VPN Kya Hai और VPN कैसे काम करता है?

दोस्तों क्या आप भी जानना चाहते हैं कि VPN Kya Hai? आजकल इंटरनेट का इस्तेमाल तो हर कोई कर रहा है और हम यह बात भी जानते हैं कि इंटरनेट का इस्तेमाल करने के जहां हमे इतने फायदे हैं वहां उसके कुछ नुकसान भी है| जैसे कि हमारी information इंटरनेट पर public होती है| कोई उसका गलत इस्तेमाल ना कर सके और उसको security प्रदान करने के लिए हम VPN का इस्तेमाल करते हैं| 

आजकल आप ने VPN का नाम तो सुना ही होगा| यह काफी ज्यादा डिमांड में है क्योंकि इसका इस्तेमाल करके लोग अपने data को security प्रदान कर रहे हैं| साथ ही यह इंटरनेट पर काफी सुरक्षित भी है| यह हमारे डाटा को encrypt करता है और हमारे IP Address को भी दूसरों से छुपाता है| यानी कि है हमारी identity को इंटरनेट पर छुपाता है| फिर चाहे आप कोई public WIFI नेटवर्क का ही इस्तेमाल क्यों ना कर रहे हो।

आज के समय में इंटरनेट पर personal details करना काफी ज्यादा खतरनाक हो गया है क्योंकि इंटरनेट पर ऐसे बहुत से लोग हैं जो आपकी पर्सनल डिटेल का गलत इस्तेमाल कर सकते हैं| आप को ब्लैकमेल कर सकते हैं| परंतु जब से VPN का इस्तेमाल होने लगा है हमारी information भी सुरक्षित हो गई है| अगर हम ऑनलाइन कोई काम करते हैं तो हमें हर वक्त इस बात का डर रहता है कि हमारी इंफॉर्मेशन या हमारा डाटा कोई चोरी ना कर ले या कोई इसका गलत इस्तेमाल ना करले| 

हम इसे सुरक्षित रख सकते है उसके लिए हम VPN का इस्तेमाल ककर सकते है| अब हम आपको बताएंगे VPN क्या है? VPN कैसे काम करता है? VPN का फुल फॉर्म क्या है? VPN कैसे सेट करते हैं? VPN इस्तेमाल करना सही है या गलत? तो चलिए अब हम शुरू करते हैं।

VPN Kya Hai – What is VPN in Hindi?

VPN एक नेटवर्क है जो कि हमारे private और public नेटवर्क जैसे कि WIFI में सुरक्षित connection बनाता है| VPN एक ऐसा तरीका है जिस से हम अपने data और जरूरी information को सुरक्षित रख सकते हैं| उसे है hackers से बचा सकते हैं। VPN का इस्तेमाल ऑनलाइन सर्विस में किया जाता है जैसे कि ऑनलाइन Business, Organization, सरकारी  Agencies, Corporation, Educational Institute इतियादि महत्वपूर्ण डाटा को unauthorized users से सुरक्षित रखने के लिए VPN का इस्तेमाल करते हैं| 

VPN एक ऐसा नेटवर्क है जिस से हम हर प्रकार के डाटा को सुरक्षित रख सकते हैं चाहे वह डाटा जरूरी हो या जरूरी ना भी हो| हम अपने सारे डेटा को सुरक्षित रख सकते हैं। आज के समय में इंटरनेट का इस्तेमाल हर कोई कर रहा है| आम व्यक्ति इंटरनेट का इस्तेमाल browsing के लिए करता है| इसलिए वह अपने फोन में भी VPN App को डाउनलोड करके इंटरनेट पर अपनी इंफॉर्मेशन को सुरक्षित रख सकता है।

इंटरनेट एक ऐसी technique है जिसका इस्तेमाल करने पर और उनके rules तोड़ने पर हमें काफी नुकसान भी पहुंच सकता है यहां तक की jail भी हो सकती है| अगर आप अपनी identity को safe रखना चाहते हैं और protected रखना चाहते हैं यानी कि आप अगर अपनी identity को private और secure रखना चाहते हैं तो identity का इस्तेमाल करके यह कर सकते हैं| identity का इस्तेमाल करने से बहुत सी restrictions को bypass भी किया जा सकता है।

VPN का Full Form क्या है?

VPN का Full Form Virtual Private Network है|

VPN कितने प्रकार के होते है? VPN kitne prakar ke hote hai?

