शेयर मार्किट क्या है? कैसे सीखें | What is Share Market in Hindi

What is Share Market in Hindi: क्या आप लोग जानते है कि शेयर मार्किट क्या है? इसका क्या फायदा है और इसके बारे में हम आपको आज पूरी जानकारी प्रदान करेंगे| आज हम आपको बताएंगे कि कैसे लोग शेयर मार्किट से पैसा कैसे कमा रहे है|

आज के समय में पैसा सारे कमाना चाहते है और हर इंसान पैसा कमाने के लिए कुछ ना कुछ करता रहता है| कुछ लोग पैसा कमाने के लिए नौकरी करते है, कुछ लोग खुद का बिज़नेस कर रहे है और कुछ ऐसे लोग भी है जो पैसा कमाने के लिए पैसे को ही दाव पर लगा रहे है|  

आज के समय में पैसा का इतना ज्यादा महत्व हो गया है कि जिस इंसान के पास पैसा है उसी के पास आज के समय इज्जत, घर, दौलत, रिश्तेदार, दोस्त यह सब है और पैसा नहीं है तो कुछ भी नहीं है| 

जैसे की हमने आपको बताया था कि कुछ लोग पैसा दाव पर लगा कर पैसा कमा रहे है तो आप सोच रहे होंगे कि वह कौन सी जगह है| जी है शेयर मार्किट या शेयर बाजार भी कह सकते है| तो आज हम आपको बताएँगे की Share Market in Hindi और शेयर मार्केट के बारे में जानकारी (Basic Knowledge of Share Market) भी प्रदान करेंगे| 

शेयर मार्किट क्या है? What is Share Market in Hindi?

सबसे पहले आज हम आपको बताएँगे की शेयर मार्किट क्या है और लोग इसमें कैसे पैसा कमाते है| शेयर मार्किट और स्टॉक मार्किट एक ऐसी मार्केट है जहां लोग कंपनियों के शेयर खरीदते है| जिसका मतलब यह हुआ कि आपने जिस भी कंपनी के जितने शेयर खरीदे है आप उस कंपनी के उतने प्रतिशत मालिक बन जाते है|

अब आप सोच रहे होंगे तो इसमें हमें क्या फायदा होगा  पैसा कमा सकते है| जैसे की जब आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते है तो आपकी भी उस कंपनी में हिस्सेदारी हो जाती है और भविष्य में अगर वह कंपनी मुनाफा कमाने है तो आपको भी फायदा होगा और हो सकता है आपके पैसे दोगुने हो जाये और अगर कंपनी को घाटा होता है तो आप अपने सारे पैसे गवां भी सकते है|

इसलिए शेयर मार्किट एक जोखम से भरी हुई मार्किट है और बिना जानकारी के अहा पैसा लगाना उतना ही ज्यादा जोखम लेना होगा| यही वजह है कि लोग यहाँ पैसे भी बहुत कमाते है और कुछ लोग यहाँ अपना सारा पैसा घवा भी देते है| तो यहाँ पैसा कमाना और गवाना दोनों ही आसान है|

BSE/NSE लिस्ट क्या होती है?

किसी भी कंपनी के शेयर का मूल्य क्या है? और कंपनी के शेयरों के मूल्य के अनुसार उनके लाभ और घाटे की क्षमता कितनी है और उस क्षमता के अनुसार उनका लाभ घटता है या बढ़ता रहता है|  यह सारी जानकारी एक लिस्ट में दर्ज करी जाती है और इस लिस्ट को BSE/NSE लिस्ट कहते हैं। सभी शेयर बाजार (Stock Market) का नियंत्रण भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी या SEBI) के हाथ में होता है| 

अगर किसी कंपनी ने शेयर मार्केट में लिस्ट होना है तो उसे SEBI की अनुमति चाहिए होती है बिना SEBI की अनुमति के वह शेयर बाजार में लिस्ट नहीं हो सकती और लिस्ट होने के बाद प्रारंभिक निर्गम इश्यू (आईपीओ या IPO) जारी कर सकती है। हर कंपनी तिमाही/छमाही या सालाना के आधार पर जो भी मुनाफा कमाती है उसका लाभांश हिस्सा धारकों को देती है।  इसके अलावा कंपनी की गतिविधियों की जानकारी आपको SEBI और BSE/NSE की वेबसाइट पर भी उपलब्ध होती है।

कोई कंपनी BSE/NSE में कैसे लिस्ट होती है?

