WWW क्या है | WWW का Full Form क्या है | World Wide Web vs Internet

WWW क्या है World Wide Web क्या है

दोस्तों क्या आपको पता है www क्या है? औरwww कैसे काम करता है? अगर आपको इसके बारे में बिल्कुल भी जानकारी नहीं है तो आप हमारे इस पोस्ट को ध्यान से पढ़ें क्यूंकि आज हम आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं| 

अगर हम internet की बात करें तो हर कोई इंटरनेट के बारे में कुछ ना कुछ तो जरूर जानता है| लेकिन क्या आपको मालूम है internet के पीछे किसका हाथ है? जब इंटरनेट की शुरुआत हुई थी तो इंटरनेट के साथ एक शब्द का बहुत इस्तेमाल किया जाता था जिसको हम www कहते हैं| आपके मन में एक सवाल जरूर आता होगा कि जब भी हम किसी वेबसाइट को इंटरनेट या वेब ब्राउजर में खोलते हैं तो उस वेबसाइट के साथ www क्यों लिखते हैं| जैसे कि उदाहरण के तौर पर http://www.welovewrite.com चलिए अब हम आपको बताते हैं कि वेब वर्ल्ड वाइड वेब क्या होता है| 

WWWका पूरा नाम क्या है?

www का पूरा नाम वर्ल्ड वाइड वेब है| हम आपको बताना चाहेंगे कि इंटरनेट और वर्ल्ड वाइड वेब का आपस में संबंध है| जो दोनों एक-दूसरे पर निर्भर करते हैं| अगर इंटरनेट नहीं होगा तो वर्ल्ड वाइड वेब की कोई value नहीं होगी| असल में वर्ल्ड वाइड वेब जानकारियों से भरा होता है जो लिंक्स के रूप में होता है| जिसकी वजह से दुनिया भर में जितने भी कंप्यूटर हैं आपस में जुड़े हुए रहते हैं| आप किसी भी जगह बैठकर किसी भी इंफॉर्मेशन को वर्ल्ड वाइड वेब के जरिए ले सकते हैं|  वर्ल्ड वाइड वेब HTML, HTTP, Web Browser और Web Server पर काम करता है| 

WWW क्या है?

WWW का full form है World Wide Web जिसको हम W3 या Web भी कहते है| WWW एक information space है| यहाँ पर HTML document और web resources को URL के जरिये Identify किया जाता है| www documents का एक समूह होता है जो आपस में hypertext के जरिए जुड़े हुए होते हैं| Web document को HTML के जरिए लिखा जाता है| Hypertext में image, sound, text आदि होते हैं|

एक webpage में बहुत सारे software होते है और इनको चलाने के लिए protocols होते हैं| इन webpages को open करने के लिए web browser का इस्तेमाल किया जाता है| 

असल में www इंटरनेट की एक सेवा है जिसका उपयोग सबसे पहले Tim Berners-Lee ने 1992 में CERN प्रयोगशाला में किया था| www यानी वर्ल्ड वाइड वेब एक प्रणाली है जिसके अंदर सूचनाओं को वेबसाइट के रूप में रखा जाता है और यह सारी वेबसाइट web server पर hypertext फाइल के रूप में रखी जाती हैं| इन वेबसाइट को अलग-अलग नाम दिया जाता है और बाद में यह वेबसाइट उसी नाम से पहचानी जाती है|

WWW के लिए 3 technique को develop किया गया था| उनमे से एक है URL (Uniform Resource Locator) यहां पर website का Address रहता है| दूसरा HTML होता है जिसके जरिये web document को बनाया जाता है और तीसरा HTTP Hypertext Transfer Protocol होता है| यह Rules हैं जो Internet को चलाने में मदद करते हैं| 

www कैसे काम करता है?