VPN के काम करने के आधार पर VPN दो प्रकार के होते हैं

Remote Access VPN

Remote Access VPN लोगों को निजी नेटवर्क के साथ जुड़ने, संस्धानों और सेवाओं का इस्तेमाल करने की अनुमति देता है| Remote Access VPN को आम व्यक्ति और व्यवसाय वाला व्यक्ति भी इस्तेमाल कर सकता है| अगर कोई कर्मचारी अपने कार्यालय से दूर है तो वह Remote Access VPN की मदद से उस नेटवर्क का इस्तेमाल करके अपनी फाइलों और संस्धानों को अच्छे से इस्तेमाल कर सकता है और उनका उपयोग कर सकता है।

Site-to-Site VPN

Site-to-Site VPN को Router to Router VPN भी कहा जाता है| इन VPN का इस्तेमाल बड़े निगमों के द्वारा व्यापक रूप से किया जाता है|  इस प्रकार के VPN का उपयोग व्यवसाय और संगठनों द्वारा अपने अलग-अलग ब्रांच को एक प्राइवेट नेटवर्क के साथ जोड़ने के लिए किया जाता है| यह दो प्रकार के होते हैं|

  • Intranet-based VPN
  • Extranet-based VPN

VPN का क्या काम है?

जैसा कि हमने आपको अभी बताया है कि VPN का इस्तेमाल इंटरनेट पर आपकी इंफॉर्मेशन और डेटा को सुरक्षा प्रदान करने के लिए किया जाता है| यही वजह है कि आज के समय में VPN का इस्तेमाल इतना ज्यादा होने लगा है क्योंकि यह सर्वजनिक नेटवर्क का इस्तेमाल करके निजी नेटवर्क से सुरक्षित रूप से कनेक्ट करने में मदद करता है| VPN का इस्तेमाल करने से आपका पर्सनल डाटा encrypt हो जाता है और यह रिमोट सर्वर के जरिए रूट करता है| यह आपके डाटा को hackers से सुरक्षा प्रदान करता है जो आप के डाटा को चोरी करना चाहते हैं या फिर आप के डाटा के ऊपर नजर लगा कर बैठे होते हैंl

VPN कैसे काम करता है – How VPN Works in Hindi

VPN का इस्तेमाल करके हम अपने डाटा और इंफॉर्मेशन को सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं| अगर आप इंटरनेट पर अपना कोई भी डाटा शेयर कर रहे हैं तो VPNकी मदद से आप उसको सुरक्षित रख सकते हैं| VPN का इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इंटरनेट पर जो भी restrictions होते हैं जैसे कि कुछ वेबसाइट ऐसी होती है जो आपके देश में आप चला नहीं सकते हैं या देख नहीं सकते हैं VPN का इस्तेमाल करके आप उन वेबसाइट को access कर सकते हैं| 

मतलब कि जो वेबसाइट आपको देखने की इजाजत नहीं देती है आप VPN की मदद से उनको देख सकते हैं| जब हम अपने डिवाइस को VPN के साथ कनेक्ट करते हैं तो वह device एक local network की तरह काम करता है और उस वेबसाइट को VPN की मदद से अपने फोन ब्राउज़र में डालकर उस वेबसाइट को access कर सकते हैं और उसके डाटा को भी देख सकते हैं| यही मुमकिन है अब आप सोच रहे होंगे की VPN के जरिए यह कैसे हो सकता है|

हम आपको बताना चाहेंगे कि जब भी आप किसी ऐसी वेबसाइट को खोलने के लिए VPN का इस्तेमाल करते हैं तो आपकी उस request को blocked website के server के पास आपके VPN के जरिए भेजा जाता है और फिर उसके बाद आप उस वेबसाइट के content और दूसरी इंफॉर्मेशन को देख सकते हैं| यह इसलिए मुमकिन है क्योंकि जो वेबसाइट आपके देश में ban है और आप जब किसी दूसरे देश के VPN इस्तेमाल करते हैं तो वह वेबसाइट उस देश में ban ना होने की वजह से आपके डिवाइस में open हो जाती हैं और आप उस वेबसाइट को access कर सकते हैं| 

क्योंकि उस समय आपके डिवाइस का VPN और उस देश के VPN के बीच network connection बनता है जो कि encrypted होता है| इसका मतलब होता है कि उस network से personal detail चोरी नहीं किया जा सकता है और आप किसी भी वेबसाइट को access कर सकते हैं।

