Keyword क्या है? SEO के लिए Keyword क्यों जरुरी है?

दोस्तों के आप भी जानना चाहते हैं कि Keyword क्या है? Keyword का क्या महत्व है? वैसे तो आप ने गूगल पर पहले बहुत सर्च कर रहा होगा और बहुत सी वेबसाइट और यूट्यूब चैनल से भी Keyword के बारे में सुना होगा| जहां पर आपको सभी लोग अपने अपने तरीके से Keyword के बारे में बताते हैं कोई कुछ बताता है तो कोई कुछ बताता है जिसकी वजह से आपके मन में बहुत सारे सवाल आते होंगे कि आखिर Keyword  होता क्या है?

तो घबराइए मत आप बिलकुल सही जगह पर आए हैं| आज के अपने इस पोस्ट में हम आपको Keyword क्या होता है? Keyword कितने प्रकार का होता है? SEO में Keyword का क्या रोल है और Keyword का किसी वेबसाइट के लिए क्या रोल होता है? इनके बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप एक Beginner हैं और Blogging शुरू करना चाहते हैं या Blogging शुरू कर चुके हैं तो आप ने Keyword के बारे में थोड़ा बहुत तो पढ़ा ही होगा| 

हम आपको बताना चाहेंगे की Keyword वजह से ही Blog या Website Rank करती है और ट्रैफिक बढ़ता है| जो भी Keyword  आप अपने वेबसाइट में इस्तेमाल करते हैं उसी की मदद से search engine आपकी वेबसाइट तक पहुंचता है और आपको सर्च इंजन में results दिखाता है। 

जब भी कोई article या post लिखता है तो उसमें 5% Keyword का इस्तेमाल ही उस article को search engine में rank कराने में मदद करते हैं और उसी की वजह से उन्हें ट्रैफिक भी मिलता है| तो चलिए दोस्तों अब हम शुरू करते हैं कि Keyword  क्या होता है कि Keyword को क्या importance है।

Keyword क्या है – What is Keyword in Hindi

हम आपको बताना चाहेंगे कि Keyword एक phrase या एक sentence होता है जो आपके आर्टिकल को Describe करने के लिए Title में इस्तेमाल किया जाता है| उदाहरण के तौर पर अगर आप यह सीखना चाहता कि Online पैसा कैसे कमाते हैं तो आप गूगल पर सर्च करेंगे कि Online पैसा कैसे कमाते हैं या Blogging से पैसा कैसे कमाते हैं?  जो आप ने यह sentence सर्च करें है यह आपके Keyword है।

आप Keyword को एक phrase बोल सकते हैं| हम Keyword को पेज टाइटल नहीं बोल सकते हैं| Keyword की वजह से सर्च इंजन हमारी वेबसाइट तक पहुंचता है और हमारी वेबसाइट को सर्च इंजन में rank करवाता है| जिसकी वजह से हमारी वेबसाइट पर ट्रैफिक भी आता है| जब भी आपSeo Friendly Article लिखते हैं तो आपको phrase को Target करना होता है और इस Target phrase को ही Target Keyword कहते हैं। 

जब भी आप गूगल पर कुछ भी सर्च करते हैं तो उसके रिजल्ट में आपको बहुत सारी वेबसाइट दिखाए जाती है तो हम इन्हे भी Keyword बोल सकते हैं| तो आप सोच रहे होंगे कि फिर Keyword का article या post में क्या जरूरत होती है? उसके लिए आप हमारे पोस्ट कोअंत तक जरूर पढ़े| इस पोस्ट में हम आपके सारे सवालों के जवाब देने जा रहे हैं।

Keyword  की परिभाषा – Keyword definition in hindi

Keyword एक तरह का ख़ास शब्द या वाक्य होता है जो आपके पूरे पेज का मुख्य शब्द होता है| जिससे आपके पेज के अंदर क्या लिखा गया है उसके बारे में बताता है। आपके Keyword के आधार पर ही सर्च इंजन यूजर द्वारा ढूंढी गई query को आपके content के साथ match करवाता है| अगर आपका keyword user की query के साथ match हो जाता है तो search engine आपके web page को user को दिखा देता है| 

SEO के लिए Keywords का क्या महत्व हैं?

