व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी क्या है 2021 | स्वीकार न करने पर कब बंद होगा व्हाट्सएप?

क्या आप जानते है कि व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी क्या है? और उसे स्वीकार करना चाहिए या नहीं? अगर आपको इसके बारे में नहीं मालूम तो आज हम अपने इस पोस्ट के जरिये आपको व्हाट्सएप की नई पॉलिसी के बारे में बतायेगे| जैसे की हम जानते है कि व्हाट्सप्प एक इंटरनेट मैसेज एप्लीकेशन है और उसमे नई पॉलिसी पहले आठ फरवरी को लागू करनी थी पर इसके चलते हुए विवादों की वजह से इसे कुछ समय के लिए टाल दिया गया और अब यह पालिसी 15 मई से लागू हो जाएगी| और उन पॉलिसी को स्वीकार करना या ना करना आपकी मर्जी होगी| परन्तु इसकी नई पॉलिसी को स्वीकार या अस्वीकार करने से पहले आपको मालूम होना चाहिए कि इससे आपके व्हाट्सएप्प अकाउंट में क्या बदलाव आएगा| 

व्हाट्सएप के द्वारा बताया गया है कि जो भी users व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी को स्वीकार नहीं करेगा उसका अकाउंट डिलीट नहीं करा जायेगा परन्तु समय के साथ साथ उसके व्हाट्सएप की फंक्शनलिटी कम होती जाएगी| चलिए सबसे पहले हम आपको बताते है कि व्हाट्सएप की पॉलिसी की प्राइवेसी पॉलिसी क्या है और पॉलिसी स्वीकार ना करने पर आपके कौन कौन से फीचर्स बंद हो जाएंगे| 

व्हाट्सएप ने बताया है कि हम अपनी पॉलिसी में बदलाव बिजनेस और उनके कस्टमर के बीच होने वाली मैसेजिंग से संबंधित हैं। और व्हाट्सएप ने यह भी कहा है कि अभी भी उपभोक्ता की आपस में पर्सनल बाते एन्क्रिप्शन से सुरक्षित हैं। और उस चैट में शामिल लोगो के अलावा उसको कोई भी पढ़ नहीं पायेगा ना ही फेसबुक और ना ही व्हाट्सएप| 

WhatsApp की नई पॉलिसी क्या है क्या है?

WhatsApp की नई पॉलिसी के अनुसार फेसबुक और इंस्टाग्राम का इंटीग्रेशन ज्यादा रहेगा और उपभोक्ता का डाटा तो पहले ही फेसबुक के साथ शेयर किया जा रहा था लेकिन अब कंपनी ने साफ़ कर दिया है कि फेसबुक के साथ व्हाट्सप्प और इंस्टाग्राम का इंटीग्रेशन ज्यादा रहेगा| इसके साथ ही कंपनी की अपडेट पालिसी में यह लिखा गया है कि WhatsApp की नई पॉलिसी के अनुसार उपभोक्ता जो भी कंटेंट सेंड, स्टोर, सबमिट, अपलोड या रिसीव करता है उसका इस्तेमाल कंपनी कही भी कर सकती है|  उस कंटेंट का इस्तेमाल, डिस्ट्रीब्यूट, रिप्रोड्यूस और डिस्प्ले करने के लिए दुनियाभर में, नॉन-एक्सक्लूसिव, रॉयल्टी फ्री और ट्रांसफरेबल लाइसेंस देते हैं| 

इसके अलावा व्हाट्सप्प उपभोक्ता का फोन नंबर, बैंकिंग ट्रांजैक्शन डेटा, मोबाइल डिवाइस इंफॉर्मेशन और आईपी एड्रेस, सर्विस-रिलेटेड इन्फॉर्मेशन, दूसरों से किस तरह इंटरेक्ट करते हैं और चैट को स्टोर करने की जानकारी को फेसबुक के साथ शेयर कर सकता है|  

कंपनी ने कुछ समय पहले यह दावा भी किया था कि जो भी उपभोक्ता प्राइवेसी पालिसी को एक्सेप्ट नहीं करेगा वह अपना व्हाट्सएप अकाउंट को इस्तेमाल नहीं कर पाएगा परन्तु उसके कुछ समय बाद कंपनी ने इस प्राइवेसी पॉलिसी की नीति को ऑप्शनल कर दिया|

कौन कौन से फीचर्स बंद हो जाएंगे?

