

Tally के इस वर्जन को साल 1990 में रिलीज किया गया था| यह Tally का पहला वर्जन था और यह MS-Dos पर आधारित था।

2. Tally 5.4

यह Tally का Graphic Interface Version था| इसे साल 1996 में रिलीज किया गया था यह Tally का second version है।

3. Tally 6.3

यह Tally का तीसरा वर्जन है| इसका उपयोग प्रिंटिंग के लिए किया जाता था और यह है window पर आधारित था।

4. Tally 7.2

Tally के इस वर्जन को साल 2005 में रिलीज किया गया था और इस वजन का मुख्य काम Value Added Taxation था।

5. Tally 8.1

Tally का यह वर्जन Data Structure पर आधारित था और इस वर्जन में Payroll और Point of Sale जैसे फीचर्स को ऐड किया गया था।

6. Tally 9

Tally के इस वर्जन को साल 2006 में रिलीज किया गया था और इस वर्जन में काफी उपयोगी features add किए गए थे| जिसकी वजह से यह बाकी दूसरे वर्जन से काफी ज्यादा उपयोगी था| इस वर्जन में FBT, TDS, E-TDS Filling, Payroll शामिल किए गए थे।

7. ERP 9

यह Tally का सबसे latest version है और इसे साल 2009 में रिलीज किया गया था| Tally के version का उपयोग सभी छोटे और बड़े business के लिए किया जाता है| इसके अलावा जीएसटी के लिए Tally ERP का उपयोग सबसे ज्यादा किया जाता है।

Tally में क्या क्या सिखाया जाता है?

जैसे कि हमने आपको बताया था कि Tally एक का इस्तेमाल एकाउंटिंग के लिए किया जाता है तो इससे आप जान ही गए होंगे Tally एक अकाउंटिंग कंप्यूटर कोर्स है|  टैली कोर्स डिटेल्स में Accounting Fundamental, Account Maintain, Create Inventory, Accounting Voucher, Accounting of Bill, Budget & Control, Security Control, Tally Audit , Backup & Restore, Interest Calculation, Tally to Excel, JPEG, PDF, Cheque Printing, Split Company Data, Income & Expense Statement, Multiple Address, Bill Statement, GST Services etc. इन सभी बारे में सिखाया जाता है अब हम आपको बताते हैं कि टेली करने के क्या फायदे हैं। जिसमें आप basic लेवल से लेकर advance लेवल तक सीख सकते हैं| यह आप पर निर्भर करता है कि आप कितना सीखना चाहते हैं। 

Tally करने के फायदे

Tally करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप इसे कम पैसों में किसी मान्यता प्राप्त कंप्यूटर इंस्टिट्यूट से कर सकते हैं| अगर आप इस कोर्स को पूरा कर लेते हैं तो आप भविष्य में अकाउंटेंट के तौर पर कहीं भी नौकरी कर सकते हैं| आप किसी छोटी या बड़ी कंपनी या सरकारी कार्यालय में अकाउंटेंट की job कर सकते हैं। जब से GST भारत में लागू हुआ है तब से भारत में Tally की डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ गई है| इसलिए अगर आप टैली का कोर्स करते हैं तो आप किसी अच्छे कंपनी में या बैंक में किसी अकाउंटेंट के पद पर जॉब कर सकते हैं।

Tally कोर्स कितने समय में होता है?

अगर आप एकाउंटिंग में दिलचस्पी रखते हैं तो आपके लिए Tally का कोर्स बहुत ही ज्यादा अच्छा साबित हो सकता है| यह एक ऐसा कोर्स है जो कम पैसे में आप किसी भी कंप्यूटर इंस्टिट्यूट से कर सकते हैं| इस कोर्स को करने के लिए आपको 3 से 4 महीने का समय लगता है।

Tally कैसे और कहाँ से सीखें?

Tally सीखने के लिए आप किसी भी मान्यता प्राप्त इंस्टिट्यूट से कोचिंग लेकर यह कोर्स आसानी से कर सकते हैं| इसके अलावा अगर आप घर बैठे Tally कोर्स करना चाहते हैं तो आप ऑनलाइन यूट्यूब की मदद से Tally कोर्स कर सकते हैं| परंतु आपको इसकी प्रैक्टिस करना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर आप किसी भी क्षेत्र में expert होना चाहते हैं तो उसके लिए उसकी प्रैक्टिस करना बहुत ज्यादा जरूरी होता है तभी उसमें आप expert बन सकते हैं।

टैली कोर्स करना महत्वपूर्ण क्यों है?

जब से GST लागू हुआ है तब से हर छोटी या बड़ी कंपनी अपने एकाउंटिंग के काम के लिए Tally का इस्तेमाल कर रही है और उनको एक अच्छे अकाउंटेंट की जरूरत पड़ती है| इसलिए आप टैली का कोर्स करके किसी भी अच्छी कंपनी में Accountant की job कर सकते हैं| यह आप पर निर्भर करता है कि आप Full Time Job करते हैं या Part Time Job करते हैं।

टैली की विशेषताएं और लाभ

  • Tally ERP 9 अकाउंटिंग पैकेज है| जिसका इस्तेमाल व्यवसायिक डाटा को रिकॉर्ड करने के लिए किया जाता है।
  • व्यापार मालिक और कंपनी के मालिकों के द्वारा अकाउंट से संबंधित डाटा से interact करने के लिए Tally ERP 9 का इस्तेमाल किया जाता है। 
  • Tally का इस्तेमाल TDS, Excise, TCS, GST के साथ-साथ Accounting, Finance, Accounting, Finance, Sale, Purchase, Inventory Point of Sale, Costing, Manufacturing, Job, Costing Payroll और Branch Management जैसी व्यापक कार्य क्षमताएं के लिए किया जाता है। 
  • टैली अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है जिसकी वजह से यह काम को स्पीड और accuracy के साथ करता है| इसी वजह से इसका इस्तेमाल छोटे और बड़े business के लिए किया जाता है।

Tally का उपयोग कैसे करें?