उदाहरण के तौर पर जैसे यह बात हम जानते हैं कि इंडिया में Netflix कुछ समय पहले ही आया है| परंतु इंडिया में नेटफ्लिक्स आने से पहले जब यह दूसरे देशों में इस्तेमाल किया जाता था| क्योंकि उस समय तक इंडिया में Netflix को launch नहीं किया गया था| जिसकी वजह से आप India में रहकर Netflix का इस्तेमाल नहीं कर पाते थे| 

अगर आप उस समय Netflix का इस्तेमाल India में रहकर करना चाहते थे तो उस समय आप उस देश के VPN यानी USA, UK के VPN का इस्तेमाल करके उनके सर्वर के जरिए बड़े आराम से Netflix देख सकते थे| ऐसा करने से Netflix को यह बात पता चलता था कि user India से है क्योंकि उसको लगता था कि user local network यानि की US में ही है और ना ही India में जो restrictions किए  है| उन्हें यह भी नहीं पता लग पाएगा कि यह link जो है वह normal किसी server से बनाया गया है जो इंडिया में ही मौजूद है| 

VPN का इस्तेमाल करने के लिए मार्केट में बहुत सारे software है| जिनमे से कुछ free software है और कुछ paid software है| जिनका इस्तेमाल करके आप अपने कंप्यूटर में इंस्टॉल कर सकते हैं और VPN का इस्तेमाल कर सकते हैं।

VPN की कार्यप्रणाली

मान लीजिए आप अपने स्मार्टफोन के ब्राउजर में हमारी वेबसाइट welovewrite.com को चलाना चाहते हैं| तो आप welovewrite.com टाइप करके ok पर क्लिक कर देंगे| उसके बाद आपकी जो request फोन से की गई है वह VPN server के पास चली जाएगी और जो आपके phone से की गए request के रूप में data traffic जाएगा और वह बिल्कुल encrypted होगा| यह data traffic, secure tunnel के जरिये भेजा जायेगा| क्योंकि इस समय आपके स्मार्टफोन की बजाय VPN server से भेजा जाएगा| 

जैसे ही आपका डाटा VPN server को प्राप्त हो जाता है तो यह डाटा decrypt हो जाएगा| उसके बाद VPN आपकी request को welovewrite.com के server पर भेजेगा और वहां से जवाब प्राप्त करके उसे वापस encrypt कर देगा और सुरक्षित कनेक्शन के जरिए आप के फोन पर भेज देगा| जब आपके फोन में VPN सॉफ्टवेयर को वह डाटा मिलेगा तो VPN software उस डाटा कोड decrypt कर देगा ताकि आप उस डाटा को आसानी से पढ़ सके| इससे ना तो आपकी identity का पता चलेगा और ना ही आप ने किस वेबसाइट पर visit किया है और क्या-क्या activity की है उसका पता चलेगा।

VPN Protocol क्या है?

VPN protocol नियमों का वह set है जो VPN Server और VPN Client के बीच कनेक्शन बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है ताकि VPN Client और VPN Server के बीच सुरक्षित ढंग से डाटा का आदान प्रदान किया जा सके| वर्तमान समय में VPN सेवा प्रदाताओं द्वारा इन VPN protocol का इस्तेमाल किया जा रहा है:- PPTP, SSTP, IKEv2/IPSec, L2TP/IPSec, OpenVPN, IPSec, SoftEther, Wireguard.

VPN कैसे सेट करें?

जैसे कि अभी तक हमने आपको बताया है कि VPN क्या है और VPN का काम क्या होता है| तब हम आपको बताएंगे कि आप किस तरह अपने कंप्यूटर, स्मार्टफोन या मोबाइल में VPN को सेट कर सकते हैं तो चलिए दोस्तों अब हम शुरू करते हैं।

कौन सी VPN Service बढ़िया है?