अगर आप व्हाट्सप्प की प्राइवेसी पालिसी को स्वीकार नहीं करेंगे तो व्हाट्सएप आपकी फंक्शनलिटी को कम कर देगा और आपको Limited Functionality Mode पर डाल देगा| जिससे आप ना तो वीडियो कॉल कर पाएंगे और ना ही वॉयस कॉल कर पाएंगे और साथ ही ना ही आप अपने फोन से व्हाट्सएप मैसेज  भेज पाओगे| और ना ही उपभोक्ता व्हाट्सएप पर आये हुए मैसेज को पढ़ पायेगा और ना ही उसका जवाब दे पायेगा| 

WhatsApp की नई प्राइवेसी पॉलिसी को स्वीकार करना सही या गलत?

जैसे कि हमने आपको बताया था कि जो लोग व्हाट्सएप की प्राइवेसी पालिसी को एक्सेप्ट नहीं करेंगे उन्हें कॉल और मैसेज आने बंद हो जायेगे जिसका मतलब यर्ह हुआ कि व्हाट्सएप की नयी प्राइवेसी पालिसी को एक्सेप्ट करना ही पड़ेगा नहीं तो उपभोक्ता का आकउंट बंद हो जायेगा| इसका मतलब यह हुआ कि व्हाट्सएप अभी भी अपने उप्भोक्ताओ को व्हाट्सएप की प्राइवेसी पॉलिसी को एक्सेप्ट करने पर विचार करने के लिए अभी और समय दे रहा है|

क्या प्राइवेसी पॉलिसी एक्सेप्ट करने के रिमाइंडर आते रहेंगे?

मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक व्हाट्सएप अब उन उपभोक्ताओं के फीचर्स को अब लिमिटेड कर देगा जिन्होंने प्राइवेसी पॉलिसी को सवीकार नहीं किया है| इसके अलावा व्हाट्सप्प ने बताया कि वह अपने उप्भोक्ताओ को चाट के बिलकुल टॉप पर एक छोटे बैनर के जरिये प्राइवेसी पालिसी के बारे में जाग्रुकत करवाएगा| इसमें चैट के ऊपर बैनर में Tap To View की ऑप्शन होगी जिसे tap करने के बाद आपको व्हाट्सअप अपने उपभोक्ता को पॉलिसी को पढ़ने के लिए remind करवाता रहेगा और उसके बाद अपडेट को सवीकार करने के लिए कहेगा| और जिनहोने नई प्राइवेसी पॉलिसी को स्वीकार नहीं किया होगा उन्हें व्हाट्सएप बार बार रिमाइंडर के मैसेज भेजता रहेगा|

कितने समय में व्हाट्सएप्प अकाउंट डिलीट हो जाएगा?

व्हाट्सएप का कहना है कि जो उपभोक्ता नई पॉलिसी को एक्सेप्ट नहीं करेगा वह कोई भी मैसेज सेंड और रिसीव नहीं कर पायेगा और उनका अकाउंट इनएक्टिव दिखाई देने लग जाएंगे और फिर वह इनएक्टिव अकाउंट 120 दिन के बाद डिलीट हो जायेगा| कंपनी का कहना है कि तब तक वह रिमाइंडर मैसेज उपभोक्ता को भेजते रहेंगे| 

व्हाट्सप्प को प्राइवेसी पालिसी से क्या नुकसान हो रहा है?

