बिटकॉइन क्या होता है | बिटकॉइन में कैसे निवेश करें?

दोस्तों क्या आप जानते हैं कि बिटकॉइन क्या होता है? और बिटकॉइन में Trade कैसे किया जाता है? अगर नहीं तो आज हम आपको बिटकॉइन के बारे में बताने जा रहे हैं| जैसे कि हम जानते हैं कि आज के समय में बिटकॉइन काफी जा रहा पॉपुलर हो चुका है| असल में बिटकॉइन एक virtual currency है| यह एक ऐसी currency है जिसे हम देख नहीं सकते हैं और सिर्फ इसे virtually ही सेव कर सकते हैं और साथ ही आप बिटकॉइन को किसी अन्य करंसी जैसे कि रुपए और डॉलर, रुपया ,क्रोना, दिनार की तरह खरीद सकते हैं। 

बिटकॉइन एक क्रिप्टोकरंसी है जिसमें हम निवेश कर सकते हैं परंतु बिटकॉइन में निवेश करने से पहले आपको इसके बारे में सारी जानकारी जरूर होनी चाहिए तब ही आप को बिटकॉइन क्रिप्टोकरंसी में निवेश करने के बाद मुनाफा मिल सकता है| तो आज हम आपके साथ अपने इस पोस्ट में बिटकॉइन क्या है और बिटकॉइन कैसे इस्तेमाल किया जाता है और बिटकॉइन में ट्रेड कैसे होता है के बारे में बताने जा रहे हैं| इसलिए आप हमारे इस ब्लॉग को अंत तक जरूर पढ़ें| 

Cryptocurrency क्या होती है?

Cryptocurrency असल में ऐसी करेंसी है जिसे हम देख नहीं सकते हैं| इसका मतलब यह हुआ कि क्रिप्टोकरंसी virtual करेंसी है जिसे हम फिजिकल देख नहीं सकते हैं क्योंकि इसका कोई भी फिजिकल अस्तित्व नहीं है| क्रिप्टोकरंसी एक कंप्यूटर पर बनी हुई करेंसी है जो सिर्फ हम हमें इंटरनेट पर ही मिल सकती है| इसके साथ ही क्रिप्टोकरंसी को कोई भी authority कंट्रोल नहीं कर सकती है और ना ही इस पर किसी भी प्रकार के नोटबंदी का असर होता है|

दुनिया में बिटकॉइन के अलावा और भी अन्य क्रिप्टोकरंसी मौजूद है| जैसे कि बिटकॉइन, रेड कॉइन, सिया कॉइन, इथीरियम, Ripple (XRP) और मोनरो| आज इन सब से आप भी पैसा कमा सकते हैं|  तो चलिए आज हम सिर्फ बिटकॉइन के बारे में बात करते हैं| 

Bitcoin क्या है?

Bitcoin एक डिजिटल फॉर्म में मौजूद करेंसी है जिसे हम फिजिकल देख नहीं सकते हैं| हम यह भी कह सकते हैं कि यह एक प्रकार की डिजिटल करेंसी है जो क्रिप्टोग्राफी के नियमों के आधार पर चलती है और बनाई भी जाती है| क्रिप्टोग्राफी का मतलब होता है कोडिंग की भाषा में सुलझाने की कला| जैसे कि हम जानते हैं कि बिटकॉइन डिजिटल करेंसी है| बिटकॉइन को अगर आप सेव करना चाहते हैं तो आप बिटकॉइन वॉलेट में अपने कंप्यूटर के जरिये सेव कर सकते हैं और बिटकॉइन 0-1  की सीरीज में आती है| बिटकॉइन असल में ऐसी करेंसी है जो रियल में exist नहीं करती है| इसे हम एक ऑनलाइन सिक्योर ट्रांजैक्शन करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं| 

आज के समय में बिटकॉइन को Microsoft, Tesla जैसी कंपनियां भी इस्तेमाल कर रही हैं| यह कंपनियां बिटकॉइन का इस्तेमाल एक्सचेंज के रूप में कर रही हैं| 

Bitcoin का फाउंडर कौन है?

बिटकॉइन को Satoshi Nakamoto ने 2008 में बनाया था लेकिन इसके बाद साल 2009 में बिटकॉइन को एक ओपन सॉफ्टवेयर के रूप में मार्केट में उतारा गया था| बिटकॉइन की सबसे छोटी यूनिट Satoshi होती है और1 Bitcoin = 10,00,00,000 Satoshi होते हैं| यही वजह है कि हम कह सकते हैं कि Satoshi Nakamoto बिटकॉइन का फाउंडर है| 

Bitcoin कैसे Produce होता है?