  • वर्ल्ड वाइड वेब एक बहुत बड़ा network हैं जहाँ Hypertext file और web pages आपस में linked हैं| यहां पर billions hypertext text document को अलग अलग Servers और Computer में Store करके रखा जाता है| जिनको हम web browser की मदद से Access कर सकते है| 
  • वर्ल्ड वाइड वेब को हम एक system भी बोल सकते हैं क्यूंकि यहां पर Hyper text document आपस में जुड़े हुए होते है| इन Hyper text document को access करने के लिए Internet का इस्तेमाल किया जाता है| 
  • WWW को हम Virtual place बोल सकते हैं क्यूंकि यहां पर दुनिया के सारे web server, web pages, Website को HTTP protocol की मदद से access किया जाता है| 
  • वर्ल्ड वाइड वेब को web servers, HTTP, web pages, URL, और HYPERLINKS का संग्रह भी कहा जा सकता है|
  • इंटरनेट पर जितने भी websites और web pages हैं उनके combination को वर्ल्ड वाइड वेब बोला जाता है| 
  • जब कभी भी हम अपने Browser में URL लिखते हो तो समझ जाना चाहिए कि WWW से जुड़ गए है| 

WWW का इतिहास (History of WWW in Hindi)

Tim Berners-Lee जिनको world wide web का इनवर्टर बोला जाता है वह W3C के डायरेक्टर थे| वह ही W3C development को Monitor किया करते थे| इसके साथ ही उन्होंने web के जरिए communication करने के लिए hypertext की technique को इन्वेंट किया था और वेब पेजेस को आपस में कैसे लिंक करते हैं उसके लिए इन्होंने hypertext के technique को डिवेलप किया था| 

साल 1989 में Berners-lee ने world wide web server पर काम शुरू किया था और तब उस समय इसका नाम httpd दिया गया था और शुरुआत में www को WYSIWYG Hypertext Browser/editor कुछ इस तरह से लिखा जाता था जो कि NextStep Environment में ही चलता था| फिर 1991 तक दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में वर्ल्ड वाइड वेब पहुंच गया था|

वर्ल्ड वाइड वेब से वेबसाइट को कैसे देखा जा सकता है?

जब भी हम किसी वेबसाइट को ओपन करने की कोशिश करते हैं| हम सबसे पहले उस वेबसाइट का नाम या URL लिखकर उस वेबसाइट को खोलते हैं| उस वेबसाइट को खोलने के लिए हम अपने वेब ब्राउज़र के एड्रेस बार में उस वेबसाइट का URL भर देते हैं| जैसे ही हम URL ब्राउज़र में भरते हैं तो उस समय वह ब्राउज़र प्रोग्राम उस URL  को server तक पहुंचाता है| जहां पर वह फाइल या वेबसाइट के रूप में store होता है| फिर वहां से वेब पेज को प्राप्त करने के बाद वह हमारे कंप्यूटर पर दिखाता है| उस वेबसाइट को वेब ब्राउजर हमारे मॉनिटर या लैपटॉप की स्क्रीन पर दिखा देता है।

जब हम वेबसाइट को ओपन करते हैं तो उस वेबसाइट में कई प्रकार के hyperlink भी हो सकते हैं यह hyperlink उसी वेबसाइट के अन्य पेज या किसी अन्य वेबसाइट के पेज के साथ लिंक हो सकते हैं|  जैसे हम उस hyperlink पर क्लिक करते हैं तो हम उस hyperlink वाले पेज पर चले जाते हैं| वह पेज इसी वेबसाइट का भी हो सकता है यहां किसी अन्य वेबसाइट का भी हो सकता है| वेबसाइट पर जाने के बाद हमें जानकारी प्राप्त हो जाती है इस प्रकार उपभोक्ता किसी वेबसाइट को देख सकता है| जिस वेबसाइट का उसे URLया नाम पता होता है| 

वर्ल्ड वाइड वेब की विशेषताएं

  • Hypertext Information System
  • Distributed
  • Cross Platform
  • Graphic Interface
  • Open Standard and Open Source
  • Web Browser: Provides a single interface to many services
  • Dynamic, Interactive, Evolving

Hypertext Information System

एक web page document में बहुत सारी अलग-अलग प्रकार की जानकारी होती है जैसे कि text, sound, graphics और यह सारी जानकारी आपस में एक दूसरे के साथ जुड़ी होती है| इस जानकारी को आपस में जोड़ने के लिए hypertext का इस्तेमाल किया जाता है|

Distributed

www में वेबसाइट एक दूसरे के साथ जुड़ी होती हैं| जैसे कि हम जानते हैं कि सभी वेबसाइट में अलग-अलग तरह की जानकारी होती है और बहुत सी ऐसी भी वेबसाइट होती हैं जो दूसरी वेबसाइट के साथ भी जुड़ी होती है| जिसकी वजह से यूजर एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट के साथ जुड़ जाता है| इस कार्यप्रणाली को Distributed System कहा जाता है| 