जब कोई भी VPN सॉफ्टवेयर या फिर कोई Antivirus बनाया जाता है तो उस पर बहुत ज्यादा hardwork किया जाता है| परंतु कई बार फिर भी हमें वह फीचर्स नहीं मिल पाते हैं जो उसमें हमें चाहिए होते हैं| जैसे Antivirus अगर आप यूज कर रहे हैं तो वह हमें VPN सॉफ्टवेयर की तरह features प्रोवाइड नहीं कर सकता है| उदाहरण के तौर पर मान लीजिए आपके पास एक स्मार्टफोन है और एक DSLR है| जो features हमें स्मार्टफोन provide कर रहा है वह हमें DSLR प्रदान नहीं कर सकता और जो features हमे DSLR कैमरा प्रदान कर रहा है वह हमें स्मार्ट फोन नहीं कर सकता है| 

इसलिए अगर आप भी VPN का इस्तेमला कर रहे हैं तो इसका भी हर समय इस्तेमाल नहीं किया जाता है| इसमें कुछ features है जैसे कि पासवर्ड मैनेजर और ऑनलाइन बैकअप सर्विस इसकी वजह से VPN का इस्तेमाल बहुत ज्यादा किया जाता है और यह features VPN को और भी ज्यादा इफेक्टिव और यूज़फुल बनाते हैं| कुछ समय पहले एक साइबर अटैक हुआ था जिसमें 99% लोगों के पास बैकअप नहीं था।

Free VPN का प्रयोग क्यों नहीं करना चाहिए?

अभी तक आप यह जान चुके हैं कि VPN क्या होता है, VPN का इस्तेमाल कैसे किया जाता है? परंतु अब हम आपको बताएंगे कि आपको फ्री वाला VPNका इस्तेमाल करना चाहिए या नहीं| सबसे पहले आपको यह जान लेना चाहिए कि जो भी डाटा VPN का उपयोग करने के बाद इस्तेमाल करते हैं वह डेट आपका VPN server पर सेव हो जाता है| जैसे कि अगर आप अपनी ईमेल आईडी का इस्तेमाल कर रहे है या बैंक डिटेल का या फिर कोई भी अन्य महत्वपूर्ण जानकारी VPN उपयोग करने पर इस्तेमाल कर रहे हैं तो वह VPN server पर स्टोर हो जाता है| फ्री में जो VPN इस्तेमाल किए जाते हैं वह ज्यादा सिक्योर नहीं होते हैं क्योंकि उनमें डाटा लीक होने का भी खतरा होता है| 

अगर आप एक आम यूजर है तो आप free VPN का इस्तेमाल कर सकते हैं परंतु अगर आप बिजनेस, ऑर्गेनाइजेशन चला रहे हैं तो आपको हमेशा Paid VPN का ही इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि Paid VPN सिक्योर होते हैं और उन पर भरोसा भी किया जा सकता है।

Computer में VPN को कैसे Set करे?

अगर आप अपने कंप्यूटर में भी VPN का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो उसके लिए भी अलग अलग तरीके हैं| जिसकी मदद से आप बड़ी ही आसानी से अपने कंप्यूटर में VPN का इस्तेमाल कर सकते हैं और वह तरीके कुछ इस प्रकार है:-

Google Chrome में VPN यूज करने का तरीका

अगर आप अपने कंप्यूटर में VPN का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो उसके लिए आप अपने browser में extension को डाउनलोड कर सकते हैं| अगर आप Google Chrome browser का इस्तेमाल कर रहे हैं तो वहां पर आपको Google Chrome की VPN extension मिल जाएंगे जिनको आप अपने Google Chrome browser में install करके उसको activate कर सकते हैं और फिर आप जिस देश के VPN के साथ कनेक्ट होना चाहते हैं उस देश को सिलेक्ट करके VPN को enable कर सकते हैं| 

परंतु उसके लिए सबसे पहले आपको उस extension में अपना account create करना होगा| जिसमें आपको अपने email ID और password डालकर अकाउंट बनाना होगा और उसके बाद आप VPN का इस्तेमाल करके किसी भी देश के VPN के साथ कनेक्ट हो सकते हैं| 

Software से VPN यूज करने का तरीका

इसके अलावा अगर आप किसी software के जरिए computer में VPN का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो 

  • सबसे पहले आपको software को download करके अपने computer में install का इस्तेमाल करना होगा| 
  • software को Install करने के बाद फिर App को open करना है| 
  • App को open करने के बाद आपको ऊपर की side में menu के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा| 
  • वहां पर आपको setting की ऑप्शन दिखाई देगी जिस पर आपको क्लिक करना होगा। 
  • Setting पर क्लिक करने के बाद आपको Privacy And Security का ऑप्शन दिखाई देगा| जिस पर क्लिक करने के बाद आपको VPN का ऑप्शन दिखाई देगा| 
  • वहां पर आपको Enable VPN पर Tick करना होगा| Tick पर click करते ही आपके Opera Browser में VPN Activate हो जाएगा और आप जिस ब्लॉक वेबसाइट को आसानी से access कर पाएंगे| 
  • अब आप ब्राउज़र के URL के पास आपको के URL लिखा हुआ दिखाई दे सकता है| इस पर आप click करके VPN को On/ Off कर सकते है और और VPN की लोकेशन को भी बदल सकते हैं।

