गूगल का आविष्कार किसने किया और कब हुआ?

दोस्तों क्या आप भी जानना चाहते हैं कि Google का आविष्कार किसने किया है? सबसे पहले हम आपको बताना चाहेंगे कि आज के समय में इंटरनेट का इस्तेमाल बहुत ज्यादा हो रहा है| अगर हम इंटरनेट के बिना अपनी जिंदगी के बारे में सोचें तो यह मुमकिन नहीं है| परंतु एक दशक पहले इंटरनेट का वजूद तक नहीं था और आज के समय में यह दुनिया की सबसे बड़ी जरूरतों में से एक बन चुका है| यह इतना जरूरी हो चुका है कि आजकल बड़े से बड़े बिजनेस यहां तक कि पूरे के पूरे देश में इंटरनेट से जुड़े हुए हैं| 

इंटरनेट का हमारी जिंदगी में इतना ज्यादा महत्वपूर्ण है कि अगर हम अपनी जिंदगी की सबसे जरूरी चीजें रोटी, कपड़ा, मकान की बात करते हैं तो चौथे नंबर पर इंटरनेट आता है। आज के समय में जो इंटरनेट का इस्तेमाल हम कर रहे हैं वह पहले ऐसा नहीं था| जबसे इंटरनेट का आविष्कार हुआ है उसके बाद से हर समय कुछ ना कुछ नए अविष्कार होते जा रहे हैं जिनमें से एक अविष्कार गूगल भी है।

आप में से शायद कुछ ही लोग ऐसे होंगे जिन्हें गूगल के बारे में नहीं पता होगा| कुछ लोगों का मानना है कि गूगल एक टेक्नोलॉजी क्षेत्र की बड़ी कंपनी है| कुछ लोगों का मानना है कि गूगल एक सॉफ्टवेयर कंपनी है, लेकिन गूगल को असली पहचान search engine से मिली है| आज के समय में गूगल दुनिया की बड़ी कंपनियों में से एक है| जिसकी शुरुआत एक सर्च इंजन के रूप में हुई थी| जब भी कोई व्यक्ति सर्च इंजन पर कुछ ढूंढता सर्च करता था तो google, webpage को analyze करके उन pages को search engine में results के तोर पर provide करता है| 

तो चलिए दोस्तों अब हम जानते हैं कि गूगल क्या है? गूगल का आविष्कार किसने किया? गूगल पर आविष्कार कब हुआ? गूगल का आविष्कार कहां हुआ? अगर आप भी इन सारी जानकारी के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें क्योंकि आज के इस पोस्ट में हम आपके साथ गूगल से संबंधित रोचक जानकारी शेयर करने जा रहे हैं।

गूगल क्या है?

गूगल एक सर्च इंजन है जिस पर यूजर जब भी कोई query search करता है तो यूजर उसे अपने डेटाबेस में से निकाल कर वह रिजल्ट यूजर के सामने रखता है| अगर हम गूगल सर्च इंजन की बात करें तो भारत देश में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाला सर्च इंजन है| यहां तक कि हम यह भी कह सकते हैं कि यह इंटरनेट के अविष्कारों में से एक है| 

गूगल की शुरुआत तो सर्च इंजन के तौर पर हुई थी लेकिन आज के समय में गूगल एक इंटरनेशनल कंपनी बन चुका है| जिसमें हर सॉफ्टवेयर इंजीनियर काम करना चाहता है| गूगल सिर्फ सॉफ्टवेयर ही नहीं बल्कि हार्डवेयर की फील्ड में भी काफी अच्छा काम कर रहा है| गूगल के कुछ प्रोडक्ट जैसे गूगल पिक्सेल, गूगल होम को लोग काफी ज्यादा पसंद कर रहे हैं| 

