डीमैट अकाउंट क्या है और इसका उपयोग और कैसे खोलें

दोस्तों क्या आप भी जानना चाहते हैं कि Demat अकाउंट क्या है? Demat अकाउंट कैसे काम करता है? Demat अकाउंट के फायदे क्या है? वैसे तो आप ने हमारी वेबसाइट पर आने से पहले और भी बहुत सी वेबसाइट पर Demat के बारे में पढ़ा होगा| परंतु हम अपने इस पोस्ट में आपको Demat के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी शेयर करने की कोशिश करेंगे ताकि आपके मन में डिमैट अकाउंट से संबंधित जितने भी सवाल है उनके आपको सही जवाब मिल जाए। 

दोस्तों हम आपको बताना चाहेंगे कि डीमेट अकाउंट की मदद से आप शेयर बाजार में शेयर खरीद सकते हैं और बेच भी सकते हैं| डीमैट अकाउंट को ओपन करवाने के लिए आपके पास पैन कार्ड होना जरूरी है क्योंकि बिना पैन कार्ड के Demat अकाउंट नहीं खुलवा सकते हैं। 

एक समय हुआ करता था जब भी आप शेयर बाजार में किसी कंपनी में निवेश करते थे तो वह कंपनी आपको कुछ कागज भेजती थी जो कि इस बात का सबूत होते थे कि आपने उस कंपनी में निवेश करा है| परंतु जब से डिमैट अकाउंट की शुरुआत हुई है तब से यह सब कुछ बदल गया है| अब कोई भी कंपनी आपको किसी भी प्रकार के कागज नहीं भेजती है| तो चलिए दोस्तों अब हम शुरु करते हैं कि डिमैट अकाउंट क्या होता है और इतना जरूरी क्यों है?

डीमैट अकाउंट क्या है – Demat Account in Hindi

डीमैट अकाउंट एक ऐसा अकाउंट होता है जिसका इस्तेमाल करके लोग अपने शेयर खरीद सकते हैं और शेयर बेच भी सकते हैं| डीमेट अकाउंट भी ठीक उसी तरह काम करता है जिस तरह हमारा बैंक अकाउंट काम करता है| जैसे हम अपने बैंक अकाउंट में पैसे रखते हैं और उन्हें ट्रांसफर कर सकते हैं, क्रेडिट कर सकते हैं, डिपॉजिट कर कर सकते हैं| ठीक उसी तरह डीमैट अकाउंट में भी शेयर को खरीद सकते हैं, शेयर को बेच सकते हैं और शेयर को ट्रांसफर भी कर सकते हैं| 

अगर आसान भाषा में हम बात करें की तो डिमैट अकाउंट एक ऐसा अकाउंट होता है जिसके जरिए हम अपनी शेयर को किसी दूसरे के डीमैट अकाउंट में Digitally ट्रांसफर कर सकते हैं| हमें इन शेयर को अपने पास भौतिक रूप में रखने की जरूरत नहीं होती है यह बिल्कुल बैंक की तरह ही काम करता है| जैसे हम बैंक अकाउंट में digital transfer का इस्तेमाल करते हैं| हम डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक Money Transfer कर सकते हैं| 

दूसरे शब्दों में कहें तो शेयर को Digitally यानि की इलेक्ट्रॉनिक रूप में रखने की सुविधा को Demat Account कहते हैं| डीमेट का पूरा नाम Dematerialize होता है। सिक्योरिटी यानि कि शेयर को भौतिक रूप में बदलने की प्रक्रिया को डीमैट dematerialization कहते हैं।

डिमैट अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं?

शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने के लिए 3 प्रकार के डीमैट अकाउंट उपलब्ध है| यह डीमैट अकाउंट निवेशकों की प्रोफाइल के हिसाब से तैयार किए जाते हैं और इसकी देखरेख आपकी Broking Firm करती है।

1. रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat account)

जब भी कोई व्यक्ति शेयर मार्केट में entery करता है तो उसके लिए रेगुलर डिमैट अकाउंट बनाया जाता है क्योंकि भारतीय निवेशक और ट्रेडर्स देश में ही रहते हैं| इसलिए वह देश के शेयर ही खरीदते हैं| आप अपने रेगुलर डिमैट अकाउंट को किसी भी डिपॉजिट्री-CDSL या NSDL पर रजिस्टर broker के पास खुलवा सकते हैं| इस रेगुलर डिमैट अकाउंट से आप इलेक्ट्रॉनिकली शेयरों में निवेश और ट्रेड कर सकते हैं।

2. रिपाट्राइबल डीमैट अकाउंट (Repatriable Demat account)

Repatribal demat account Non resident Indian (NRI’s) के लिए होते हैं|  इसके जरिए NRI भारतीय शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं| ट्रेडर और निवेशक इस अकाउंट के जरिए विदेश में फंड ट्रांसफर कर सकते हैं| परंतु फंड ट्रांसफर करने के लिए निवेशकों के पास NRE का बैंक खाता होना बहुत जरूरी है| इसके अलावा इस डिमैट अकाउंट में Nominee भी ऐड कर सकते हैं साथ ही वह इस खाते में ज्वाइंट होल्डर भी शामिल कर सकते हैं| परंतु वह एक भारतीय नागरिक होना चाहिए और वह कहां पर रह रहा है इस बात की कोई भी पाबंदी नहीं है।

Repatriable Demat Account खुलवाने के लिए NRI के पासवर्ड की कॉपी, पैन कार्ड, वीजा, विदेश में उसका एड्रेस, पासपोर्ट साइज फोटो और साथ ही में FEMA में डिक्लेरेशन और NRE या NRO खाते का cancelled cheque भी देना होता है।

3. नॉन-रिपाट्रिएबल डीमैट अकाउंट

यह डीमैट अकाउंट भी NRI के लिए होता है| परंतु इस डिमैट अकाउंट में फंड को विदेश में ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है| इस अकाउंट के लिए भी NRO बैंक अकाउंट की जरूरत होती है| यह डिमैट अकाउंट उन लोगों के लिए होता है जिनकी इनकम भारतीय और विदेश दोनों से हो रही है और वह इस इनकम को मैनेज करने के लिए NRO खाते का इस्तेमाल करते हैं।

डीमैट खाते के उपयोग

बहुत से लोग ऐसे हैं जो यह नहीं जानते हैं कि डीमेट अकाउंट का उपयोग कहां-कहां कर सकते हैं तो उस पर नजर डालते हैं।

सुरक्षित होल्डिंग

Demat account का सबसे बड़ा उपयोग यह है कि आप अपने कीमती फाइनेंसियल सिक्योरिटीज को राष्ट्रीय डिपॉजिटरी के सुरक्षित दायरे में रख सकते हैं क्योंकि यह आपके स्टॉक और शेयर एक केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स स्थान में है जो कि भारी इंक्रिप्शन से सुरक्षित होते हैं| जिस वजह से आपको अपने भौतिक रिकॉर्ड रखने के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं होती।

आप कोई डीमैट खाता कैसे खोल सकते हैं?

एक समय हुआ करता था जब शेयर को खरीदने, बेचने या व्यापार करने के लिए कतार में इंतजार करना पड़ता था| परंतु आज के समय में सब कुछ आसानी से हो जाता है और आप आसानी से खाता खोल सकते हैं| 

