आईएएस का फुल फॉर्म क्या है | Full Form of IAS in Hindi

दोस्तों क्या आप भी जानना चाहते हैं कि IAS का full form क्या है? IAS की समाज में क्या भूमिका है? IAS क्या करता है? यह इंफॉर्मेशन हम आपके साथ इसलिए शेयर करने जा रहे हैं क्योंकि ऐसे सवाल अक्सर ही प्रतियोगिता परीक्षा में पूछे जाते हैं| अगर आप भी किसी exam की तैयारी कर रहे है तो आपके लिए इसके बारे में जानकारी रखना बहुत जरूरी है| 

अगर आप भी IAS का फुल फॉर्म क्या है इसके बारे में नहीं जानते तो हमारे इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें क्योंकि आज के इस पोस्ट में हम आपको बताने जा रहे हैं कि IAS क्या होता है? IAS बनने के लिए कौन सी परीक्षा देनी पड़ती है? IAS कैसे बना जाता है और IAS की आयु सीमा कितनी होती है? हम आपके साथ IAS के संबंधित बेसिक इनफार्मेशन शेयर करने जा रहे हैं।

IAS ka full form in Hindi – Full form of IAS in Hindi

IAS क Full Form हिंदी मैं होता है “भारतीय प्रशासनिक सेवा“.

  • I – भारतीय (Indian)
  • A – प्रशासनिक (Administrative)
  • S – सेवा (Service)

आईएएस का पूरा नाम क्या है?

IAS का फुल फॉर्म Indian Administration Services है| आईएएस अधिकारी को भारतीय समाज में सबसे शक्ति और प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता है क्योंकि भारत में सभी सरकारी कमिश्नरी की चाबी IAS officer के हाथ में होती है| यही वजह है कि भारत के अधिकांश राज्यों में पुलिस अधिकारी भी IAS officer के अधीन ही काम करते हैं। IAS अफसर की भारत की सरकारी और administrator नौकरी के तौर पर ऊंची पोस्ट होती है जिसकी वजह से इस पोस्ट पर की सैलरी भी बहुत अच्छी होती है और साथी इस पोस्ट पर जिम्मेदारियां भी बहुत ज्यादा होती है। 

इतनी बड़ी जिम्मेदारी के लिए सही व्यक्ति का चुनाव करना भी बहुत कठिन कार्य होता है| इसलिए IAS की परीक्षा UPSC के द्वारा डिजाइन की जाती है| यह परीक्षा इस तरह से डिजाइन की जाती है कि सिर्फ प्रतिभाशाली व्यक्ति ही इसे पास कर सके।

सिविल सेवा परीक्षा में लगभग 6 लाख उम्मीदवार परीक्षा देते हैं जिसमें से केवल 1000 उम्मीदवारों को ही चुना जाता है| इस परीक्षा में ग्रेजुएट से लेकर डॉक्टर साइंटिस्ट, इंजीनियर भी परीक्षा में भाग लेते हैं| यही वजह है कि इस परीक्षा में सिलेक्शन करना भी बहुत ही ज्यादा मुश्किल कार्य हो जाता है| जिसकी वजह से इस परीक्षा को भारत की सबसे कठिन परीक्षा माना जाता है।

Indian Administrative Service (IAS) क्या होता है?

IAS को हिंदी में भारतीय प्रशासनिक सेवा कहा जाता है| IAS सेवा के तहत जिला का कलेक्टर बनाया जाता है जिसे डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट कहा जाता है| DM डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट का ही शार्ट फॉर्म DM होता है। हम आपको बताना चाहेंगे कि जिले के सर्वोच्च अधिकारी को डीएम कहा जाता हैं। DM पूरे जिले के प्रशासनिक अधिकारी होते हैं| IAS एक respectable job होती है| जिसमे आपके सिर्फ कार्य करने के तरीकों का ही नहीं बल्कि आपके व्यक्तित्व का भी बहुत बड़ा योगदान होता है। हमारे देश के अधिकांश युवा के मन में कम से कम एक बार तो IAS अधिकारी बनने की ख्वाहिश जरूर आती ही है| 