जब भी हम On Page SEO करते हैं तो उसके लिए Keyword का बहुत ज्यादा महत्व है क्योंकि Keyword की मदद से ही हमारा पोस्ट या आर्टिकल सर्च इंजन रिजल्ट पेज में दिखाई देता है| अगर हमें SEO की बात करें तो हम एक phrase को टारगेट करते हैं जिसको Target Keyword कहते हैं| आप सोच रहे होंगे कि उस टारगेट की Keyword को आर्टिकल में इस्तेमाल कैसे करते हैं?

सबसे पहले हम आपको बताना चाहेंगे कि हम जिस Keyword को आर्टिकल में टारगेट करने जा रहे हैं| सबसे पहले हम अपना पूरा content उस Keyword के according ही लिखेंगे| जिस से हम अपने पोस्ट के अंदर Keyword को बार-बार इस्तेमाल करेंगे जिसका फायदा यह होगा कि सर्च इंजन को हमारे पोस्ट को ढूंढने में आसानी हो जाएगी और हमारे पोस्ट को search engine में रैंक करवा देगा| अगर हमारी वेबसाइट रैंक हो जाएगी तो उस पर भी visitors आने लगेगा।

इसके अलावा आप अपने कीवर्ड को किसी एक जगह पर define कर सकते हैं जैसे कि आप अपने Keyword को Meta Description में define कर सकते हैं| आपको बताना चाहूंगा कि गूगल के Algorithm में बदलाव आते रहते हैं जिसकी वजह से गूगल आपके Keywords को Auto Detect कर लेता है।

हमें अपने आर्टिकल के लिए Meta Description कुछ इस तरह से लिखना चाहिए जिस से वह हमारे आर्टिकल के Meta Description को आसानी से पढ़ सके और साथ ही google को पढ़ने से यह भी नहीं लगना चाहिए कि उसमें जबरदस्ती से Keyword को fit करा गया है| अगर ऐसा होगा तो गूगल उसे detect कर लेगा और हमारे Meta Description में Keyword भी आर्टिकल के कंटेंट के अनुसार ही होने चाहिए| यह नहीं है कि आपका आर्टिकल मोबाइल फोन के बारे में है और आपने Meta Description में कैमरा से संबंधित Keyword का इस्तेमाल किया है| 

अगर ऐसा करोगे तो आपका पेज कभी भी सर्च इंजन में rank नहीं करेगा और आपका पेज गूगल कभी भी यूजर को नहीं दिखाएगा। साथ ही इसका यह भी नुकसान होगा users आपकी वेबसाइट पर आने के बाद वापिस चला जाता है जिस से आपकी वेबसाइट की Bounce Rate बढ़ जाएगी| अगर  Bounce Rate बढ़ जाएगी तो इसका गूगल को negative signal जाएगा| जिससे आपकी वेबसाइट ban हो सकती है| अब आप सोच रहे होंगे कि अपने पोस्ट में कितनी बार Keyword को repeat करना चाहिए या कितनी बार होनी चाहिए।

अब आप सोच रहे होंगे कि Keyword की page ranking क्या होती है| page ranking कौन तय करता है| सबसे पहले हम आपको बताना चाहेंगे कि page ranking को इंसान तय नहीं करता है और न ही गूगल का कोई employee तय करता है| Keyword की page ranking Machine तय करती है जिसको हम Algorithm कहते हैं| जिसमें decision लेने की ability होती है।