Computer के लिए Best Windows VPN Software

वैसे तो इंटरनेट पर बहुत सारे ऐसे VPN Software है जिसका इस्तेमाल करके आप अपने कंप्यूटर में VPN को एक्टिवेट कर सकते हैं| ऐसे में सारे सॉफ्टवेयर के बारे में आपको जानकारी देना तो बहुत ज्यादा मुश्किल हो जाएगा| परंतु फिर भी हम आपको कुछ खास और ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले VPN Software के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं| जिनको आप अपने अपने Windows 10 कंप्यूटर में install कर सकते हैं और अपनी identity को बचा सकते हैं| हम आपको बताना चाहेंगे कि जो VPN Software हम आपके साथ शेयर करने जा रहे हैं उनमें से कुछ सॉफ्टवेयर free हैं और कुछ paid भी है।

  • CyberGhost
  • Finch VPN
  • Hotspot Shield
  • OpenVPN
  • Windsribe
  • Surf Easy
  • Tunnel Bear
  • ZPN connect
  • Zenmate
  • Total VPN

SmartPhone या Mobile में VPN कैसे Set करे?

अगर आप अपने SmartPhone या Mobile में VPN का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो आप बड़ी ही आसानी से उसे अपने फोन में इस्तेमाल कर सकते हैं| उसके लिए अगर आपके पास Android फोन है तो आप Playstore और अगर आपके पास iPhone है तो AppStore (iOS) में जाकर VPN App को डाउनलोड कर सकते हैं| सबसे पहले आपको VPN App को डाउनलोड करना है और उसे अपने फोन में इंस्टॉल कर लेना है। अब हम आपको बताएंगे कि आप कैसे किसी VPN App को सही ढंग से इस्तेमाल कर सकते हैं। 

  • सबसे पहले आपको अपने स्मार्टफोन में VPN App को डाउनलोड करना होगा| 
  • जैसे ही आप VPN App को इंस्टॉल कर लेते हैं और उसके बाद App open करते हैं| 
  • App open करने के बाद आपके App में आपको काफी सारी लोकेशन दिखाई देंगे| जिन में जिस location का इस्तेमाल करना चाहते हैं| उस पर क्लिक कर सकते हैं| 
  • वहां क्लिक करने के बाद आपको connect करना है|  Connect के option पर क्लिक करने के बाद आपके स्मार्टफोन में VPN एक्टिवेट हो जाएगा।

SmartPhone के लिए Best Android VPN Apps क्या हैं?

SmartPhone में VPN नेटवर्क इस्तेमाल करने के लिए आपको अपने android प्ले स्टोर में बहुत सारी applications मिल जाएँगी| जिनको आप फोन में इंस्टॉल करके आसानी से VPN का इस्तेमाल कर सकते हैं| परंतु हम आपके साथ कुछ खास और ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले VPN Android App के बारे में जानकारी शेयर करने जा रहा हूं।

  • ExpressVPN
  • Windscribe
  • NordVPN
  • Tiger VPN
  • SaferVPN
  • Buffered VPN

VPN के फायदे

  • VPN की मदद से हम public connection को safely access कर सकते हैं क्योंकि अक्सर ही हमें WIFI Connection के इस्तेमाल करने की जरूरत पड़ सकती है| जो बिल्कुल भी safe नहीं होता| अगर हम VPN का इस्तेमाल करते हैं| तो हम ऐसे public connection में भी अपने identity को छुपा सकते हैं और safely browse कर सकते हैं।
  • यह online security को बढ़ा देती है| जब online security की बात होती है तो हम VPN के माध्यम से अगर कुछ browser करते हैं तो हमारे लिए बहुत secure होता है क्योंकि इससे यह हमारे web data को अच्छी तरह से protect करता है| यह web data को encrypt कर देता है| अगर आसान भाषा में कहें तो यह एक strong antivirus और standard firewall के साथ-साथ एक VPN के होने से हमारी सिक्योरिटी में extra layer add हो जाती है।
  • कुछ वेबसाइट ऐसी होती है जिन्हें हम आसानी से access नहीं कर सकते हैं जिनको हम देख नहीं सकते हैं| अगर हम अपने कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस में VPN का इस्तेमाल करते हैं तो VPN की मदद से हम उन वेबसाइट्स को आसानी से देख सकते हैं क्योंकि यह वेबसाइट restrictions की वजह से ban होती है| अगर हम किसी दूसरे देश का VPN का इस्तेमाल करते हैं जहां पर यह वेबसाइट ban नहीं है तो हम अपने देश में बैठकर भी उन वेबसाइट को आसानी से access कर सकते हैं और उनके डाटा को देख सकते हैं।
  • बहुत बार ऐसा होता है कि हमारा इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर बहुत सी वेबसाइट पर डाउनलोड करने से रोकता है| परंतु अगर हम VPN सर्विस का इस्तेमाल करते हैं तो हम उन files को भी डाउनलोड कर सकते हैं।