IAS बनने के लिए UPSC (सिविल सर्विसेज) की परीक्षा देनी होती है| यह परीक्षा बहुत ही ज्यादा कठिन होती है| जो भी व्यक्ति इस परीक्षा को पास करता है| उसे सिर्फ परीक्षा पास ही नहीं करना होता है बल्कि अच्छे रैंक हासिल करना होता है क्यूंकि उसके बाद ही स्टूडेंट को आईएएस की IAS मिलती है। UPSC, central civil service और विभिन्न all India services के लिए प्रत्येक वर्ष civil service examination (CSE) आयोजित करता है|

पहले से मौजूद आरक्षण श्रेणियों के अलावा इस साल union public service commission ने भारत सरकार द्वारा अनिवार्य Economically Weaker Section(EWS) के उम्मीदवारों को आरक्षण प्रदान करने के उद्देश्य से एक नई श्रेणी जोड़ी है| इस श्रेणी में उम्मीदवारों की पात्रता शर्तों को नहीं बदला गया है बल्कि इसे सामान्य उम्मीदवारों की शर्तों और पात्रता के साथ गठबंधन किया गया है।

IAS का इतिहास

IAS की शुरुआत अंग्रेजो के द्वारा की गई थी| उन्होंने इसकी शुरुआत 1858 में की थी और उस समय इसकी शुरुआत इंपीरियल सिविल सर्विस के रूप में की गई थी| परंतु बाद में साल 1950 में इसे इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस कहा जाने लगा।

भारतीय प्रशासनिक सेवा (Indian Administrative Service) के लिए आवश्यक पात्रता

IAS बनने के लिए UPSC सिविल सर्विसेज की परीक्षा को पास करना होता है और इस परीक्षा के लिए आवश्यक पात्रता कुछ इस प्रकार है:-

  • IAS officer बनने वाला व्यक्ति के पास भारतीय नागरिकता होने चाहिए। 
  • IAS की परीक्षा के लिए उस व्यक्ति के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय की डिग्री होनी चाहिए। 
  • अगर वह व्यक्ति किसी डिग्री के आखिरी साल में पढ़ रहा है तो वह भी इस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकता है| 
  • एग्रीकल्चर, MBBS, Computer, Btech स्टूडेंट भी इस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।

IAS ऑफिसर बनने के लिए कितनी आयुसीमा होती है?

  • IAS ऑफिसर बनने के लिए आयु सीमा की कुछ categories बनाई गई है जो कि इस प्रकार है। 
  • सामान्य जाति के छात्रों और उम्मीदवारों की अधिकतम उम्र 32 वर्ष रखी गई है। 
  • OBC उम्मीदवारों के लिए आयु सीमा अधिकतम 35 वर्ष रखी गई है। 
  • अनुसूचित जाति के लोगों के लिए अधिकतम उम्र 37 वर्ष रखी गई है। 
  • सामान्य जाति के शरीरक रूप से विकलांग उम्मीदवारों के लिए अधिकतम उम्र 42 वर्ष रखी गई है। 
  • OBC जाति के शारीरिक रूप से विकलांग उम्मीदवारों के लिए अधिकतम उम्र 45 वर्ष रखी गई है। 
  • अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति के शरीरक रूप से विकलांग उम्मीदवारों के लिए अधिकतम उम्र 47 वर्ष रखी गई है।

IAS अधिकारी के Role और Responsibilities

जैसे कि हमने आपको अभी बताया था कि IAS ऑफिसर कीजॉब respectable job होती है| जिसकी वजह से उस पर बहुत सारी Responsibilities भी होती है| जो कि कुछ इस प्रकार है:-

  • जिला प्रशासन को संभालना होता है। 
  • IAS ऑफिसर को सरकार के दैनिक मामलों को संभालना होता है। 
  • अपने कार्य क्षेत्र में कानून की व्यवस्था को बनाए रखना और उसको अच्छे से संभालना होता है। 
  • कलेक्टर के रूप में सरकारी राजस्व एकत्र करना होता है। 
  • सरकार को लोगों के लिए नीति बनाने के लिए सलाह देना होता है।

IAS ऑफिसर को मिलने वाले पद कोन कोन से है?  (IAS Officer Posts)

IAS Officer को जो पद मिलते है वह कुछ इस प्रकार है:-

  • जिला कलेक्टर
  • आयुक्त
  • मुख्य सचिव
  • सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों के प्रमुख
  • कैबिनेट सचिव
  • चुनाव आयुक्त आदि

IAS परीक्षा कितने प्रयासों में दी जा सकती है?