जब भी किसी कंपनी को शेयर मार्केट में लिस्ट होना होता है तो उसके लिए सबसे पहले लिखित समझौता करना पड़ता है उसके बाद कंपनी पूंजी बाजार SEBI के पास अपने सारे जरूरी दस्तावेजों को जमा करवाती है दस्तावेज जमा होने के बाद उन सभी दस्तावेजों की जांच करती है और सभी शर्तों के पूरा हो जाने पर ही कोई भी कंपनी में लिस्ट हो जाती है।

लिस्ट होने के बाद जब कंपनी अपने शेयर बेचना शुरु कर देती है तो उसकी सारी गतिविधियों की जानकारी शेयर बाजार को समय-समय पर देती रहती है इसमें खासतौर पर वह सारी जानकारियां शामिल होती हैं जिस से निवेशकों के हित को प्रभावित होते हैं।

Share के कितने प्रकार के होते है? 

भारत में मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं और उनकी जानकारी हम नीचे अपनी लिस्ट के जरिए आपके साथ शेयर कर रहे है| 

  • इक्विटी शेयर (Equity Share)
  • प्रेफेरेंस शेयर (Preference share)
  • डीवीआर शेयर (DVR Share)

शेयर बाज़ार में शेयर कब खरीदें? How to invest in share market in Hindi?

अब आपको थोड़ा बहुत तो पता चल ही गया होगा कि शेयर मार्किट क्या है? अब हम आपको बताते है कि शेयर मार्किट में पैसे कब लगाना चाहिए| पैसा लगाने से पहले आपको इसके बारे में ज्ञान होना जरुरी है कि कोनसी कंपनी के शेयर ऊपर को बढ़ रहे है और कोनसी कंपनी के शेयर नीचे की और जा रहे है| इससे आपको पता चल जायेगा कि कोनसी कंपनी फायदे में चल रही है और कौनसी कंपनी इस समय घाटे में चल रही है| 

अब आप सोच रहे होंगे कि कंपनी के शेयर की जानकारी हम कैसे लगा सकते है तो इसके लिए आप NDTV Business न्यूज़ चैनल देख सकते हैं या फिर economic times जैसे newspaper पढ़ सकते हैं| यहाँ से आपको शेयर मार्किट के उतर चढ़ाव की जानकारी मिल जाएगी| जब तक आपको शेयर मार्किट के बारे में जानकारी न हो इसमें invest ना करे| 

जानकारी मिलने के बाद और शेयर मार्किट की समझ आने के बाद भी इसमें तब पैसा लगाए जब आपकी आर्थिक स्थिति थोड़ी अच्छी हो यह हमने आपको इस लिए कहा अगर कही आपको घाटा हो भी जाता है और स्थिति अच्छी हुई तो आपको इतना महसूस नहीं होगा| नहीं तो आप जानते ही है कि घाटाइंसान की जमापूंजी को भी ख़त्म कर देता है| 

नहीं तो ऐसा भी कर सकते है कि आप शेयर मार्किट में थोड़े पैसे को इन्वेस्ट कर सकते है ताकि आपको आगे जाकर ज्यादा नुक्सान ना हो   और समय के साथ जैसे जैसे आपको शेयर मार्किट में experience होता जायेगा वैसे वैसे आप अपने निवेश को और भी बढ़ा सकते है|

इसके अलावा सबसे ज्यादा ध्यान रखने वाली बात यह है कि आप जिस कंपनी के शेयर खरीदने लगे है उस कंपनी के बारे मे पूरी जानकारी ले क्यूंकि शेयर मार्किट में धोखा मिलना कोई बड़ी बात नहीं है| कभी कभी क्या होता है कि आपने जिस कंपनी के शेयर पर पैसा लगाया होता यही वह फर्जी कंपनी भी हो सकती है जिस से वह कंपनी मार्किट से कभी भी भाग सकती है और अगर ऐसा होता है तो आपका लगाया हुआ सारा पैसा डूब जाता है इसलिए पैसे लगाने से पहले कंपनी के background के बारे में भी मालूम होना बहुत जरुरी है|  

शेयर मार्किट में पैसे कैसे लगाये? How to invest money in share market?