हम यह भी कह सकते हैं कि जब भी आप अपने किसी Keyword को गूगल सर्च इंजन में सर्च करते हैं तो उस Keyword के अनुसार गूगल आपको सर्च इंजन में results दिखाएगा| उन results के अनुसार वहां पर आपकी वेबसाइट की एक position होगी| उस समय जो भी पोजीशन आपकी गूगल दिखा रहा है वह आपकी वेबसाइट की ranking होगी| 

इसके अलावा आपको बहुत सारे online tools मिल जाएंगे जैसे कि aherf, semrush etc. जिस से आप अपने वेबसाइट का url डाल कर चेक कर सकते हैं कि आपकी वेबसाइट किन-किन की Keyword पर rank कर रही है|  यह तो था कि Keyword क्या होता है? अब आप सोच रहे होंगे कि Keyword कितने प्रकार के होते हैं।

Keyword Research क्या होता है?

जब भी कोई blogger किसी टॉपिक के ऊपर content लिखना शुरू करता है तो सबसे पहले उस कंटेंट से related blogger keyword research करता है और चेक करता है कि जिसकी Keyword के ऊपर वह कंटेंट लिखने जा रहा है उसको लोग सर्च कर रहे हैं या नहीं और अगर सर्च कर रहे हैं तो उसका competition कितना है| उस Keyword पर कितनी CPC मिल रही है क्योंकि अगर लोग उस Keyword को सर्च कर रहे होंगे तभी आप की वेबसाइट पर ट्रैफिक आएग| अगर आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक आएगा और उसकी CPC अच्छी होगी तभी आप blogging से पैसा कमा सकते हैं|

अगर आप बिना Keyword Research करें ब्लॉग लिखना शुरु कर देते हैं और उस Keyword को अगर  कोई अगर सर्च नहीं कर रहा है और उसका volume भी नहीं है तो हो सकता है कि जो आपने इतनी मेहनत करके blog लिखा है| उस पर ट्रैफिक ना आए| अगर आपके blog पर ट्रैफिक नहीं आएगा तो आपको उस blog से पैसा भी नहीं बनेगा| इसलिए blog लिखने से पहले आपको Keyword Research करनी होगी| Keyword Research रिसर्च के लिए आप Google Adwords, Ubersuggest, Wordtracker का भी इस्तेमाल कर सकते हैं|

Types Of Keyword Used in SEO

Generic Keyword

जब भी हम अपने पोस्ट में single word keyword का इस्तेमाल करते हैं तो उसे Generic Keyword कहा जाता है| Generic Keyword होने की वजह से उसका मीनिंग स्पष्ट नहीं होता है| मतलब कि उसका exact पता नहीं चलता है कि किस के बारे में information है| 

उदाहरण के तौर पर “Smartphone”, “Festival”, “Blogging यह सारे Generic Keyword है| ये basicallyपूरे ग्रुप को represent करते हैं क्योंकि उनके खुद के अंदर ही बहुत साड़ी Category होती है। Generic phrase keyword का volume बहुत ज्यादा होता है और उसका कंपटीशन low होता है परंतु फिर भी Generic Keyword को रैंक करवाना बहुत ही ज्यादा मुश्किल होता है|

Informative keyword

ऐसे keywords जो अपने आप में ही एक question होते हैं| ऐसे keyword को हम informative keyword बोलते हैं| user इस प्रकार के keyword का इस्तेमाल अपने question का direct answer ढूंढने के लिए इस्तेमाल करता है| उदाहरण के तौर “Shoes meaning”, “What is blogging” इस प्रकार के keyword के लिए snippet को लांच किया गया था| जब भी कोई यूजर ऐसे informative keyword को सर्च इंजन में ढूंढता है तो उसका रिजल्ट डायरेक्ट snippet में दिखा दिया जाता है। 

Short Tail Keyword

Short Tail Keyword 1 से 3 words के होते हैं इसलिए उनको Short Tail Keyword बोला जाता है| उदाहरण के तौर पर online पैसे कमाए, ebook download,  हिंदी मूवी डाउनलोड। ऊपर बताए गए उदाहरण में हमने 3 words या 3 से कम words के Keyword का इस्तेमाल किया है| यह आपके short tail में आते हैं।