इसके अलावा दुनिया में इस्तेमाल किए जाने वाला मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम android भी गूगल का खुद का ही है और कंप्यूटर में इस्तेमाल किए जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम ChromeOS भी गूगल का खुद का ही प्रोडक्ट है| इसके अलावा गूगल YouTube, Blogspot, Google Assistant, Google Keep, Google Docs, Gmail और Google Suit गूगल ने लॉन्च किए है।

आसान भाषा में समझा जाए तो गूगल एक मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कंपनी है जो इंटरनेट पर सर्विस और प्रोडक्ट जैसे कि Online advertisement, Cloud Computing, Software और hardware की फील्ड में काम करती है| हाल ही में विकिपीडिया के अनुसार गूगल विश्व के 5 सबसे बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों की लिस्ट में शामिल हो चुका है| आज के समय में गूगल दुनिया के कुछ देशों को छोड़कर बाकी सभी देशों में अपनी सेवाएं प्रदान कर रहा है| 

शुरुआत में गूगल ने एक search engine के तोर पर काम करना शुरू करा था जिसमें वह लोगों को उनके रूचि के अनुसार जुड़े हुए वेब पेज एक साथ अपने सर्च इंजन भर दिखाता था| जब कोई यूजर वहां पर कोई query सर्च करता था| आज के समय में विश्व में सबसे अधिक उपयोग किए जाने वाला सर्च इंजन गूगल सर्च इंजन है।

Google का भारत के साथ कनेक्शन

अगर हम गूगल का भारत के साथ कनेक्शन की बात करें तो हम आपको बताना चाहेंगे कि गूगल के वर्तमान CEO सुंदर पिचाई जो कि गूगल की parent कंपनी alphabet का नेतृत्व कर रहे हैं| इसके अलावा सुंदर पिचाई गूगल के मुख्य शेयर होल्डरों में से एक है| 

गूगल का आविष्कार किसने किया था?

गूगल का आविष्कार कैलिफोर्निया की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के 2 छात्रों ने किया था| उन्होंने इसे एक प्रोजेक्ट के रूप में शुरू किया था| जो आगे चलकर आज एक ब्रांड बन चुका है| गूगल का आविष्कार Sergey Brin और Larry Page ने किया है जो आज के समय में गूगल के सबसे बड़े शेरहोल्डर भी है| गूगल का आविष्कार करने में इसके फाउंडर के न जाने कितने इंजीनियर्स और बुद्धिजीवियों का योगदान रहा है| जिस समय गूगल का आविष्कार किया था उस समय इसका नाम Googol था| लेकिन स्पेलिंग मिस्टेक होने की वजह से उसका नाम Google बन गया| जो आज खुद एक brand बन चुका है| हम आपको बताना चाहेंगे कि गूगल का आविष्कार स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में कंप्यूटर इंजीनियरिंग में पीएचडी के दौरान किया गया था और उन्होंने गूगल की शुरआत एक project के तोर पर ही की थी| 

इसके अलावा Scott Hassan गूगल के तीसरे स्थापक थे जिन्होंने गूगल के अधिकतर code को टाइप किया है| परंतु गूगल को एक कंपनी के रूप में स्थापित होने से पहले ही उन्होंने इस प्रोजेक्ट को छोड़ दिया था। Scott Hasan ने इस प्रोजेक्ट को इसलिए छोड़ दिया था क्योंकि वह रोबोटिक्स में अपना करियर बनाना चाहते थे और फिर साल 2006 में Willow Garage नाम की कंपनी की उन्होंने स्थापना की थी| इसलिए गूगल में उनका इतना महत्वपूर्ण योगदान होने के बावजूद भी उन्हें अधिकारी के रूप में इसका फाउंडर नहीं माना जाता है।

गूगल का आविष्कार कब हुआ था?