अगर आप शेयर मार्किट में पैसा लगाना चाहते है तो आपके पास Demat Account का होना जरूरी है और शेयर मार्किट में पैसा इन्वेस्ट करने के भी 2 तरीके है| पहला तरीका आप पैसा इन्वेस्ट करने के लिए किसी broker की मदद ले सकते है यानि आप broker के पास जाकर Demat Account खोल सकते है| 

Demat Account क्या है?

अब आप सोच रहे होंगे कि Demat Account क्या होता है? यह एक प्रकार का अकाउंट ही होता है जैसा हमारे बैंक में अकाउंट होता है और यह अकाउंट आपके बैंक के सेविंग अकाउंट के साथ में लिंक होता है| 

Demat Account को क्यों बनाया जाता है क्योंकि अगर आप ने शेयर खरीदने है तो उसके लिए Demat Account में पैसे रखे जाते है और इस पैसे को आप शेयर मार्किट में निवेश कर सकते है| इसलिए आपके पास Demat Account का होना अनिवार्य है|

Demat Account कैसे खोला जाता है?

Demat Account खोलने के लिए आपके पास बैंक में सेविंग अकाउंट होना जरूरी है और साथ में proof के लिए आपके पास pan card की कॉपी और कोई भी address proof होना चाहिए|

दूसरा तरीका यह है कि आप किसी भी बैंक में जा कर demat account को ओपन करवा सकते है| 

परन्तु अगर ज्यादा बेहतर यह होगा की आप अपना demat account किसी broker से ही खुलवाये क्योंकि इस से आपका ही फायदा होगा एक तो आपको अच्छी सपोर्ट मिलेगी और दूसरा आपके निवेश के मुताबिक broker आपको अच्छी कंपनी भी suggest करते है जहाँ आपको पैसा लगाना चाहिए| परन्तु ऐसा करने के लिए ब्रोकर आपसे कुछ पैसा भी लेगा| 

अगर हम भारत की बात करे तो भारत में केवल 2 ही स्टॉक एक्सचेंज कम्पनिया है एक है Bombay stock exchange (BSE) और National stock exchange (NSE) और सारे शेयर यही पर खरीदे और बेचे जाते है और यह सरे शेयर brokers की मदद से खरीदे और बेचे जाते है और यह broker स्टॉक मार्किट के सदस्य होते है जो स्टॉक मार्किट की ट्रेडिंग करते है| इसके अलावा अगर आप इस brokers के जरिये शेयर खरीदना या बेचना नहीं चाहते तो आप सीधे stock market में जा कर भी खरीद और बेच सकते है| 

Support Level क्या होता है?

अगर विशेषगो की माने तो asset के सभी lowest lows को ध्यान में रख कर उस time period के दौरान simple support level को चार्ट करने के लिए एक लाइन को draw किया जाता है|

यह support लाइन overall price trend के हिसाब से सीधी भी हो सकती है और up या down भी हो सकती है| और वही दूसरी और एडवांस versions के Support Level को identify करने के लिए technical indicators और charting techniques का इस्तेमाल भी किया जाता है|

Resistance Level क्या होता है?

Resistance या resistance level एक ऐसा प्राइस पॉइंट होता है जहाँ asset की price rise में रुकावट देखने को मिलती है क्यूंकि उस समय बहुत सारे सेलर अपने asset उसी कीमत पर बेचना चाहते है| वही resistance की line फ्लैट होगी या up down होगी  Price Action पर निर्भर करता है| और ऐसे में resistance incorporating bands, trendlines और moving averages को identify करने के लिए काफी advanced techniques हैं| 

Support Level और Resistance Level में क्या अंतर होता है?