कोई डीमैट खाता ऑफलाइन खोलने की प्रक्रिया में शामिल है।

  • सेबी के साथ पंजीकृत डिपॉजिट सहभागी चुने| निर्णय लेने से पहले आप उनकी सेवाओं और लागू फीस की तुलना कर सकते हैं। 
  • आप संबंधित आवेदन पत्र भरे। 
  • आपको जरुरी KYC दस्तावेज प्रदान करने होंगे| जैसे कि ID Proof, Address Proof, Bank Details, PAN Card
  • आपके द्वारा चुने गए डिपॉजिटरी प्रतिभागी के प्रतिनिधि द्वारा किए गए in-person verification के दौरान आपको KYC वेरिफिकेशन documents प्रदान करने होंगे| आपको अपने अकाउंट की ओपनिंग फीस अकाउंट मेंटेनेंस फीस के साथ डीमैट खाते में के संचालन के संबंध में नियमों और विनियमों की एक सूची प्रदान की जाएगी। 
  • Verification होने के बाद आपको आपके खाते की डिटेल दी जाएगी और आपका अकाउंट चालू हो जाएगा। 

डिमैट अकाउंट Online खोलना आसान है इन चरणों में शामिल है। 

  • डिपॉजिटरी प्रतिभागी का चयन करें| 
  • आप official वेबसाइट पर जाएं और जानकारी फॉर्म भरे। 
  • आपको वेरीफाइड मोबाइल नंबर पर ओटीपी प्राप्त होगा और ओटीपी को आप वेबसाइट में भरे। 
  • अपने जरूरी डाक्यूमेंट्स को अपलोड करें और इस तरह आपका डिमैट अकाउंट तैयार हो जाएगा।

Zerodha में अपना डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोलें?

जैसे कि हमने अभी आपको बताया था कि पुराने समय में जब कोई भी व्यक्ति शेयर खरीदा था तो कंपनी आपको उस शेयर से जुड़े हुए दस्तावेज भेजती थी| जो कि इस बात का सबूत होता था कि आप ने उस कंपनी के शेयर खरीदे हुए हैं| उस कंपनी में निवेश करा हुआ है| जब आप उस शेयर को बेचते थे तो सबसे पहले आपको उस शेयर के दस्तावेज को दफ्तर में पहुंचाना होता था| वहां पर आपके दस्तावेज़ को देखा जाता था कि आप ने जिस समय शेयर को बेचा था उस समय शेयर का भाव क्या था? उसके मुताबिक ही आपको पैसा दिया जाता है| इस प्रक्रिया में काफी ज्यादा समय भी लगता था| काफी समय के बाद आपके अकाउंट में पैसा आता था| जिसकी वजह से आपका काफी समय बर्बाद भी होता था यही वजह थी कि पुराने समय में लोग शेयर में निवेश करने से बचते थे| 

परंतु अब दुनिया ने काफी ज्यादा तरक्की कर ली है| आज के समय में आप जैसे ही शेयर खरीदते हैं| कुछ ही देर में आपके अकाउंट में शेयर आ जाते हैं और जब आप कोई शेयर बेच देते हैं तो उसका पैसा भी कुछ ही देर में आपके अकाउंट में आ जाता है| आजकल तो शेयर खरीदने या बेचने के लिए भी आप अपने मोबाइल का ही इस्तेमाल कर सकते हैं| अब जरूरी नहीं है कि आप किसी कंप्यूटर का इस्तेमाल करें| इस तरह शेयर खरीदना और बेचना डीमेट अकाउंट की मदद से बहुत ही ज्यादा आसान हो गया है। डीमेट अकाउंट अगर आपका ओपन हो गया है तो उस तक पहुंचने के लिए आपको पासवर्ड की जरूरत होती है और ट्रांजैक्शन तक पहुंचने के लिए आपको ट्रांजैक्शन पासवर्ड डालना पड़ता है।

Zerodha डिमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए आपको कुछ जरूरी दस्तावेज की जरूरत होती है जो कि इस प्रकार है

Documents जिनकी जरुरत होती हैं

Zerodha डिमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए कुछ जरूरी दस्तावेज की जरूरत होती है जो कि हम आपको नीचे बताने जा रहे हैं| परंतु उससे पहले अगर आप डिमैट अकाउंट के लिए अप्लाई करने जा रहे हैं तो उसके लिए आपके पास आपके दस्तावेजों की फोटो कॉपी कॉपी जरूर होनी चाहिए| अकाउंट खोलने के लिए जरूरी दस्तावेज 

  • PAN Card
  • Adhaar Card
  • 2 Passport Size Photos
  • Canceled Cheque
  • Saving Passbook 

Zerodha में डिमैट अकाउंट कैसे खोलें?