Long Tail Keywords

वह Keywords जिनकी length 3 words से ज्यादा होती है उन्हें long-tail keywords कहा जाता है| उदाहरण के तौर पर घर बैठे online पैसा कैसे कमाए, facebook से पैसा कैसे कमाए, 1 महीने में blogging  कैसे सीखे? यह सारे long-tail keywords में आते हैं| जब भी हम कोई नया आर्टिकल लिखना शुरू करते हैं तो हमें शुरुआत में long-tail keywords पर ही focus करना चाहिए| आमतौर पर सभी blogger long-tail keywords पर ही focus करते हैं क्योंकि short tail keywords के मुकाबले Long Tail Keywords rank करना आसान होता है। 

यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि “घर बैठे ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए” एक Long Tail Keyword है परन्तु “online पैसे कमाए” यह एक short tail keywords है| जब आप long-tail keyword को रैंक करवाते है तो आपका short tail keyword भी धीरे धीरे रैंक होना शुरू हो जाते हैं|

LSI Keyword क्या होता है?

LSI Keyword का पूरा नाम Latent Semantic Keyword होता है| यह एक Method है| जिसके जरिए आप की पोस्ट के अंदर इस्तेमाल किए गए Keyword और content के रिलेशनशिप का पता लगा सकते हैं| जब भी Search Engine bots Crawl करते हैं| जितने भी common शब्द या phrase है।  identify करता है| पोस्ट के अंदर Phrase stuffing हुए है या नहीं यह भी LSI के जरिये ही पता लगाया जता है| 

LSI आपके आर्टिकल के title के साथ मिलते जुलते है content को ढूंढता है और यह पता लगाता है कि यह शब्द आपके content में कितनी बार इस्तेमाल किए गए| आप अपने पोस्ट के अंदर phrase Title को Random जगह पर इस्तेमाल करके सर्च इंजन को बेवकूफ नहीं बना सकते हैं।

उदाहरण के तौर पर आप ने एक पोस्ट laptop के ऊपर लिखा है जिसका टाइटल में आप ने Budget Laptops का इस्तेमाल किया है तो LSI आपके टाइटल से रिलेटेड शब्द को कंटेंट के अंदर ढूंढ लेता है जैसे कि “Laptop Price” “Inexpensive Laptop” “Cost Effective Laptop”  जैसे शब्द को सर्च कर लेता है|

LSI Keyword कैसे काम करता है?

जब भी कोई यूजर कोई word या sentence सर्च इंजन में डालकर सर्च करता है तो सर्च इंजन में रिजल्ट पेज ओपन होता है| जिसमें बहुत सारी वेबसाइट दिखाई देती है परंतु सर्च इंजन के बिल्कुल नीचे वाले भाग में कुछ keywords दिखाए जाते हैं इनको LSI keywords कहा जाता है।

अगर आप गूगल सर्च इंजन के नीचे दिखाई दे रहे related search queries में से या 1-2 LSI keywords को अपने पेज के कंटेंट में इस्तेमाल करते हैं तो गूगल उसको बेस्ट समझता है और ऐसे कंटेंट को गूगल आसानी से रैंक भी करवा देता है।

Keyword Density क्या होता है?

Keyboard density आपके पोस्ट के अंदर इस्तेमाल किए गए content-length के ऊपर निर्भर करता है| मान लीजिए अगर आपके पोस्ट में 100 words का content इस्तेमाल किया गया है तो उसमें अगर हम 3 बार keyword का इस्तेमाल करते हैं तो हम कह सकते हैं कि Keyword Density 3% है| आपके आर्टिकल में Keyword Density जितनी ज्यादा होगी SEO के लिए आप वह काफी अच्छे संकेत होंगे| 