जैसे कि हमने आपको बताया है कि गूगल का आविष्कार Sergey Brin और Larry Page ने किया था| वह काफी लंबे समय से इस प्रोजेक्ट के ऊपर काम कर रहे थे| उन्होंने 4 सितंबर 1998 को कैलिफोर्निया में गूगल को एक निजी कंपनी के तौर पर स्थापित किया था| यानी कि उन्होंने 4 सितंबर 1998 को गूगल का आविष्कार किया था| 

गूगल का आविष्कार उस समय किया गया था जब web page को ढूंढने के लिए directories का इस्तेमाल किया जाता था| उस समय गूगल से पहले भी काफी सर्च इंजन थ परंतु गूगल को एक नई कार्यप्रणाली के द्वारा बनाया गया था जो आगे चलकर काफी असरदार साबित हुई| जो पहले के सर्च इंजन थे वे webpage को उनके keywords के अनुसार rank करवाते थे यानी कि जिस वेबपेज में जितने ज्यादा keywords होते थे वह उन pages को उतना ऊपर rank करवाते थे जिसकी वजह से यूजर को सही रिजल्ट नहीं मिल पाते थे।

गूगल को एक नई कार्यप्रणाली के ऊपर develop किया गया था जिसमें गूगल सर्च इंजन search query से संबंधित वेबसाइट और उसमें मौजूद लिंक को analyze करके इस पेज को rank करवाता था| जिस वेबसाइट के पास ज्यादा backlinks होते थे उसे ऊपर rank किया जाता था और जिसकी वजह से यूजर को भी अच्छे रिजल्ट्स मिलते थे| यह आइडिया Larry Page का था| इसलिए इस idea को उन्होंने pagerank का नाम दिया| Larry Page ने code को scott के साथ शेयर करा और फिर उन दोनों ने इस पर कोडिंग का काम शुरू कर दिया| 

इस आईडिया को पहले BackRub का नाम दिया गया था क्योंकि इसमें backlinks के आधार पर ही यूजर को रिजल्ट दिखाए जाते थे और इसी कार्यप्रणाली का उपयोग करके अन्य कई सर्च इंजन जैसे कि baidu में भी उपयोग किया गया| बाद में इस सर्च इंजन का नाम बदलकर Google रख दिया गया| असल में यह एक स्पेलिंग मिस्टेक था| असल में इसका नाम Googol रखा जाना था| जिसका मतलब 100 शून्य को फॉलो करता हुआ 1 होता है।

उसके बाद 15 सितंबर 1997 को (www.google.com) डोमेन को खरीदा गया था जो 4 सितंबर 1998 को एक और कॉरपोरेट कंपनी के रूप में स्थापित किया गया।

गूगल का आविष्कार कहां हुआ था?

गूगल का आविष्कार कैलिफोर्निया में हुआ था।

गूगल की कुछ खास बाते

  • गूगल एक सेकेंड में लगभग 1 लाख 30 हज़ार 900 रुपये कमाता है। 
  • साल 2020 की रिपोर्ट के अनुसार गूगल में 1 सेकंड में 40K सर्च होते थे| लेकिन अब यह सर्च और भी ज्यादा बढ़ गए हैं। 
  • साल 1998 में 1 दिन में 10K सर्च होते थे लेकिन साल 2006 में 1 सेकंड में 10K सर्च होने लगे। 
  • गूगल में जॉब करने के लिए हर हफ्ते 20K से ज्यादा फॉर्म भरे जाते हैं। 
  • गूगल में हर रोज 20% ऐसे सर्च होते हैं जिन्हें गूगल पर पहले कभी भी search नहीं किया होता है। 
  • 1999 में गूगल को 5 करोड़ वेबपेज को स्कैन करने में 1 महीना लग जाता था| परंतु वहीं साल 2012 में यह काम 1 मिनट में हो जाता है।
  •  गूगल के हेड ऑफिस में 200 बकरियों को घास चरने के लिए रखा गया है। 
  • लगभग 80 से भी अधिक फोन में गूगल द्वारा बनाए गए एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग किया जाता है। 
  • हाल ही की रिपोर्ट के अनुसार गूगल में काम करने वाले लगभग 14% लोग कभी कॉलेज नहीं गए हैं| 
  • यह भी अनुमान लगाया जा रहा है कि गूगल के सभी डाटा सेंटर में लगभग 9 लाख से अधिक सर्वर मौजूद है।

गूगल का उपयोग क्या है?