जैसा हमने आपको बताया है था कि बिटकॉइन एक digital currency है और physical exist नहीं करती है| परन्तु फिर भी बिटकॉइन को प्रोडूस करना आसान नहीं है| इसकी मुख्य वजह यह है कि यह माइनिंग पद्धति से आया electronic digital currency है| जिसकी वजह से इसकी कीमत बढ़ती रहती है| Miner Mathematical और cryptographic problems को solve करता है और cryptographic problems को solve  करने पर miner को बिटकॉइन ब्लाक के रूप में रिकॉर्ड करते हैं। माइनिंग की प्रक्रिया काफी ज्यादा lengthy होती हैं। यह लिमिटेड संख्या में बनाए जाते है इसलिए इसकी कारण से इसकी मांग बढ़ रही हैं।

Bitcoin का इस्तेमाल

Bitcoin का इस्तेमाल ऑनलाइन ट्रांजैक्शन के रूप में किया जाता है क्योंकि बिटकॉइन p2p नेटवर्क पर काम करता है| इसके अलावा बिटकॉइन का इस्तेमाल आजकल developers , NGOs अपनी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन को करने के लिए करते हैं| यही वजह है कि बिटकॉइन का प्रचलन बढ़ रहा है। इसके अलावा जब हम अपने बैंक अकाउंट से ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं तो हम उसमें अपनी की गई पेमेंट के बारे में जानकारी ले सकते हैं कि हमने किसको कितनी पेमेंट करी है परंतु बिटकॉइन में ऐसा नहीं होता है क्योंकि बिटकॉइन का रिकॉर्ड पब्लिक ledger में होता है जिसे बिटकॉइन block chain से जाना जाता है| 

Bitcoin एक डिजिटल करेंसी होने की वजह से हम बिटकॉइन को हम डिजिटल वॉलेट में सेव कर सकते हैं और इसकी कीमत हर जगह पर एक जैसी ही होती है| परंतु बिटकॉइन की कीमत दुनिया भर की गतिविधियों पर भी निर्भर करती है| जिस वजह से बिटकॉइन की कीमत स्थिर होती है| हम आपको बताना चाहेंगे कि अगर आप बिटकॉइन में ट्रेड करना चाहते हैं तो बिटकॉइन में ट्रेड करने का कोई भी फिक्स समय नहीं होता है और इसकी कोई फिक्स कीमत भी नहीं होती है क्योंकि इसकी कीमत में अक्सर ही उतार-चढ़ाव आते रहते हैं|

Bitcoin का भी अपना एक्सचेंज है

Bitcoin में कोई भी इंसान ट्रेडिंग कर सकता है बिटकॉइन को सबसे पहले 2011 में शुरू किया गया था| अगर आप बिटकॉइन में ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे पहले आपको बिटकॉइन में अपना अकाउंट बनाना होगा| अकाउंट बनाने के बाद आपको अपना ईमेल कन्फर्मेशन और अकाउंट वेरिफिकेशन करवाना होगा जैसे ही आपका अकाउंट वेरिफिकेशन हो जाता है| उसके बाद आप अपना बिटकॉइन ट्रेडिंग मेथड का चुनाव कर सकते हैं| बिटकॉइन के लिए 1 बिटकॉइन ट्रेडिंग कार्ड होता है जिसमें आप बिटकॉइन की कीमत की हिस्ट्री का पता लगा सकते हैं और साथ ही बिटकॉइन में बदलाव भी unpredictable होते हैं|

Bitcoin में Invest करना है Safe

Bitcoin एक वर्चुअल करेंसी है और यह करेंसी मार्केट के उतार-चढ़ाव पर भी निर्भर करती है| साल 2013 में RBI ने एक प्रेस रिलीज जारी की थी जिसमें उन्होंने ऑफिसियल लिखा था कि इसमें जोखिम है| इसके अलावा अगर आप अपने बिटकॉइन अकाउंट का पासवर्ड भी भूल जाते हैं तो उसमें सेव किया हुआ पैसा आप हमेशा के लिए खो देते हैं और इसके इलावा पहले भी कई बार बिना किसी वार्निंग के भी बिटकॉइन की कीमत में 40 से 50 दिन तक गिरावट भी हुई है| इसलिए  Bitcoin जोखिम से भरा हुआ है| 