हम आपको बताना चाहेंगे कि व्हाट्सप्प को खुद भी प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव करने की वजह से नुक्सान हो रहा है| जबसे व्हाट्सप्प ने प्राइवेसी पॉलिसी के बारे में बताया है तब से टेलीग्राम और सिग्नल जैसे App की Downloading में काफी बढ़ोतरी हुई है और काफी लोगो ने अपने व्हाट्सप्प अकाउंट को टेलीग्राम पर शिफ्ट भी कर लिया है| इस से पता चलता है कि व्हाट्सप्प का खुद का काफी users उस से टूट रहा है| और लगभग 82% भारतीय उपभोक्ता व्हाट्सप्प को छोड़ने के लिए तैयार है| 

बीते दिनों किए गए सर्वे के अनुसार और Mashable की रिपोर्ट के अनुसार यह बात साफ़ हुई है कि 24% लोग कोई दूसरे इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म पर जाने की सोच रहे है और वही लगभग 91% उप्भोक्ताओ का कहना है कि वह व्हाट्सप्प की पेमेंट ऑप्शन का इस्तेमाल नहीं करेंगे| 

किन कंपनियों के साथ शेयर होगी इनफार्मेशन?

जैसे की हमने आपको जानकारी दी है उसके मुताबिक उपभोक्ता के पास व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी को एक्सेप्ट करने के अलावा कोई और ऑप्शन नहीं बचती है| अगर व्हाट्सप्प चाहता तो वह इनफार्मेशन को शेयर नहीं किया जाए के विकल्प को भी चुन सकता था| लेकिन कंपनी ने अपने FAQ में स्पष्ट किया है कि वह इस डाटा को इन-हाउस कंपनियों के साथ शेयर करेगा| और फेसबुक की इन-हाउस कंपनियों में फेसबुक पेमेंट, इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप, फेसबुक टेक्नोलॉजीज, क्राउड टेंगल और ऑनावो जैसी कंपनियां शामिल है| 

यूजर डाटा क्यों इकट्ठा करना चाहती है कंपनी?

WhatsApp ने नई प्राइवेसी पॉलिसी में साफ किया है कि वो Facebook के ग्लोबल इंफ्रास्ट्रक्चर और डाटा सेंटर का इस्तेमाल करेगा जिसमे अमेरिका का भी डाटा सेंटर शामिल है और जहा इस डाटा को स्टोर करके रखा जायेगा| यह अभी तक पहली बार हुआ है कि व्हाट्सप्प ने साफ़ तौर पर यूजर डाटा कलेक्शन पर कुछ कहा है| इसके अलावा कंपनी ने यह भी बताया है कि उपभोक्ता के डाटा को अमेरिका डाटा सेंटर में भी भेजा जा सकता है जिस से उपभोक्ता को ग्लोबल सर्विस उपलब्ध करवाने के लिए नई प्राइवेसी पॉलिसी को बनाया गया है| 

सबसे ज्यादा व्हाट्सएप की नई पॉलिसी का विरोध कहा हो रहा है?

सबसे ज्यादा व्हाट्सप्प की प्राइवेसी पॉलिसी का विरोध भारत में हो रहा है क्यूंकि व्हाट्सप्प के सबसे ज्यादा उपभोक्ता भारत में ही है इसलिए भारत में लोगो की नराजगी जायज भी है| लोग नाराज़ इसलिए है क्यूंकि व्हाट्सप्प अपनी पैरेंट कंपनी फेसबुक के साथ अपना ज्यादा से ज्यादा डाटा को शेयर करना चाहता है, जबकि व्हाट्सप्प ने यह साफ़ कहा है कि ऐसा नहीं होगा| उसने यह भी कहा है कि यह पॉलिसी सिर्फ बिज़नेस अकाउंट के साथ ही सम्बंधित है| 

वहीं दूसरी और यूरोप में यह पॉलिसी अभी तक लागू नहीं हुई है क्योंकि वहाँ इसे लागू करने के लिए अलग से प्राइवेसी कानून है|