Cross Platform

Cross-platform का मतलब यह होता है कि webpage या website  किसी भी कंप्यूटर, लैपटॉप, हार्डवेयर, ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम कर सकती है

Graphic Interface

आज के समय में इंटरनेट पर ऐसी बहुत सी आपको वेबसाइट मिल जाएंगी जिनमें Text, video, sound का इस्तेमाल किया जाता है| इस प्रकार की जानकारी को हम hypertext की मदद से देख सकते हैं या हम यह कह सकते हैं कि hypertext की मदद से इन पेजेस को आपस में जोड़ सकते हैं। इंटरनेट पर बहुत सी ऐसी dynamic वेबसाइट भी देखने को मिलती हैं जिनमें मेनू, कमांड, बटन का इस्तेमाल किया जाता है और इनकी मदद से वेबसाइट को चलाने में भी आसानी होती है और कार्य भी आसानी से हो जाता है|

वर्ल्ड वेब वाइड वेब की कार्यप्रणाली

  • HTML एक hypertext markup language है। HTML hypertext लिंक प्रदान करता है| जो किसी भी यूजर को वेबसाइट के अन्य पेज के साथ जोड़ने में मदद करता है| 
  • www client server मॉडल पर आधारित है जिससे कि client साइट पर रिमोट मशीन पर क्लाइंट सॉफ्टवेयर यानी वेब ब्राउज़र काम करता है और server साइट पर सर्वर सॉफ्टवेयर काम करता है| 
  • क्लाइंट के द्वारा वेब ब्राउज़र के एड्रेस बार में वेबसाइट के URL को टाइप किया जाता है
  • URL किसी भी फाइल का एड्रेस होता है जो आगे 3 भाग में बटा हुआ होता है

Protocol

Domain Name

Path

  • वेब ब्राउज़र में टाइप किए हुए URL के आधार पर वेब ब्राउज़र उस URL के सर्वर से संपर्क करता है और उस URL के अनुसार ही उपभोक्ता को साइट प्रदान करता है| 
  • URL को IP Address में सर्वर के द्वारा परिवर्तित कर दिया जाता है इससे client कंप्यूटर पर निश्चित सर्वर से जुड़ जाता है|
  • जब एक बार वेबसाइट यूजर के सिस्टम पर दिखाई देती है तो उसमें बहुत सारा text और hyperlink भी होते हैं और उन हाइपरलिंक के मुताबिक URL भी प्रदर्शित किए जाते हैं| जब भी कोई उपभोक्ता उस लिंक पर क्लिक करता है तो ब्राउज़र उस URL पर पेज को दिखाने के लिए सरवर को आग्रह करता है और server उस पेज को फिर प्रदर्शित करता है| और इस प्रकार वेब ब्राउजर काम करता है|

वर्ल्ड वाइड वेब के लाभ इस प्रकार हैं:

  • दुनिया भर से आसानी से जानकारी की उपलब्धता करवाने के लिए कांटेक्ट स्थापित किया जा सकता है| 
  • रैपिड इंटरैक्टिव संचार की विभिन्न सेवाओं के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है| 
  • प्रोफेशनल इनफार्मेशन के साथ-साथ सूचनाओं का आदान-प्रदान भी किया जा सकता है| 
  • इंटरनेट पर उपलब्ध जानकारी को विभिन्न users तक पहुंचने का काम करता है| जो लगातार अपडेट होती रहती है| 
  • यह एक प्रकार का global media बन गया है| दुनिया के हिस्से से जानकारी को उपलब्ध किया जा सकता है|
  • वर्ल्ड वाइड वेब को हम दुनिया भर में किसी भी प्लेटफार्म से इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे कि मोबाइल, कंप्यूटर, लैपटॉप। 
  • वर्ल्ड वाइड वेब की मदद से हम घर बैठे ही विश्व की कोई भी जानकारी को प्राप्त कर सकते हैं| 
  • वर्ल्ड वाइड वेब की मदद से हम अपनी खुद की वेबसाइट बनाकर लाखों रुपए कमा सकते हैं। 
  • वर्ल्ड वाइड वेब की मदद से हम बाहर के देशों में क्या हो रहा है उसके बारे में आसानी से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं|