जब भी bots आपकी वेबसाइट के पोस्ट पर आता है तो वह आपके Keywords को crawl करता है और वह check करता है कि आपका कौन सा Keyword rank कर रहा है और वह आप ने अपने पोस्ट में कितनी बार इस्तेमाल किया है| हो सके तो आप अपने पोस्ट के अंदर 1-2% ही keyword density का इस्तेमाल करें| अगर आप ज्यादा keyword density का इस्तेमाल करते हैं तो उससे आपके पेज में केKeyword Stuffing हो जाएगी| जिससे आप का page rank नहीं करेगा| आपको ज्यादा से ज्यादा अपने Main Keyword पर focus करना होगा ताकि आपका page जल्दी से सर्च इंजन में rank हो जाए और ध्यान रहे शुरुआत में जब भी आपने अपना कोई article लिखना है तो आप ने हमेशा long-tail keywords को ही target करना है।

Keyword Stuffing क्या होता है?

परंतु अगर आप एक ही कीवर्ड को बार-बार इस्तेमाल करते हैं तो उसको Keyword Stuffing कहा जाता है जो कि SEO के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं होती है| इसका नतीजा यह निकलता है कि आपकी पोस्ट या article सर्च इंजन में rank नहीं करता

Keyword Placement कहाँ होना चाहिए?

जब भी हम एक lengthy पोस्ट लिखते हैं तो उसके अंदर Keyword को इस्तेमाल करना होता है| वह कहां पर इस्तेमाल करना है और पेज के कौन कौन से भाग में इस्तेमाल करना है वह ध्यान रखने लायक बात होती है| अगर आप भी चाहते हैं कि आपका पोस्ट सर्च इंजन में रैंक हो जाए तो आपको नीचे बताए हुए जगह पर अपने keyword को हमेशा इस्तेमाल करना होगा।

  • हमेशा अपने Keyword को टाइटल में रखें। 
  • अपने पोस्ट के पहले paragraph में Keyword का इस्तेमाल करें| 
  • आप अपने webpage में जितनी भी images का इस्तेमाल कर रहे हो उन images के ALT Tag लगाए और उनमें Keyword का इस्तेमाल करें। 
  • अपने पेज के Heading Tags जैसे कि H1, H2, H3 में Keyword का इस्तेमाल करें। 
  • हमेशा अपने पोस्ट की keyword density को ध्यान में रखें। 

अगर आप ऊपर बताए गए जगह पर अच्छे से keyword का इस्तेमाल करते हैं तो आपका Seo Friendly Article बन जाता है और आपके पोस्ट के सर्च इंजन में रैंक करने के चांस बढ़ जाते हैं। 

परंतु एक बात ध्यान रखने लायक होगी कि आप जब भी अपना कोई पोस्ट लिखते हैं तो आपका कंटेंट हमेशा fresh और unique होना चाहिए| अगर आप duplicate content का इस्तेमाल करेंगे तो आपका पोस्ट कभी भी rank नहीं होगा और हो सकता है कि आपकी वेबसाइट पर penalty लग जाए और आपकी website ban भी हो सकती है| इसलिए हमेशा fresh और unique content का इस्तेमाल ही करें|

Conclusion

दोस्तों अब आप जान चुके हैं कि Keyword क्या है, SEO में Keyword का क्या मतलब है, Keyword कितने प्रकार का होता है, Keyword Stuffing क्या होती है, Keyword Density क्या होती है, Keyword placement कहां होना चाहिए,  पोस्ट में कितनी बार Keyword का इस्तेमाल करना चाहिए। उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगी और आपको भी Keyword को समझने और Keyword का इस्तेमाल करने में आसानी होगी| अगर आपको हमारे द्वारा शेयर करी गई जानकारी से संबंधित कोई भी डाउट हो तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं|

ये भी पढ़े:

Microsoft Windows क्या है?

Google AMP क्या है?

Social Media क्या है?

Email क्या है?

2 thoughts on “Keyword क्या है? SEO के लिए Keyword क्यों जरुरी है?”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top