हम आपके साथ Zerodha में डिमैट अकाउंट खोलने के स्टेप्स शेयर करने जा रहे हैं| जिसे आप फॉलो करके आसानी से अपना डिमैट अकाउंट Zerodha में खोल सकते हैं| परंतु उससे पहले आपको यह भी जान लेना चाहिए कि शेयर मार्केट से पैसे कैसे कमाए तो चलिए दोस्तों अब हम Zerodha  अकाउंट खोलने के बारे में बताते हैं। 

  • सबसे पहले आपको Zerodha की वेबसाइट पर जाना है और वहां पर Open an Account के ऑप्शन पर क्लिक करना है| 
  • फिर वहां पर आपको अपना नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल जैसी सारी इनफार्मेशन को भरना है और call me के बटन के ऊपर क्लिक करना है। 
  • आपको Upstox स्थानीय प्रतिनिधि से कॉल प्राप्त होगी और खाता खोलने के फार्म को हस्ताक्षरित करने और आपके द्वारा दस्तावेज एकत्रित करने के लिए वह आप से मिलने का समय बुक करेंगे| जिसे कि आप को तय करना कि आप किस समय उनको मिल सकते हैं। 
  • आप अकाउंट खोलने के लिए पैसे देने के लिए नेट बैंकिंग या कार्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं।

अपने दस्तावेज जमा होने के 4 से 7 दिन के अंदर अंदर आपका डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खुल जाएगा। अगर आप शेयर मार्केट में पैसा निवेश करना चाहते हैं तो आप Discount Broker Zerodha पर अपना अकाउंट बनाकर बहुत ही आसानी से डिमैट अकाउंट खोल सकते हैं और उससे शेयर खरीद और बेच सकते हैं।

डिमैट अकाउंट खोलने में कितने रुपये लगते है?

डिमैट अकाउंट को ओपन करने पर ज्यादा खर्चा नहीं लगता है| आप मात्र ₹300 से लेकर ₹700 के अंदर अंदर डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं और शेयर में निवेश करना शुरू कर सकते हैं| जब आप डीमैट अकाउंट ओपन करवाते हैं तो आप से ₹300 लिए जाते हैं| उसके अलावा डीमैट अकाउंट को चलाने के लिए आपसे डीपी कई तरह की फीस लेता है| हर चीज की अलग-अलग फीस होती है और यह कंपनी के ऊपर भी निर्भर करती है कि वह कितनी फीस ले रही है| 

जब भी आप अपना डिमैट अकाउंट ओपन करते हैं तो सबसे पहले आपको अकाउंट ओपनिंग फीस देनी होती है, उसके बाद आपको Annual Management फीस देनी होती है जो कि कंपनी आप से शुरुआत में ले लेती है और जिसके बदले में कंपनी आपके डीमैट अकाउंट की साल भर देखरेख करती है। इसके बाद आपसे Custodian फीस ली जाती है यह आपके शेयर पर निर्भर करता है| यह फीस कंपनी या तो आपसे एक बार में ले सकती है या फिर आपसे महीने भर महीने ले सकती है| फीस लेने की अवधि कंपनी के ऊपर निर्भर करती है| उसके बाद आपसे transactional फीस ली जाती है| यह फीस तब ली जाती है जब शेयर को एक डीमैट अकाउंट से दूसरे अकाउंट में आदान प्रदान किया जाता है| उस समय कंपनी आपसे कुछ फीस लेती है| यह फीस शेयर के नंबर या फिर शेयर की कीमत के ऊपर पर निर्भर करती है| 

हम आपको एक सलाह देना चाहेंगे कि अगर आप शेयर मार्केट में नए है और आपको शेयर मार्केट की ज्यादा जानकारी नहीं है तो आपको शेयर मार्केट में निवेश करने से पहले किसी broker से अवश्य मिलना चाहिए।

डीमैट खाता कौन खोलेगा?