अगर आप स्टॉक मार्किट में पैसा लगा रहे है या लगाना चाहते है तो स्टॉक मार्किट के 2 important parameter के बारे में भी मालूम होना जरूरी है| Support और Resistance किसी स्टॉक के चार्ट में दो अलग अलग प्राइस पॉइंट्स होते है| उनके बीच क्या अंतर है इसकी जानकारी नीचे दी गई है| 

Support level Calculation

अब अब हम आपको सपोर्ट लेवल कैलकुलेशन (Support level Calculation) के बारे में बताएंगे स्पोर्ट प्राइस चार्ट प्राइस पॉइंट का वह चार्ट होता है जहां पर Buyer की संख्या से Seller की संख्या के मुकाबले में ज्यादा होने की संभावना होती है और इसी वजह से स्टॉक का भाव या स्टॉक प्राइस (Stock Price) पॉइंट ऊपर की तरफ जाने की संभावना ज्यादा होती है। 

और वहीं दूसरी तरफ Resistance प्राइस चार्ट वह प्राइस चार्ट होता है जहां पर Buyer की संख्या Seller की संख्या के मुकाबले में कम होती है इसलिए उसका स्टॉक भाव भी कम होता है और उसकी नीचे की गिरने की संभावना होती है।

जब यह प्राइस चार्ट Support और Resistance level में से किसी एक को भी भंग करता है तब इस सिचुएशन को trading opportunity consider किया जाता है|

शेयर मार्केट डाउन क्यों होता है?

  • जैसे की हम जानते हैं कि शेयर मार्केट कभी भी एक जैसा नहीं रहता। शेयर मार्केट कभी ऊपर और कभी नीचे चलता रहता है परंतु इसके कुछ कारण हो सकते हैं और वह हम आपके साथ नीचे शेयर करेंगे।
  • जैसे कि आपको मालूम ही होगा अगर कोई भी विपदा देश में आती है तो उससे बिज़नेस को भी काफी असर पड़ता है तो इसकी वजह से कभी-कभी तो कुछ बिज़नेस बंद भी हो जाते हैं और कुछ बिज़नेस को काफी नुकसान भी सहना पड़ता है जैसे कि अभी देश में कोरोना वायरस की विपदा आ गई है और इसकी वजह से लोगों के Behaviour में भी काफी बदलाव देखने को मिल रहा है और वही कुछ बिज़नस अपनी Short Term Earning के लिए अपने शेयर को बेच देते हैं इस वजह से शेयर मार्केट में उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है।
  • अभी तक इस कोरोना वायरस का कोई भी solution मौजूद नहीं है जिसकी वजह से शेयर मार्केट में भारी मात्रा में गिरावट देखने को मिल रही है।
  • वही जब global risk aversion के दौरान ईटीएफ (foreign institutional investors) जैसी बड़ी कंपनी शेयर को बेचने लगती है तो इससे शेयर मार्केट में भी काफी गिरावट देखने को मिलती है उन्होंने मार्च महीने में लगभग 25000 करोड़ के स्टोक्स को बेच दिया है। 

शेयर मार्केट का गणित क्या है? Secrets of Stock Market?

शेयर मार्केट में काफी Secret छुपे होते हैं अगर आप शेयर मार्केट में काफी समय से एक्टिव है और स्टॉक मार्केट के बारे में जानकारी रखते हैं तो आपको शेयर मार्केट के कुछ खास सीक्रेट के बारे में जरूर पता होना चाहिए|  अगर आपको इसके बारे में नहीं मालूम है तो आप हमारे द्वारा बताई गई जानकारी को ध्यान से पढ़े और यहाँ से आपको कुछ ना कुछ इसमें से सीखने को जरूर मिलेगा।