उम्मीदवार को IAS की परीक्षा के लिए कितनी बार प्रयास कर सकता है यह उसकी रिजर्वेशन की श्रेणी पर आधारित होता है क्योंकि रिजर्वेशन के आधार पर ही IAS की परीक्षा देने के लिए प्रयास करने की संख्या को निर्धारित किया गया है जाता है। 

  • अगर उम्मीदवार जनरल कैटेगरी से है तो वह 6 बार प्रयास कर सकता है। 
  • अगर उम्मीदवार OBC कैटेगरी से है तो वह 9 बार प्रयास कर सकता है| 
  • SC/ST उम्मीदवार के लिए कोई संख्या निर्धारित नहीं की गई है वह असीमित बार प्रयास कर सकता है| 
  • अगर उम्मीदवार विकलांग है या और वह General कैटेगरी या OBC कैटेगरी से है तो वह 9 बार प्रयास कर सकता है| 
  • अगर उम्मीदवार SC/ST से है और विकलांग है तो वह असीमित बार प्रयास कर सकता है।

फॉर्म भरने से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

IAS का फॉर्म भरते समय उम्मीदवार को अपनी बेसिक इनफार्मेशन को भरना होता है जैसे कि नाम, पिता का नाम, माता का नाम| इसके अलावा उसको अपने परीक्षा के लिए सेंटर को भी भरना होता है। क्योंकि यह परीक्षा देश के 72 शहरों के अलग-अलग केंद्रों में एक ही समय पर आयोजित की जाती है। इसके अलावा एक और चीज हम आपको बताना चाहेंगे कि IAS की परीक्षा भरते समय आपको एक किसी विषय को चुनना होता है| आपको आईएएस परीक्षा में के लिए मौजूद 26 विषयों में से किसी 1 विषय को चुनना होता है और साथ ही आप अपनी परीक्षा के माध्यम जैसे इंग्लिश या हिंदी का भी चयन करना होता है।

Indian Administrative Service (IAS) के लिए आवेदन कैसे करें?

IAS officer की परीक्षा के लिए अगर आपकी पात्रता पूरी है तो आप ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरीकों से परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं| परीक्षा में आवेदन करने से पहले आपको अपनी कैटेगरी के अनुसार यह चेक कर लेना है कि आपने अभी तक पहले कितने प्रयास किए हैं| अगर आप ने अभी तक कभू भी प्रयास नहीं किया है पहली बार कर रहे है तो आप परीक्षा में आवेदन कर सकते हैं| अगर आप इस से पहले भी प्रयास कर चुके हैं तो आप अपनी कैटेगरी के अनुसार प्रयास की संख्या को चेक करके उसके बाद ही आप परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं। अगर आप ऑनलाइन IAS की परीक्षा के लिए आवेदन कर रहे हैं तो आप UPSC की वेबसाइट (www.upsc.gov.in) पर जाकर भी अपना आवेदन कर सकते हैं।

IAS Exam Pattern

IAS परीक्षा के लिया exam UPSC के द्वारा आयोजित किया जाता है, IAS Exam में 3 निम्न चरण होते हैं-

  • प्रिलिमनरी
  • मेंस एग्जाम
  • इंटरव्यू

IAS (आईएएस) को मिलने वाली सुविधाएं

आईएएस ऑफिसर की जॉब को एक रिस्पेक्टबल जॉब माना जाता है| इस जॉब में सैलरी तो अच्छी मिलती है| इसके अलावा सरकार की ओर से काफी सुविधाएं भी मिलती है जैसे कि:-

  • IAS ऑफिसर को रहने के लिए घर, नौकर, माली और घर के लिए सुरक्षा भी मिलती है। 
  • IAS ऑफिसर को कार और ड्राइवर दोनों मिलते हैं| 
  • IAS ऑफिसर को पानी, बिजली, मोबाइल जैसे सभी बिल पर छूट मिलती है। 
  • IAS ऑफिसर को अपनी ड्यूटी पूरी करने के बाद आजीवन पेंशन मिलती है। 
  • IAS ऑफिसर और उसके परिवार को भारत और विदेश में मुफ्त यात्रा की सुविधा मिलती है।

IAS ऑफिसर की सैलरी क्या होती है?