भारत में demat अकाउंट खोलने के लिए दो संस्थाए कार्यरत है पहली NSDL (National Securities Depository Limited) और दूसरी CDSL (central securities depository limited).

इन depositories के लगभग 500 से भी ज्यादा agents हैं| जिनको depository participants कहा जाता है| जो आपका डिमैट अकाउंट खोल कर देते हैं| इनको आसान भाषा में डीपी भी कहा जाता है। यह भी कोई जरूरी नहीं है कि आपका डिमैट अकाउंट किसी बैंक से ही खोला जा सकता है| इसके अलावा और काफी संस्थाएं हैं जो आपका डिमैट अकाउंट खोल सकती है| जिनमें से प्रमुख संस्थाएं sharekhan,india infoline आदि है| 

आप इन के दफ्तर में जाकर अपना डिमैट अकाउंट खुलवा सकते हैं या फिर अगर आप घर बैठे ही अपना डिमैट अकाउंट खोलना चाहते हैं तो आप इंटरनेट की मदद से डिमैट अकाउंट खोल सकते हैं| परंतु इसके लिए आपके पास पैन कार्ड का होना जरूरी है क्योंकि बिना पैन कार्ड क्या अपना डिमैट अकाउंट ओपन नहीं कर सकते हैं।

क्या कोई भी व्यक्ति डीमैट खाता खोल सकते हैं?

अगर आपकी उम्र 18 साल या उससे ज्यादा है फिर ही आप डिमैट अकाउंट खोल सकते हैं।

डिमैट अकाउंट के फायदे

  • डीमैट अकाउंट को ओपन करने के बाद आपके शेयर को खरीदने के बाद उसमें धोखाधड़ी या चोरी होने की संभावना ना के बराबर ही रहती है क्योंकि डिमैट अकाउंट में आपके शेयर इलेक्ट्रॉनिक्स यानी कि डिजिटल माध्यम में होते हैं इसमें खतरा बहुत कम होता है जिसकी वजह से यह secure होते हैं। 
  • पहले शेयर्स को ट्रांसफर करने में काफी ज्यादा समय लग जाता था कई बार तो महीने का समय भी लग जाता था| लेकिन अब ऐसा नहीं है| आप डीमेट अकाउंट से तुरंत ही अपने शेयर्स को ट्रांसफर कर सकते हैं और जिसको भी आप अपने शेयर बेच रहे हैं तुरंत ही उसके अकाउंट में यह शेयर दिखने लग जाते हैं। 
  • पहले शेयर्स बेचना बहुत ही ज्यादा मुश्किल हुआ करता था आपको उस समय एक समूह में ही शेयर्स को बेचना होता था| इसके साथ ही आप विषम संख्या में शेयर्स को नहीं भेज सकते थे| लेकिन अब ऐसा नहीं है| डिमैट अकाउंट के जरिए आप अकेले एक शेयर को भी खरीद और बेच सकते हैं। 
  • अब आप डीमैट अकाउंट खोलते हैं तो अकाउंट को व्यक्तिगत रूप से मनोनीत कर सकते हैं पहले ऐसा नहीं था| पहले शेयर के लिए प्रमाण पत्र हुआ करते थे।

Conclusion

अब आप जान चुके हैं कि demat अकाउंट क्या है, demat अकाउंट कैसे काम करता है, demat अकाउंट का फायदा क्या है, डिमैट अकाउंट कैसे खोला जाता है, demat अकाउंट का उपयोग कहां किया जाता है| उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी को पढ़ने के बाद डिमैट अकाउंट से संबंधित आप के जितने भी सवाल थे उसके आपको जवाब मिल गए होंगे| अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट हो या फिर आप हमें कोई राय देना चाहते हैं तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

ये भी पढ़े:

Nominee क्या होता है?