शेयर मार्केट के वह ख़ास विषय कौन से हैं उसकी जानकारी नीचे बताई गई है

  • शेयर मार्केट को देखने से लगता है कि इसमें पैसा बनाना बिल्कुल आसान है परंतु ऐसा नहीं होता क्योंकि इसके अंदर एक और insider trading होता है और मार्केट को इसके बारे में आपसे ज्यादा पता होता है। और इसी वजह से हर खरीदार के लिए एक विक्रेता जरूर होता है परंतु इसका यह मतलब नहीं कि आप इस शेयर मार्केट से पैसा कमा नहीं सकते आप पैसा कमा सकते हैं लेकिन थोड़ा कठिन होता है।
  • शेयर मार्केट में ऐसी कोई भी स्ट्रेटेजी नहीं है जिससे यह सुनिश्चित हो जाए कि आपको मुनाफा ही होगा इसलिए आप जब भी उसमें इन्वेस्ट करते हैं तो आपको value strategy का हिसाब रखना होता है नहीं तो momentum strategy का हिसाब तो रखना होता है।
  • आपको खुद स्टॉक मार्केट के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी प्राप्त करनी चाहिए ना कि दूसरे लोगों में ज्यादा ध्यान देना चाहिए।
  • स्टॉक मार्केट में सही तरीके से ट्रेड या इन्वेस्ट करना बिल्कुल भी आसान नहीं होता अगर आपको ट्रेड करने में मजा आ रहा है तो इसका मतलब जरूर आप कहीं ना कहीं कुछ गलती कर रहे हैं।
  • स्टॉक मार्केट में लगभग 90% लोगों को ट्रेडिंग के बारे में जानकारी नहीं होती वह सिर्फ दूसरे लोगों को फॉलो करके पैसा कमाना चाहते हैं।
  • स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने से पहले आपको स्टॉक फंडामेंटल एनालिसिस के बारे में जानकारी होनी चाहिए।
  • इन्वेस्टर को इन्वेस्ट करने से पहले कंपनी की एनुअल रिपोर्ट कैसे पढ़ी जाती है और उनके फाइनेंसर टाइम को कैसे समझा जाता है इसके बारे में जरूर सीखना चाहिए।
  • स्टॉक मार्केट दिखने में जितना आसान लगता है वह वैसा नहीं है| शुरुआत में तो आप किसी भी इंसान को फॉलो करके इन्वेस्ट कर सकते हो लेकिन आगे जाकर आपको खुद अपनी strategy बनानी पड़ेगी नहीं तो आपको आगे जाकर इसका भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।
  • किसी भी कंपनी के स्टॉक में इन्वेस्ट करने से पहले आपको उस कंपनी के स्टॉक के बारे में जानकारी होनी चाहिए और उसके बारे में खुद को अपडेट भी रखना होगा।
  • जैसे स्टॉक को खरीदते समय आप सही समय का इंतजार करते हैं ठीक उसी तरह स्टॉक को बेचने के लिए भी  इस बात की जानकारी का होना अनिवार्य है।

भारत में कितने शेयर बाजार है?

भारत देश में अभी 2 main एक्सचेंज या शेयर बाजार हैं। 

BSE – Bombay Stock Exchange

NSE – National Stock Exchange

शेयर ब्रोकर स्टॉक एक्सचेंज के ही सदस्य होते हैं अगर आम जनता ने शेयर खरीदने हैं तो डायरेक्ट स्टॉक मार्केट से नहीं खरीद सकता इसको शेयर खरीदने के लिए इन ब्रोकर की सहायता लेनी पड़ती है।

शेयर मार्केट कैसे सीखे?

हमने आपको बताया कि शेयर मार्केट से कैसे पैसा बनाया जा सकता है और कितनी जल्दी पैसा बनाया जा सकता है और गवाया भी जा सकता है| जैसे कि हम जानते हैं कि आज के समय में हर इंसान अमीर बनना चाहता है ताकि वह अपनी खुशियों को पूरा कर सके अपनी जरूरतों को पूरा कर सके और इसीलिए वह ऐसे बहुत से तरीकों को ढूंढता रहता है| जिससे वह जल्दी अमीर बन जाए और उसके जीवन में वह सारी खुशियां उसको मिल जाए।

हमने आपको बताया कि शेयर मार्केट से कैसे पैसा बनाया जा सकता है और कितनी जल्दी पैसा बनाया जा सकता है और गवाया भी जा सकता है| जैसे कि हम जानते हैं कि आज के समय में हर इंसान अमीर बनना चाहता है ताकि वह अपनी खुशियों को पूरा कर सके अपनी जरूरतों को पूरा कर सके और इसीलिए वह ऐसे बहुत से तरीकों को ढूंढता रहता है| जिससे वह जल्दी अमीर बन जाए और उसके जीवन में वह सारी खुशियां उसको मिल जाए।