उदाहरण के लिए जैसे जनवरी में बिटकॉइन की कीमत बढ़कर $42000 हो गई थी और फिर कुछ ही समय में बिटकॉइन एकदम से गिरकर $30000 रह गया था और फिर से दोबारा एक हफ्ते में के दौरान बिटकॉइन की कीमत बढ़कर $40000 हो गई थी तो हम कह सकते हैं कि बिटकॉइन की कीमत अस्थिर है तो इसको बिटकॉइन को खरीदना और बेचना जोखिम से भरा होता है।

Bitcoin का Rate

Bitcoin एक डिजिटल करेंसी है जिसकी वजह से बिटकॉइन पर किसी भी अथॉरिटी का कोई भी कंट्रोल नहीं होता है| बिटकॉइन की कीमत में उतार-चढ़ाव मार्केट की गतिविधियों पर निर्भर करते हैं यही वजह है कि बिटकॉइन की कीमत अक्सर बढ़ती कम होती रहती है| अगर हम भारत में बिटकॉइन की कीमत की बात करें तो आज के समय में भारत में एक बिटकॉइन की कीमत 2556140 है और यह कीमत अस्थिर है यह कभी भी आने वाले समय में कम ज्यादा हो सकती है| 

Bitcoin के लाभ

  • Bitcoin का सबसे बड़ा फायदा यह है कि बिटकॉइन को हम दुनिया के किसी भी कोने में किसी को भी आसानी से भेज सकते हैं। 
  • बिटकॉइन अकाउंट कभी भी हमारे बैंक अकाउंट की तरह ब्लॉक नहीं किया जा सकता है। 
  • अगर आप इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन करना चाहते हैं तो उस स्थिति में भी आप बिटकॉइन का उपयोग कर सकते हैं परंतु इंटरनेशनल ट्रांजैक्शन में थोड़ी सी फीस लगती है। 
  • बिटकॉइन में मिडिल मैन की कोई भूमिका नहीं होती है| जिसकी वजह से कम खर्चे से किया जा सकता है। Bitcoin को अभी तक किसी भी देश ने वैधानिक मान्यता नहीं दी है इसलिए बिटकॉइन का इस्तेमाल बिना किसी एक्स्ट्रा कॉस्ट के किया जा सकता है|

Bitcoin के नुकसान

  • Bitcoin पर किसी भी अथॉरिटी का कंट्रोल नहीं होता है जिस वजह से बिटकॉइन का इस्तेमाल गैरकानूनी चीजें खरीदने में भी किया जा सकता है। 
  • बिटकॉइन का सबसे बड़ा नुकसान यह भी है कि अगर आपका बिटकॉइन अकाउंट का डाटा  खो जाए या फिर आप अकाउंट को रिकवर ना कर पाए या फिर अगर आप अपने बिटकॉइन अकाउंट का पासवर्ड भूल जाए तो आप उस स्थिति में अपने सारे बिटकॉइन गवाह सकते हैं| 

Bitcoin को कैसे कमाए

हम आपको बताना चाहेंगे कि बिटकॉइन को आप कमा भी सकते हैं और इसको कमाने के कुछ तरीके भी हैं और वह तरीके क्या है आइए उसके बारे में जानते हैं

  • अगर आप एक बिटकॉइन खरीदना चाहते हैं तो आप $999 देकर भी बिटकॉइन खरीद सकते हैं और अगर आप बिटकॉइन की छोटी यूनिट यानी satoshi खरीदना चाहते हैं तो वह खरीद सकते हैं। 
  • Online खाना सामान की खरीद फरोख्त कर सकते हैं| आप उसमें पैसे के बदले में बिटकॉइन ले सकते हैं और बिटकॉइन आपके डिजिटल वॉलेट में सेव हो जाएंगे। बिटकॉइन के लिए आपको एक कंप्यूटर की जरूरत पड़ेगी क्योंकि ऑनलाइन होती है|

Bitcoin यह कैसे खरीदें

अब आप सोच रहे होंगे कि बिटकॉइन को कैसे खरीदा जा सकता है तो बिटकॉइन को खरीदने के कुछ तरीके इस प्रकार है:-