Tally अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है| इसका इस्तेमाल businessman या बैंकों के द्वारा अकाउंट के लिए किया जाता है| वह चाहे Debit करना हो या Credit दोनों के लिए Tally का इस्तेमाल किया जाता है| Tally में एंट्री डिजिटल फॉर्म में की जाती है इसलिए आपको Tally के बेसिक रूल का पता होना जरूरी है| अगर आप टैली में एक्सपर्ट हो जाते हैं तो आप किसी भी firm, company और व्यापारिक संस्था में accountant के पद पर जॉब कर सकते हैं।

टैली कोर्स में Apply करने की प्रक्रिया

  • टैली का कोर्स में Apply करने के लिए आपका 12th पास होना जरूरी है| इसमें यह मैटर नहीं करता कि आप ने 12th में कौन से subjects चुने थे।।
  • टैली कोर्स के लिए योग्यता कितनी होनी चाहिए?
  • टैली का कोर्स करने के लिए आपको 12th की मार्कशीट की आवश्यकता होती है| 
  • आपको इंग्लिश की नॉलेज होनी चाहिए क्योंकि कंप्यूटर पर काम करने के लिए आपको इंग्लिश भाषा का इस्तेमाल करना पड़ता है| 
  • अगर आपकी 12th Commerce विषय में है तो वह ज्यादा अच्छी बात होगी।

टैली अकाउंटिंग क्या है?

टैली अकाउंटिंग अकाउंट के लिए बहुत ही अच्छा सॉफ्टवेयर है| जिसका इस्तेमाल credit, debit, reverse general, receipt, payment sales purchase और memo की जानकारी को save करने के लिए किया जाता है।

Tally Course Job Salary

अगर आप टैली कोर्स अच्छे से कर लेते हैं तो आप किसी भी प्राइवेट कंपनी, किसी छोटे या बड़े बिजनेस या किसी बैंक में आसानी से अकाउंटेंट की जॉब हासिल कर सकते हैं| इसके अलावा आप किसी भी कंपनी में part time job से भी शुरुआत कर सकते हैं| अगर आप किसी कंपनी में जॉब करते हैं तो आप 8000 से 12000 प्रति महीना कमा सकते हैं और जैसे-जैसे आप का experience बढ़ता जाएगा आपकी सैलरी 15000 से ₹35000 महीना भी हो सकती है| परंतु यह भी निर्भर करता है कि आप किस कंपनी में जॉब कर रहे हैं।

Tally में वाउचर कितने प्रकार के होते है ?

Tally में आमतौर उपयोग किए जाने Vouchers इस प्रकार है –

  • Sales Voucher
  • Receipt Voucher
  • Payment Voucher
  • Purchase Voucher
  • Contra Voucher
  • Journal Voucher
  • Debit Note Voucher
  • Credit Note Voucher
  • Inventory Vouchers, Physical Stock Verification
  • Material In and Material Out Voucher
  • Delivery Note and Receipt Note Vouchers
  • Purchase Order and Sales Order Vouchers

Conclusion

अब आप जान चुके हैं कि Tally क्या है, Tally कितने प्रकार की होती है, Tally का उपयोग कैसे किया जाता है, Tally करने के फायदे क्या है| अगर आप भी account में दिलचस्पी रखते हैं तो हमारी राय होगी कि आप को Tally का कोर्स करना चाहिए और टैली का कोर्स करने के बाद आप किसी भी प्राइवेट कंपनियां, बैंक में accountant की जॉब कर सकते हैं और अच्छा खासा पैसा भी कमा सकते हैं। 

उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी को पढ़ने के बाद आपके मन में Tally से संबंधित जितने भी सवाल थे उसके आपको जवाब मिल गए होंगे| अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट हो या फिर आप हमें कोई राय देना चाहते हैं तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

NEFT क्या है?

IFSC Code क्या है?

RTGS क्या होता है?

VPN Kya Hai है?

FAQ (Frequently Asked Questions)

Tally Full Form क्या है?

Tally का Full Form Transactions Allowed in a Linear Line Yards होता है|

Tally Course कितने प्रकार के होते हैं?

Tally Course 2 प्रकार के होते हैं| Basic Tally और Advance Tally.

टैली कितने महिने का कोर्स है?

टैली का Basic course 3 महीने का और Advance course करने के लिए 3 महीने से ज्यादा समय लगता है|

टैली कोर्स की फीस कितनी होती है?

टैली कोर्स की फीस आपके institute पर निर्भर करती है कि आप कहाँ से यह कोर्स कर रहे है| परन्तु आम तौर पर Tally Basic Course की Fees 3000-4000 तक और Advance Course की Fees 6000-8000 तक हो सकती है|

Tally के जनक कौन हैं?

Tally के जनक श्यामसुंदर गोयनका हैं|

1 thought on “टैली क्या है और कैसे सीखें पूरी जानकारी हिंदी में”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top