तो दोस्तों अब आप जान चुके होंगे कि व्हाट्सप्प की नई प्राइवेसी पॉलिसी क्या है और इसे स्वीकार करना चाहिए या नहीं और इसे स्वीकार ना करने से कितने दिनों में व्हाट्सप्प अकाउंट बंद हो जायेगा| हम उम्मीद करते है कि यह पोस्ट पढ़ने के बाद आपने जो भी सवाल थे उनके जवाब आपको मिल गए होंगे और ऐसे ही इन्फॉर्मेशनल पोस्ट को पढ़ने के लिए आप हमारे साथ जुड़े रहे| आप अपना सुझाव हमे कमेंट कर के भी दे सकते है|

ये भी पढ़े:

मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है

जिओ का बैलेंस डाटा कैसे चेक करे?

2 सेकण्ड्स में किसी भी सिम का नंबर कैसे निकाले|

FAQ (Frequently Asked Questions)

क्या व्हाट्सएप आपकी पर्सनल चैट को फेसबुक के साथ साझा करेगा?

व्हाट्सप्प का कहना है कि वह आपकी पर्सनल चैट जैसे कि दोस्तों, परिवार या अन्य लोगो के साथ शेयर हुई फोटो, मैसेज, वीडियो या फिर कॉल पर प्राइवेसी पॉलिसी का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा| यह पहले की तरह ही एन्क्रिप्टेड फॉर्म में रहेगी|

किन व्हाट्सएप यूजर्स का डेटा शेयर किया जाएगा?

व्हाट्सएप के मुताबिक आपके मोबाइल से जुडी हुई जानकारी, फोन मॉडल, मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम, भाषा, आईपी एड्रेस, लोकेशन जानकारी को शेयर नहीं करेगा| वह सिर्फ व्हाट्सप्प बिज़नेस अकाउंट में भेजे हुए मैसेज को लेकर है| अगर कोई भी उपभोक्ता बिज़नेस अकाउंट का इस्तेमाल नहीं करता तो उसके मेटाडाटा को छोड़ कर और कोई भी जानकारी फेसबुक के साथ शेयर नहीं करी जाएगी|

व्हाट्सएप किस तरह से यूजर्स पर असर डालेगा?

अगर उपभोक्ता के नज़रिये से देखा जाये तो सबसे ज्यादा इसका प्रभाव फेसबुक और अन्य एप्प पर ज्यादा टार्गेटेड विज्ञापनों का होगा| इसका मतलब यह हुआ की आपके व्हाट्सप्प अकाउंट में आपकी पसंद नापसंद और दूसरी आदतों के आधार पर आपको विज्ञापन दिखाई देंगे और इसके अलावा आपकी ब्राउज़िंग हिस्ट्री और सर्च हिस्ट्री के मुताबिक भी आपको विज्ञापन दिखाई देंगे|

अगर आप किसी बिज़नेस कंपनी के वेबसाइट जैसे कि मेकमाई ट्रिप, क्रोमा बुक जैसी कंपनियों से अगर व्हाट्सप्प से चैट करते है तो फेसबुक आपका डाटा शेयर कर सकती है ताकि यह कम्पनिया अपने प्लेटफार्म पर कुछ ख़ास प्रकार की सेवाएं उप्भोक्ताओ को पेश कर सके|

क्या व्हाट्सएप के अन्य विकल्प हैं, जिनका चुनाव किया जा सकता है?

हाँ, मार्केट में सिग्नल और टेलीग्राम जैसे ऐप व्हाट्सएप के विकल्प है, सिग्नल एप्प भी प्राइवेसी को लेकर काफी सतर्क है परन्तु उसमे व्हाट्सप्प से कम पॉलिसी है और वही टेलीग्राम के मिश्रित फीचर्स है|

[WPSM_AC id=739]

Default image
Rohit Kumar
Hey, This is Rohit Kumar the founder of We Love Write. I am a Digital Marketing Expert and a Content Creator. I love to write on facts with deep research in Hindi. Do comment and share my content if you find this useful.
Articles: 44

Leave a Reply