Recurring Deposit क्या है?

फाइनेंस क्या है?

FAQ (Frequently Asked Question)

किसी डीमैट खाते को खोलने के लिए आपके पास कितने शेयर होने चाहिए? 

आप बिना किसी शेयर के भी demat account open कर सकते हैं| इसमें आपको किसी minimum amount को रखने की जरूरत नहीं होती है| आप zero amount पर भी demat account open कर सकते हैं।

डीमैट अकाउंट की लागत क्या होगी?

डिमैट अकाउंट को खोलने के लिए आपके ₹300 से लेकर ₹700 तक लग सकते हैं| इसके लिए आपके खर्चे को चार भागों में विभाजित किया गया है| एनुअल फीस, ट्रांजैक्शन फीस, DP फीस।

नामांकन संभव है?

हां नामांकन संभव है| क्योंकि जब भी आप अपना डिमैट अकाउंट open करवाते हैं तो उसमें आप अपने demat अकाउंट के फॉर्म के साथ नामांकन का नाम शामिल कर सकते हैं| अगर डिमैट अकाउंट होल्डर की मृत्यु हो जाती है तो उसके सारे शेयर को उसके नामांकन के द्वारा प्राप्त किया जा सकता है।

क्या डिपॉजिटरी प्रतिभागियों के बीच शेयर का हस्तांतरण संभव है?

जी हां शेयर का हस्तांतरण संभव है| इसके लिए आपको एक डिलीवरी इंस्ट्रक्शन स्लिप बुक को भरना होता है और उसे अपने डीपी को अपने शेयर को एक से दूसरे डीपी खाते में हस्तांतरित करने के लिए देनी होती है| परंतु आपको यह भी देखना होता है कि जो शेयर आप हस्तांतरण ट्रांसफर करने जा रहे हैं क्या दोनों डिमैट खाते डिपॉजिटरी एक ही है या नहीं?

अगर वह दोनों अलग-अलग हैं फिर आपको इंटर डिपाजिट स्लिप लगेगी यदि वे दोनों एक ही है तो फिर आपको इंट्रा डिपाजिट स्लिप की आवश्यकता होगी।आपको उस DIS को तब ही सबमिट करना है जब बाजार खुला होता है क्योंकि DIS एडमिट करने की डेट और DIS के निष्पादन की date एक हो सकती है| इसके अलावा उनके बीच 1 दिन का अंतर भी स्वीकार किया जाता है| आप को हस्तांतरित करने के लिए अपने broker को कुछ फीस भी देनी होती है।

क्या मैं अपना डीमैट अकाउंट किसी और के नाम कर सकता हूँ?

नहीं, आप अपना डिमैट अकाउंट किसी और के नाम पर नहीं कर सकते हैं| आप अपने डिमैट अकाउंट से शेयर दूसरे के डिमैट अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं| परंतु उसके लिए भी उस व्यक्ति के पास खुद का डिमैट अकाउंट होना बहुत जरूरी है। 

मैं एक साथ कितने डीमैट अकाउंट रख सकता हूं?

आप अपने बैंक अकाउंट की तरह ही एक से ज्यादा डीमैट अकाउंट रख सकते हैं| परंतु आप किसी एक कंपनी में 3 से ज्यादा डिमैट अकाउंट नहीं खोल सकते हैं| 

डिमैट अकाउंट खोलने के लिए कौन से डॉक्यूमेंट होने चाहिए?

डिमैट अकाउंट ओपन करने के लिए आपके पास पैन कार्ड होना जरूरी है क्योंकि बिना पैन कार्ड के आप अपना डिमैट अकाउंट नहीं ओपन कर सकते हैं।

2 thoughts on “डीमैट अकाउंट क्या है और इसका उपयोग और कैसे खोलें”

  1. Ajay samudri Gram prakash bhanwari jila chhatarpur madhya Pradesh aadhar card kho Gaya to mobile number se aadhar card kaise nikale

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top