वर्ल्ड वाइड वेब के नुकसान इस प्रकार हैं:

  • अधिक जानकारी का खतरा बना रहता है| 
  • कुशल सूचना खोज रणनीति की आवश्यकता है.
  • जानकारी को फ़िल्टर करना और प्राथमिकता देना मुश्किल हो सकता है|
  • बिना वर्ल्ड वाइड वेब के हम इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं।
  • वर्ल्ड वाइड वेब में ऐसी बहुत सी वेबसाइट है जो हमें गलत जानकारी प्रदान करते हैं। 
  • वर्ल्ड वाइड वेब में ऐसी बहुत सी न्यूज़ होती हैं जो कि फेक होती हैं जिससे हमें गलत जानकारी मिलती है।
  • वर्ल्ड वाइड वेब Hacking का एक बहुत ही बड़ा कारण है क्योंकि इंटरनेट के कारण ही काफी डिवाइस Hacking किए जाते हैं|

Internet और World Wide Web क्या अंतर है? (Internet vs World Wide Web)

इंटरनेट के बारे में आप लोगों को काफी कुछ पता है| लेकिन फिर भी हम आपको उसके बारे में थोड़ी सी डिटेल में जानकारी देना जरूर चाहेंगे| internet एक Network highway है| जहां पर यूजर हर रोज कुछ ना कुछ आपस में शेयर करते रहते हैं| इंटरनेट को चलाने के लिए protocols की जरूरत पड़ती है जैसे की HTTP, FTP, SMTP, TelNET

वर्ल्ड वाइड वेब इंटरनेट को चलाने का एक जरिया है| यह एक इनफॉरमेशन शेयरिंग मॉडल है जो इंटरनेट के ऊपर काम करता है| जिसके लिए कुछ प्रोग्राम का इस्तेमाल किया जाता है| जिनका नाम HTTP, HTML, Web Browser और WEB SERVER है| जिसके बारे में हम आपको नीचे डिटेल में जानकारी देने जा रहे हैं| 

INTERNETWWW
इंटरनेट हार्डवेयर टेक्नोलॉजी से बना हुआ है|वर्ल्ड वाइड वेब सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी से बना हुआ है|
इंटरनेट का आविष्कार 1960 में हुआ था|वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कार 1992 में हुआ था| 
वर्ल्ड वाइड वेब इंटरनेट का सुपरसेट है|वर्ल्ड वाइड वेब इंटरनेट का सबसेट है|
इंटरनेट को चलाने के लिए Router, Bridge, server, Satellite जैसे हार्डवेयर का इस्तेमाल किया जाता है|वर्ल्ड वाइड वेब को चलाने के लिए Protocol, Hypertext, Text,Image और Web Pages का इस्तेमाल किया जाता है| 
इंटरनेट को चलाने के लिए IP Address का इस्तेमाल किया जाता है|वर्ल्ड वाइड वेब के लिए HTTP का उपयोग किया जाता है| 

Web Server

Web Server असल में प्रोग्राम होता है| जब भी कोई user http का इस्तेमाल करते हैं और एक वेबसाइट या वेब पेज के लिए request करता है तो उस Server Request का Response भी http के जरिए ही देता है| वहाँ से जो Response मिलता है वह कुछ और नहीं http का एक पेज होता है| 

जैसे कि मान लीजिए अगर आप गूगल में कुछ सर्च करते हैं| सर्च करने के बाद गूगल अपने सर्च इंजन के पेज में बहुत सारे results दिखता है| यह results google website के web server के द्वारा यूजर को दिखाए जाते हैं| ठीक उसी तरह जब आप किसी website के लिए http के साथ Request करते हैं तो उस website के Server के द्वारा आपको वह http पेज या वेबसाइट दिखाई जाती है। ऐसे ही हर website का अपना एक web server होता है|  

HTML

HTML का पूरा नाम hypertext markup language है| इस language का इस्तेमाल वेबसाइट डिजाइन करने के लिए किया जाता है। हर एक वेबसाइट या वेब पेज को HTML Document कहा जाता है| और यह HTML Document web server की मदद से दिखाया जाता है। जब भी आप किसी वेबसाइट को ओपन करते हैं तो वेबसाइट का एक पेज दूसरे वेब पेज के साथ लिंक किया हुआ होता है जिसको हम hyperlink कहते है| HTML Document को चलाने के लिए एक एप्लीकेशन की जरूरत होती है| जिसको हम वेब ब्राउज़र कहते हैं वेब ब्राउज़र क्या होता है? इसके बारे में हम आपको आगे बताने जा रहे हैं| 