शुरुआती समय में गूगल का इस्तेमाल सिर्फ सर्च इंजन के तौर पर किया जाता था| जिसमें user अपने सर्च query को सर्च करते थे और गूगल उन्हें अपने डेटाबेस में से अच्छे रिजल्ट निकाल कर देता था| परंतु समय के साथ-साथ गूगल ने बहुत ज्यादा तरक्की कर ली है| गूगल ने बहुत सारे ऐसे App बना दिए हैं जिसका इस्तेमाल करके हम अपने काम को आसान बना सकते हैं| 

जैसे कि हम Google Pay की मदद से घर बैठे ही बिना बैंक जाए पैसों को transfer कर सकते हैं, गूगल मैप के जरिए हम अगर कहीं रास्ता भूल जाते हैं तो रास्ते के बारे में पता लगा सकते हैं| अगर हमें किसी भाषा की जानकारी नहीं है तो हम गूगल ट्रांसलेट के जरिए उस भाषा के बारे में जान सकते हैं| इसके अलावा और भी बहुत सारे गूगल के प्रोडक्ट्स है जिनका इस्तेमाल हम अलग अलग तरीके से कर सकते हैं।

Conclusion

अब आप जान चुके हैं कि गूगल का आविष्कार किसने किया है, गूगल का आविष्कार कब हुआ है, गूगल का उपयोग क्या है, गूगल के मालिक कौन है| उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी को पढ़ने के बाद गूगल के अविष्कार और गूगल से संबंधित आपके सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे| अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट हो या फिर आप हमें कोई राय देना चाहते हैं तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं|

ये भी पढ़े:

Google क्या है?

Google AMP क्या है?

Gmail से Photo कैसे निकाले?

वेबसाइट क्या है?

FAQ (Frequently Asked Questions)

गूगल के निर्माण कर्ता कौन है?

गूगल के निर्माणकर्ता स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी कैलिफोर्निया में पढ़ रहे PHD के 2 students थे| जिनका नाम Sergey Brin और Larry Page था| वह साल 1995 में वहीं पर आपस में मिले थे और वहीं से इस सर्च इंजन की शुरुआत हुई है।

भारत में गूगल की स्थापना कब हुई थी? 

भारत में गूगल की स्थापना 4 सितंबर 1998 को हुई थी।

गूगल का मुख्यालय कहां है?

गूगल का मुख्यालय कैलिफोर्निया के माउंटेन व्यू शहर में है| यह शहर कैलिफोर्निया के सैन फ्रांसिस्को खाड़ी क्षेत्र में स्थित है।

गूगल के पिता का नाम क्या था?

गूगल की शुरुआत Sergey Brin और Larry Page की थी| तो इस तरह हम कह सकते हैं कि यह दोनों ही गूगल के जनक थे।

गूगल का पूरा नाम क्या है?

अगर हम आधिकारिक तौर पर बात करें तो गूगल का कोई भी फुल फॉर्म नहीं है परंतु फिर भी कुछ लोग समझते हैं कि गूगल का फुल फॉर्म ग्लोबल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ ओरिएंटेड ग्रुप लैंग्वेज ऑफ अर्थ है।

गूगल का हिंदी में अर्थ क्या है?

हम आपको बताना चाहेंगे कि गूगल एक अंग्रेजी का शब्द है| जिसे गलत pronounce किया गया| जिसकी वजह से इसका नाम google पड़ गया| इसका हिंदी में अर्थ होता है कि 100 शून्य को फॉलो करता हुआ 1 होता है।

1 thought on “गूगल का आविष्कार किसने किया और कब हुआ?”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top