  • यह अगर आप बिटकॉइन खरीदना चाहते हैं तो इसकी दो पॉपुलर वेबसाइट है बिटकॉइन को आप आज के समय में इंडियन करेंसी के रूप में भी खरीद सकते हैं और यह सारी कीमत आपको इन वेबसाइट पर मिल जाती है। 
  • Unocoin 0% फीस पर काम करता है इसको आप अपने बिजनेस यूनो पॉइंट के साथ भी इंटीग्रेट कर सकते हैं अगर आपके बिटकॉइन में कोई उतार-चढ़ाव आता है तो आप उस स्थिति में बिटकॉइन को बेच सकते हैं| या रख सकते हैं यह आपसे कोई भी चार्ज नहीं लेता है| इसके अलावा आप बिटकॉइन से बिटकॉइन को ऑटो सेल भी कर सकते हैं
  • Zebpay की वेबसाइट से आप बिटकॉइन की मदद से डीटीएच का टॉप अप भी कर सकते हैं इसके अलावा आप माऐमेज़ॉन मेकमायट्रिप से भी खरीद सकते हैं बिटकॉइन को खरीदने के लिए आप ऐप का इस्तेमाल भी कर सकते हैं|

Bitcoin Miner क्या होता है

जैसे सभी देशों में नोट छापने की एक सीमा होती है ठीक उसी प्रकार बिटकॉइन बनाने की भी एक सीमा है| बिटकॉइन की लिमिटेशन है कि बिटकॉइन 10 लाख से ज्यादा मार्किट में नहीं आ सकते हैं और वर्तमान समय में मार्केट में 13 मिलियन यानी (1 करोड़ 30 लाख) के करीब है| अब जो भी नए बिटकॉइन आएंगे वह माइनिंग के जरिए आते हैं| 

मान लीजिए अगर आप बिटकॉइन भेजना चाहते हैं तो बिटकॉइन भेजने के की प्रक्रिया को verify करना होता है और उसको verify करने वाले को कहते हैं जिनके पास हाई पावर कंप्यूटर होते हैं बिटकॉइन ट्रांजैक्शन को वेरीफाई करते हैं| 

अब आप जान चुके है कि Bitcoin क्या है? बिटकॉइन में कैसे निवेश करें? बिटकॉइन में ट्रेड कैसे करे? बिटकॉइन के लाभ और नुक्सान क्या है? उम्मीद करते है कि आपको हमारे द्वारा शेयर कृ गए जानकारी लाभदायक लगी होगी| अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करि गए जानकारी से सम्बंधित कोई भी डाउट है तो आप हमे नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते है| 

ये भी पढ़े:

Recurring Deposit क्या है?

EMI क्या है?

शेयर मार्किट क्या है?

 

FAQ (Frequently Asked Questions)

Bitcoin यह मैं कैसे निवेश करें

Bitcoin में निवेश करने के लिए आप क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज के जरिए निवेश कर सकते हैं| इसके लिए सबसे पहले आपको अपनी डिटेल डालनी होगी फिर उसके बाद ईमेल वेरीफिकेशन करना होगा और सिक्योरिटी सेटअप करना होगा और अंत में आपको अपने देश का नाम चुनना होगा| 

Bitcoin कैसे बनता है?

Bitcoin की सबसे छोटी यूनिट को Satoshi कहा जाता है और एक करोड़ Satoshi को मिलाकर एक बिटकॉइन बनता है| जैसे अगर हम भारतीय करेंसी की बात करें तो 100 पैसे को मिलाकर 1 रुपया बनता है ठीक उसी तरह 10,00,00,000 संतोषी को मिलाकर एक बिटकॉइन बनता है| 

Bitcoin का Return

जब Bitcoin मार्केट में एंटर हुआ था तो एंट्री के साथ ही बिटकॉइन ने काफी अच्छे रिटर्न दिए हैं अगर हम पिछले 7 सालों की बात करें तो पिछले 7 सालों में बिटकॉइन ने 10 रुपये के निवेश को 652 लाख रुपए कर दिया है और इस साल 2017 बिटकॉइन में जनवरी महीने से लेकर नवंबर के दौरान काफी बेहतर रिटर्न दिया है| 

Bitcoin किसने बनाई और क्यों बनाई

लोगों का मानना है कि क्रिप्टोकरंसी 2009 में Satoshi Nakamoto ने शुरू किया था लेकिन इस बात के कोई पुख्ता सबूत नहीं मिल पाए हैं| कुछ लोग का मानना है कि इससे पहले कई निवेशकों या देशों ने भी डिजिटल मुद्रा पर काम किया था इससे पहले 1996 में यूएस ने इलेक्ट्रॉनिक गोल्ड बनाया था यह ऐसा गोल्ड था जिसे रखा नहीं जा सकता था लेकिन इस गोल्ड की मदद से दूसरी चीजों को खरीदा जा सकता था परंतु साल 2008 में इसे बैन कर दिया गया था|

 

Your Answer

Your email address will not be published.

Scroll to Top