उन्हीं तरीकों में से शेयर मार्केट एक है जिससे लोगों को लगता है कि शेयर मार्केट के जरिए हम करोड़ो रुपए कुछ समय में ही बना सकते हैं। इसलिए वह लोग शेयर मार्केट के बारे में जानकारी लेना शुरू कर देते हैं शेयर मार्केट को कैसे सीखा जाए शेयर मार्केट के टिप्स क्या है इसके बारे में लोगों से पूछते रहते हैं और जानकारी हासिल करते रहते हैं। हम जानते हैं कि किसी भी चीज को सीखने में कुछ समय तो लगता है ऐसा नहीं है कि आप आज स्टॉक मार्केट को सीखना शुरू कर दें और कुछ दिनों में आप उस में माहिर हो जाएंगे। आज हम आपके साथ शेयर मार्केट के कुछ ऐसे ही टिप्स की जानकारी शेयर करेंगे जो हर एक Beginning Investor को मालूम होना जरूरी है और वह जानकारी कुछ इस प्रकार है।

किसी भी बिजनेस को करने से पहले उसके बारे में जानकारी का होना जरूरी है। ऐसे ही स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने से पहले सबसे पहले आपको उसके बारे में सही तरीके से जानकारी का होना जरूरी है और जानकारी मिलने के बाद ही आप उसमें अपना पैसा इन्वेस्ट करना शुरू करें। 

अपने बेसिक को क्लियर करें।

अन्य बिजनेस की तरह शेयर मार्केट के भी कुछ बेसिक होते हैं|  जिन्हें आप जैसे सभी इन्वेस्टर को अच्छे से सीखना चाहिए और उसके बाद ही शेयर मार्केट में आपको पैसा इन्वेस्ट करना चाहिए। बेसिक की जानकारी होने के बाद अगर आप पैसा इन्वेस्ट करते हैं तभी आपकी इन्वेस्टमेंट सफल बन सकती है।

अपना रिसर्च खुद करें।

शेयर मार्केट में रिसर्च करने के लिए लोग अक्सर ही दूसरे experience persons को सुनना या टीवी पर उनको देखना शुरू कर देते हैं और उनसे नॉलेज लेना शुरू कर देते हैं। अगर उनकी बातें इतनी ही सही होती और उनकी Perdict करने की क्षमता इतनी ही ज्यादा होती तो वह लोग घर बैठे खुद ही पैसा कमा रहे होते। तो दूसरे लोगों को सुनने की बजाय शेयर मार्केट की रिसर्च खुद करें उसके बारे में जानकारी प्राप्त करें उसके बाद ही उसमें इन्वेस्ट करने की सोचे।

अपने रिस्क टोलरेंस को समझें।

हम सभी जानते हैं कि शेयर मार्केट बहुत रिस्की है और उसमें पैसा इन्वेस्ट करना भी उतना ही रिस्की है। आपको अपने रिस्क टोलरेंस मतलब कि आपको अपने रिस्क लेने की सीमा के बारे में पता होना चाहिए कि आप कितना रिस्क ले सकते हैं। अगर इस बारे में खुद को ही मालूम नहीं होगा और आप ज्यादा इन्वेस्ट कर देते हैं और उसमें आपको loss मिलता है तो उस स्थिति में आप अपना सारा पैसा गवाह सकते हैं और आप कंगाल भी हो सकते हैं। इसलिए आपको अपने रिस्क टोलरेंस के मुताबिक ही पैसा इन्वेस्ट करना चाहिए।

Long Term Goal सेट करें।

अगर आप शेयर मार्केट में पैसा इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो आपको हमेशा लोंग टर्म इन्वेस्टमेंट के बारे में ही सोचना चाहिए। अगर आप आज पैसा लगा कर कुछ दिनों में उस पैसे को डबल या फिर इन्वेस्टमेंट से ज्यादा profit होने की उम्मीद कर रहे हैं तो यह गलत होगा इसलिए आप स्टॉक मार्केट में लोंग टर्म इन्वेस्टमेंट के साथ ही शुरू करें तभी आपको इसका प्रॉफिट मिल सकता है।

शेयर मार्केट के बारे में रिसर्च और प्लानिंग करें।

किसी भी फील्ड में जाने के लिए इसके बारे में रिसर्च करना बहुत जरूरी है और फिर उसकी प्लानिंग करना भी उतना ही जरूरी है| अगर आप लॉन्ग टर्म success के बारे में सोच रहे हैं और स्टॉक मार्केट में रिसर्च और प्लानिंग करके ही अपना पैसा इन्वेस्ट करते हैं तो उस समय आपकी यह रिसर्च और प्लानिंग ही काम आएगी। और वहीं दूसरी ओर किसी भी शेयर को खरीदने से पहले उस शेयर की या फिर जिस कंपनी का शेयर है उसके बारे में जानकारी जरूर लें और उस कंपनी के बारे में अच्छे तरीके से रिसर्च करें और रिसर्च पूरी होने के बाद ही उसमें अपना पैसा इन्वेस्ट करें।