VPN के नुकसान

  • Reliable VPNs free फ्री नहीं होते हैं| अगर हम ऑनलाइन VPN को सर्च करते हैं तो हमें ऐसे बहुत से VPN मिल जाएंगे जिनका free में इस्तेमाल करके हम अपने डाटा को secure कर सकते हैं| परंतु उनमें भी कुछ लिमिट होती है जैसे कि 2GB या 5GB. उसके बाद अगर उससे ज्यादा डाटा का इस्तेमाल करते हैं तो आपको paid monthly subscription लेनी पड़ती है।
  • आपको अच्छे से रिसर्च करना होगा good connection speed के लिए – VPN मवि अक्सर सभी नेटवर्क ट्रेफिक को encrypt किया जाता है क्योंकि इसमें बहुत सारे resources का इस्तेमाल किया जाता है जो कि हमारे इंटरनेट की स्पीड को slow कर देते हैं| इसलिए अगर आप VPN के साथ high speed internet का इस्तेमाल करना चाहते हैं  तो आपको paid VPN लेना होगा।
  • सभी available VPNs को trust नहीं किया जा सकता है| यह बात तो आप जानते ही होंगे की VPN अक्सर unique नहीं होते हैं क्योंकि यह IPs बहुत लोगों के साथ शेयर किए गए होते हैं जिसकी वजह से security issues भी आ जाते हैं जैसे कि IP address blacklisting और IP spoofing. इसलिए आपको हमेशा VPNs पर सर्च करके उसके बाद ही किसी reputable, trustworthy VPNs का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • कभी कभी VPN ज्यादा कंपलेक्स भी हो सकते हैं| वैसे तो VPN सिंपल ही होते हैं परंतु काफी VPN ऐसे हैं जो बहुत ही ज्यादा कंपलेक्स हैं| मतलब कि VPN का setup बहुत ज्यादा कंपलेक्स होता है जिसकी वजह से यूजर इनका  इस्तेमाल करने में भी परहेज करते हैं।

Conclusion

अब आप जान चुके होंगे कि VPN क्या है, VPN कैसे काम करता है, What Is VPN, VPN download, vpn kya hai in hindi, VPN का Full Form क्या है, VPN कितने प्रकार के होते है, VPN का क्या काम है| उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी को पढ़ने के बाद VPN से संबंधित आपके सभी सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे| हमने अपनी ओर से VPN से संबंधित ज्यादा से ज्यादा जानकारी आपके साथ शेयर करने की कोशिश करी है| अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट हो या फिर आप हमें कोई राय देना चाहते हैं तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

ये भी पढ़े:

HTML क्या है?

VDU क्या है?

FIFO क्या है?

NAT क्या है?

FAQ (Frequently Asked questions)

VPN का पूरा नाम क्या है?

VPN का पूरा नाम Virtual Private Network है|

VPN इसतमाल करना सही या ग़लत?

हमें VPN का इस्तेमाल हमेशा करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से एक तो हमारी identity छुपी रहती है साथ ही हमारा डाटा भी सिक्योर रहता है| फिर चाहे हम किसी भी नेटवर्क का इस्तेमाल क्यों ना कर रहे हो हमें VPN का हमेशा इस्तेमाल करना चाहिए।

वीपीएन सेटिंग क्या है?

बीपीएल में स्थित सेटिंग को वीपीएन सेटिंग कहा जाता है| आप इन सेटिंग को अपने अनुसार सेलेक्ट करते हैं कि आप ने किस देश का VPN का इस्तेमाल करना है और आप खुद इन सेटिंग पर क्लिक करके इनके बारे में अच्छे से जान सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top