Web Page

Web Page एक HTML Document होता है| जिसको बनाने के लिए HTML Language का इस्तेमाल किया जाता है| जिसको हम Hyper Text Markup Language कहते हैं| Web Page वेबसाइट एक छोटा सा हिस्सा होता है क्योंकि बहुत सारे Web Page को मिलाकर एक वेबसाइट बनती है| और इस वेबसाइट को इस्तेमाल करने के लिए URL Address की जरूरत होती है| इस URL को हम Web Browser में डालकर उसको ओपन करते हैं| उसके बाद ही हम इस वेबसाइट को चला सकते हैं| जैसे कि आप जो जानकारी पढ़ रहे हैं यह भी एक Web Page की उदाहरण है| 

Web Browser

Web Browser असल में एक सॉफ्टवेयर या फिर कह सकते है कि एप्लीकेशन होती है| जिसके जरिए हम किसी भी web page और वेबसाइट को इंटरनेट पर access कर सकते हैं| Web Browser के बिना हम world wide web को कभी भी चला नहीं सकते हैं| Web Browser HTML Document को Human readable form में translate करता है| Web Browser के कुछ उदाहरण है Chrome, Opera, Mozilla Firefox और Internet Explorer.

इसे भी पढ़े:

टेलीफोन का आविष्कार किसने किया था?

Google क्या है?

WhatsApp के डिलीट मैसेज को कैसे देखे?

FAQ (Frequently Asked Questions)

World Wide Web का अविष्कार किसने किया था?

World Wide Web का अविष्कार ब्रिटिश कंप्यूटर साइंटिस्ट Tim Berners-Lee ने 1989 में किया था| 

WWW का Full Form क्या है?

WWW का Full Form World Wide Web है| 

WWW के जनक कौन है?

WWW के जनक ब्रिटिश कंप्यूटर साइंटिस्ट Tim Berners-Lee है| 

Www क्या है? इसका प्रयोग क्यों किया जाता है?

WWW एक information space है| यहाँ पर HTML document और web resources को URL के जरिये Identify किया जाता है| www documents का एक समूह होता है जो आपस में hypertext के जरिए जुड़े हुए होते हैं| Web document को HTML के जरिए लिखा जाता है| इस Web document को ही web page कहा जाता है| जिसमे image, sound, text आदि होते हैं| इसका प्रयोग लोगों तक जानकारी पहुंचाने के लिए किया जाता है|

डब्लू डब्लू डब्लू से आप क्या समझते हैं?

WWW का full form है World Wide Web जिसको हम W3 या Web भी कहते है| www इंटरनेट की एक सेवा है जिसका उपयोग सबसे पहले Tim Berners-Lee ने 1992 में CERN प्रयोगशाला में किया था| WWW एक information space है| यहाँ पर HTML document और web resources को URL के जरिये Identify किया जाता है| इसका प्रयोग लोगों तक जानकारी पहुंचाने के लिए किया जाता है|

WWW क्या है इसके इतिहास और कार्य को समझाइए?

Tim Berners-Lee जिनको world wide web का इनवर्टर बोला जाता है| उन्होंने web के जरिए communication करने के लिए और वेब पेजेस को आपस में कैसे लिंक करते हैं उसके लिए इन्होंने hypertext के technique को डिवेलप पर किया था|

WWW को हम Virtual place बोल सकते हैं क्यूंकि यहां पर दुनिया के सारे web server, web pages, Website को HTTP protocol की मदद से access किया जाता है| 

वेब ब्राउज़र क्या है उदाहरण सहित लिखिए?

वेब ब्राउज़र एक सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन होती है| जिसके जरिए हम किसी भी web page और वेबसाइट को इंटरनेट पर access कर सकते हैं| Web Browser HTML Document को Human readable form में translate करता है| Web Browser के कुछ उदाहरण है Chrome, Opera, Mozilla Firefox और Internet Explorer.

Your Answer

Your email address will not be published.

Scroll to Top