खुद के इमोशंस को कंट्रोल करें।

शेयर मार्केट में पैसा इन्वेस्ट करने से पहले आपको अपने इमोशंस को कंट्रोल करना सीखना होगा। क्योंकि अगर आप इमोशन में आकर बिना कोई जानकारी के किसी भी कंपनी का शेयर खरीदते हैं तो आपको उसका काफी भारी नुकसान भी हो सकता है इसलिए आपको अपने इमोशन पर कंट्रोल करना होगा उसके बाद ही आप एक अच्छे इन्वेस्टर बन सकते हैं। और इससे आपको स्टॉक मार्केट में फायदा या नुकसान दोनों में से कुछ भी हो सकता है परंतु अगर आप बिना सोचे और इमोशन को कंट्रोल करें बिना पैसा इन्वेस्ट करेंगे तो वहां पर आप अधिकतम नुकसान ही होगा।

अपनी Investments को Diversify करें| 

अगर आप एक अच्छे investor बनना चाहते हैं और अपनी इन्वेस्टमेंट का ज्यादा फायदा उठाना चाहते हैं और साथ में यह भी चाहते हैं कि आपको अगर नुकसान भी हो तो वह कम से कम हो तो उसके लिए आपको अपनी इन्वेस्टमेंट को Diversify करना आना चाहिए। Diversify का मतलब यह हुआ कि आपको अपनी इन्वेस्टमेंट को किसी एक शेयर में ही invest नहीं करना चाहिए आपको अलग-अलग category के शेयर में अपनी इन्वेस्टमेंट करनी चाहिए| इससे अगर आपका कोई शेयर loss में जाता है तो उस स्थिति में आपका सारा पैसा नहीं डूबेगा सिर्फ उसी शेयर का पैसा घाटे में जायेगा|  जिससे आपके नुकसान होने का रिस्क भी कम हो जाएगा और इतना ज्यादा घाटा भी नहीं पड़ेगा इसलिए Investments को Diversify करना जरूरी है।

अच्छी कंपनी के शेयर पर इन्वेस्टमेंट करें।

आपको हमेशा उस कंपनी के शेयर पर इन्वेस्टमेंट करनी चाहिए जिस कंपनी के बारे में आपको जानकारी है उसके शेयर के बारे में जानकारी है उसके प्रोडक्ट के बारे में जानकारी है बिना सोचे समझे और किसी के बहकावे में आकर आपको कभी भी कोई भी शेयर नहीं खरीदना चाहिए।

शेयर मार्किट कब बढ़ता है और कब घटता है?

शेयर मार्केट के घटने बढ़ने का मुख्य कारण शेयर मार्केट की डिमांड और सप्लाई पर निर्भर करता है।

  • जब भी आप शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने के बारे में सोचते है और किसी से बात करते है तो आपको दो अलग-अलग किस्म के लोग मिलेंगे। एक वह जो सोचते हैं कि मार्केट अभी बढ़ेगा और ऊपर जाएगा और कुछ लोग होंगे जो सोचते हैं कि मार्केट इस समय घटेगा| इसे समझने के लिए नीचे बताई गई दो बातों को समझना आवश्यक है
  • अगर डिमांड सप्लाई से बढ़ जाता है जहां Exceed हो जाता है तो उस समय शेयर की कीमत में बढ़ोतरी होती है। 
  • वहीं दूसरी तरफ अगर सप्लाई डिमांड से ज्यादा हो जाती है जब बढ़ जाती है तो उस समय कीमत में गिरावट देखने को मिलती है।

ये भी पढ़े:

Marksheet Loan कैसे ले?

How To Make Money Online For Beginners?

Default image
Rohit Kumar
Hey, This is Rohit Kumar the founder of We Love Write. I am a Digital Marketing Expert and a Content Creator. I love to write on facts with deep research in Hindi. Do comment and share my content if you find this useful.
Articles: 44

Leave a Reply