IAS ऑफिसर की जॉब रिस्पेक्टबल होती है जिसकी वजह से उस पर जिम्मेदारियां भी बहुत ज्यादा होती हैं और उसको काफी अच्छी सैलरी भी मिलती है| IAS ऑफिसर की बेसिक सैलरी 56100 होती है| IAS ऑफिसर की बेसिक सैलरी के साथ DA,TA और HRA भी दिया जाता है| इस हिसाब से IAS ऑफिसर को महीने में in hand लगभग 100000 रुपये तक शुरुआती सैलरी मिल जाती है। 

जैसे-जैसे IAS ऑफिसर का एक्सपीरियंस बढ़ता जाता है उसकी पोस्ट भी बढ़ती जाती है| अगर कोई IAS ऑफिसर कैबिनेट सचिव जो कि सबसे वरिष्ठ पद होता है वहां पर पहुंच जाता है तो उसकी सैलरी लगभग 2500000 रुपए तक हो जाती है।

Conclusion

दोस्तों अब आप जान चुके होंगे कि IAS ka full form kya hai,  IAS ka pura naam क्या है, IAS क्या होता है, IAS के लिए आवश्यक पात्रता क्या है, IAS ऑफिसर बनने के लिए आयु सीमा कितनी होती है, IAS का काम क्या होता है। उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगी। अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

ये भी पढ़े:

एमबीए का फुल फॉर्म क्या है? 

INDIA का फुल फॉर्म क्या है?

OK का फुल फॉर्म क्या है?

MBA का फुल फॉर्म क्या है? 

FAQ (Frequently Asked Questions)

IAS का Full Form क्या होता है?

IAS का Full Form ‘Indian Administrative Service’ होता है। IAS को हिंदी में भारतीय प्रशासनिक सेवा कहा जाता है।

IAS अधिकारी कैरियर प्रगति?

इसके अलावा, IAS अधिकारियों को स्वायत्त संगठनों / PSU/UN संगठनों /अधीनस्थ संगठनों / international संगठनों जैसे विश्व बैंक, एशियाई विकास बैंक में विभिन्न पदों में नियुक्त किया जा सकता है| वह केंद्र सरकार में मंत्रियों के व्यक्तिगत सचिव के रूप में भी काम कर सकते हैं| इसके अलावा IAS अधिकारी राज्यों के राज्यपाल भी बन जाते हैं यह सब कुछ उनकी योग्यता पर निर्भर करता है|

आईएएस का खनन क्या है?

आईएएस का खनन “भारतीय प्रशासनिक सेवा” है| 

एक जिले में कितने IAS होते है?

IAS अधिकारी salary बहुत ज्यादा होती है| इसके साथ ही, एक क्षेत्र में केवल एक IAS अधिकारी होता है| जबकि एक क्षेत्र में IAS अधिकारी की संख्या आवश्यकता के अनुसार होती है| 

क्या आईएएस बनना बहुत कठिन है?

IAS बनना बहुत ही ज्यादा कठिन है क्योंकि IAS की परीक्षा बहुत ज्यादा कठिन होती है| इस परीक्षा को भारत की सबसे कठिन परीक्षा कहा जाता है क्योंकि इस परीक्षा में ग्रेजुएट, डॉक्टर, इंजीनियर सभी आवेदन करते हैं| इस पद पर जिम्मेदारियां इतनी ज्यादा होती है जिसकी वजह से IAS ऑफिसर को चुनने का काम भी बहुत ज्यादा मुश्किल होता है| इसीलिए इस परीक्षा को काफी मुश्किल रखा जाता है| इस परीक्षा में अगर कोई व्यक्ति 45% अंक ले जाता है तो वह IAS टॉप कर जाता है और जिसके लगभग 38% अंक आए हैं उसका IAS बनना लगभग तय हो जाता है।

IAS बनने के लिए कितना रैंक चाहिए OBC?

IAS ऑफिसर बनने के लिए उम्मीदवार के रिजर्वेशन पर निर्भर करता है कि वह कितने रैंक में IAS अफसर बन सकता है| अगर हम बात करें कि अगर जनरल कैटेगरी के उम्मीदवार को IAS बनने के लिए 90 रैंक के अंदर होना चाहिए तो वही आबक और EWS कैटेगरी के उम्मीदवार को IAS बनने के लिए कम से कम 300 रैंक के अंदर होना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top